दर्द का रिश्ता

12 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (474 बार पढ़ा जा चुका है)

दर्द का रिश्ता दिल से है,

और दिल का रिश्ता है तुमसे !

बरसों से भूला बिसरा,

इक चेहरा मिलता है तुमसे !


यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,

मुस्काने की आदत है ।

काँटों से बिंधकर फूलों को,

चुन लाने की आदत है ।

पर मन के आँगन, गुलमोहर

शायद खिलता है तुमसे !

बरसों से भूला बिसरा,

इक चेहरा मिलता है तुमसे !


धूमिल से उन तारों में जब,

मेरा नाम लिखा तुम देखो,

भूरी चिड़िया के गायन में,

मेरे ही स्वर को अवरेखो !

तब बस इतना ही कह देना -

"वक्त बहलता है तुमसे" !

बरसों से भूला बिसरा,

इक चेहरा मिलता है तुमसे !


निर्मलता की उपमा से,

क्यों प्रेम मलीन करूँ अपना,

तुम जानो अपनी सीमाएँ,

मैं जानूँ, तुम हो सपना !

साथ छोड़कर मत जाना,

भटकाव सँभलता है तुमसे !

बरसों से भूला बिसरा,

इक चेहरा मिलता है तुमसे !


अगला लेख: आई, दिवाली आई !



आलोक सिन्हा
12 अक्तूबर 2019

यह एक और बहुत अच्छा गीत है आपका -- सरस , सुगठित , सराहनीय | इसके लिए बधाई शुभ कामनाएं दोनों |

मीना शर्मा
12 अक्तूबर 2019

आदरणीय सिन्हा जी, सादर प्रणाम। बहुत बहुत आभारी हूँ मनोबल बढ़ाने के लिए।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?ना संसारी, ना बैरागी, जल सम बहते जाना है,बादल जैसे
14 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लडकिया चिडिया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!-
09 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
साँझ - बेलाविदा ले रहा दिनकरपंछी सब लौटे घर,तरूवर पर अब उनकामेेला है !दीप जले हैं घर - घरतुलसी चौरे, मंदिर,अंजुरि भर सुख का येखेला है !रात की रानी खिलीकौन आया इस गली,संध्या की कातर-सीबेला है !मिल रहे प्रकाश औ
22 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
आई दिवाली फिर से आई,शुरू हो गई साफ सफाई,आई दिवाली आई !साफ सफाई सीमित घर तक,रस्तों पर कचरे का जमघट,बाजारों की फीकी रौनक,मिली नहीं है अब तक बोनस,कैसे बने मिठाई !आई दिवाली आई !हुआ दिवाली महँगा सौदा,पनप रहा ईर्ष्या का पौधा,पहले सा ना वह अपनापन,हुआ दिखावे का अब प्रचलन,खत्म
13 अक्तूबर 2019
28 सितम्बर 2019
भागीरथी की धार सी,कल्पांत तक मैं बहूँगीअपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँगी।वंचना विषपान करना हीमेरी नियति में है,पर मेरा विश्वास निशिदिनप्रेम की प्रगति में है।संवेदना की बूँद बन मैं,हर नयन में रहूँगी !अपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँ
28 सितम्बर 2019
03 अक्तूबर 2019
रात अभी बहुत कुछ बाकी हैरात होने को आई आधी हैलिखना बाकी अभी प्रभाती हैनक्षत्र "विशाखा" ऋतु- ''शरद" शुभकारी हैकल 'पंचमी', नक्षत्र अनुराधा, कन्या साथी हैस्वर्ण आभुषण प्रिये को देता पर प्लाटिनम-कार्ड खाली हैकवि उदास, कह लेता हूँ मृदु 'दो शब्द', कहना काफी हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
03 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x