पुष्प बनकर क्या करूँगी

09 अक्तूबर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (455 बार पढ़ा जा चुका है)

पुष्प बनकर क्या करूँगी

सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....

पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्प का सौरभ मुझे दो |
दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||
हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,
हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |
बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,
थक सके ना धूप वारि वात से जो |
भ्रमर बनकर क्या करूँगी, भ्रमर का गुँजार दे दो ||
उठ सके हर कोई ऊँचा उस गगन से,
लख सकें कमनीयता सब निज नयन से |
जल सके ना सूर्य के भी ताप से जो,
खो सके ना चन्द्र के उल्लास में जो |
विहग बनकर क्या करूँगी, विहग का आभास दे दो ||
मध्यधारों को भी तर जाए यहाँ जो,
तट से टकरा कर भी गिर पाए नहीं जो |
कितने आकर्षण मिलें उसको जगत में,
मोह में ना बंध सके उनके कभी जो |
लहर बनकर क्या करूँगी, नाव का आधार दे दो ||
दुःख में सुख में और भय में या अभय में
या जगत के कर्णभेदी कोलाहल में
ध्वनि न पड़ पाए कभी भी मन्द जिसकी
ताल लय से हो विमुख पाए नहीं जो |
गीत बनकर क्या करूँगी, गीत का आलाप दे दो ||

अगला लेख: ध्यान और उसका अभ्यास - स्वामी वेदभारती जी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 सितम्बर 2019
30 सितम्बर से 6 अक्टूबर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक
29 सितम्बर 2019
24 सितम्बर 2019
मंगल का कन्या में गोचरकल 25 सितम्बरयानी आश्विन कृष्ण एकादशी को प्रातः छह बजकर चौंतीस मिनट के लगभग मंगल अपने मित्र सूर्यकी सिंह राशि से निकल कर शत्रु ग्रह बुध की राशि कन्या में प्रस्थान कर जाएगा |मंगल इस समय उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र पर होगा तथा अस्त होगा | इस प्रस्थान के समय बालवकरण और शिव योग होगा | क
24 सितम्बर 2019
13 अक्तूबर 2019
मि
कोई तकदीर से मिलते हैं तो कोई दुआ से कोई चाहत से मिलते हैं तो कोई तकरार से कोई कोशिश से मिलते हैं तो कोई मजबूरी से ज़िन्दगी की राहों में मिलना तो तै हैं चाहे वो कैसे भी हो. ...
13 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
आओ बैठे आज फिर साथज़िंदगी की किताब के कुछ पन्ने फिर पलटेंकुछ अफ़साने तुम कहोकुछ क़िस्से हम सुनायेंकुछ लम्हे तुम जियो कुछ पल हम दोहराएँकुछ भूली हुई यादें,तुम ताज़ा करो कुछ स्मृतियाँ हम संजोयें कुछ क़समें तुम तोड़ो कुछ वादों से हम मुकरेंकुछ दूरियाँ तुम मिटाओकुछ फ़ासले हम तय करेंकुछ नज़दीक तुम आओ कुछ क
12 अक्तूबर 2019
26 सितम्बर 2019
ध्यान और उसका अभ्यासभूमिका पिछले कुछ दशकों में ध्यान हमारे आधुनिक जीवन और हमारेशब्दकोष का एक सदस्य बन गया है | चिकित्सक, मनोवैज्ञानिक और अन्य व्यवसायी तनाव से मुक्ति दिलाने, स्वास्थ्य को सही बनाए रखने और सृजनात्मकता तथा ऊर्जा में वृद्धि के लिएएक प्रभावशाली साधन के रूप में ध्यान का समर्थन करते हैं |
26 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
शरद् नवरात्रि की तिथियाँ शनिवार 28 सितम्बर - आश्विन कृष्ण अमावस्या – महालयाके नाम से भी जिसे जाना जाता है - हम सभी अपने समस्त पितृगणों को श्रद्धापूर्वकविदा करेंगे – इस निवेदन के साथ कि हमारा आतिथ्य स्वीकार करने इसी प्रकार आतेरहेंगे और अपना आशीर्वाद हम पर सदा बनाए रखेंगे | उसके दूसरे दिन यानी रविवार
26 सितम्बर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
25 सितम्बर 2019
नवरात्रोंमें घट स्थापना आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी 29 सितम्बर रविवार से समस्त हिन्दू सम्प्रदाय में हर घर में माँ भगवती कीपूजा अर्चना का नव दिवसीय उत्सव शारदीय नवरात्र के रूप में आरम्भ हो जाएगा |सर्वप्रथम सभी को शारदीय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...भारतीय वैदिक परम्परा के अनुसार किसीभी धार्मिक
25 सितम्बर 2019
04 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackM
04 अक्तूबर 2019
03 अक्तूबर 2019
रात अभी बहुत कुछ बाकी हैरात होने को आई आधी हैलिखना बाकी अभी प्रभाती हैनक्षत्र "विशाखा" ऋतु- ''शरद" शुभकारी हैकल 'पंचमी', नक्षत्र अनुराधा, कन्या साथी हैस्वर्ण आभुषण प्रिये को देता पर प्लाटिनम-कार्ड खाली हैकवि उदास, कह लेता हूँ मृदु 'दो शब्द', कहना काफी हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
03 अक्तूबर 2019
02 अक्तूबर 2019
पंचमा स्कन्दमाता नवदुर्गा – पञ्चम नवरात्र – देवीके स्कन्दमाता रूप की उपासना सौम्या सौम्यतराशेष सौम्येभ्यस्त्वतिसुन्दरी, परापराणां परमा त्वमेव परमेश्वरी |पञ्चमस्कन्दमातेति – देवी का पञ्चम स्वरूप स्कन्दमाता के रूप में जाना जाता है औरनवरात्र के पाँचवें दिन माँ दुर्गा के इसी स्वरूप की उपासना की जाती है।
02 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x