आई, दिवाली आई !

13 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (4636 बार पढ़ा जा चुका है)

आई दिवाली फिर से आई,

शुरू हो गई साफ सफाई,

आई दिवाली आई !


साफ सफाई सीमित घर तक,

रस्तों पर कचरे का जमघट,

बाजारों की फीकी रौनक,

मिली नहीं है अब तक बोनस,

कैसे बने मिठाई !

आई दिवाली आई !


हुआ दिवाली महँगा सौदा,

पनप रहा ईर्ष्या का पौधा,

पहले सा ना वह अपनापन,

हुआ दिखावे का अब प्रचलन,

खत्म हुई पहुनाई !


कभी धमाके से आती थी,

खूब पटाखों में छाती थी,

मीठा मन था मीठी बोली,

अब कैसी दीवाली, होली !!!


बेबस चेहरों की मायूसी,

मजदूरों की देख उदासी,

सारी खुशियाँ आँख चुरातीं,

त्योहारों की खानापूर्ती,

करती है महँगाई !

आई दिवाली आई !






अगला लेख: दर्द का रिश्ता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
दिवाली का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली से कुछ ही दिन बचे है। इस बार दिवाली रविवार २७, अक्टूबर को है। दिवाली के ठीक २ दिन पहले धनतेरस को बड़े धूम से मनाया जाता है। इस दिन मान्यता है की भगवान् धनतेरस का जन्म हुआ था। अधिकतर लोग इसी दिन नए गहने, और अन्य समान की
21 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लडकिया चिडिया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!-
09 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
इस बार अक्टूबर का पूरा महीना व्रत-त्यौहार के नाम है. हिन्दू पंचांग के अनुसार इस महीने में बड़े-बड़े त्यौहार और व्रत मनाये जायेगे. इस महीने में बड़े पर्व में नवरात्रि, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहार है. महीने के शुरुआती दिनों में ही माँ दुर्गा के नवरात्री उत्सव मना रहे है. नवरात
01 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
03 अक्तूबर 2019
रात अभी बहुत कुछ बाकी हैरात होने को आई आधी हैलिखना बाकी अभी प्रभाती हैनक्षत्र "विशाखा" ऋतु- ''शरद" शुभकारी हैकल 'पंचमी', नक्षत्र अनुराधा, कन्या साथी हैस्वर्ण आभुषण प्रिये को देता पर प्लाटिनम-कार्ड खाली हैकवि उदास, कह लेता हूँ मृदु 'दो शब्द', कहना काफी हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
03 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
चिड़िया प्रेरणास्कूल का पहला दिन । नया सत्र,नए विद्यार्थी।कक्षा में प्रवेश करते ही लगभग पचास खिले फूलों से चेहरों ने उत्सुकता भरी आँखों और प
23 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
जब बात मेरी तेरे कानों में कहता होगा चाँदइस दुनिया के कितने ताने, सहता होगा चाँद...कभी साथ में हमने-तुमने उसको जी भर देखा थाआज साथ में हमको, देखा करता होगा चाँद...यही सोचकर
17 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
27 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w
27 अक्तूबर 2019
28 सितम्बर 2019
भागीरथी की धार सी,कल्पांत तक मैं बहूँगीअपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँगी।वंचना विषपान करना हीमेरी नियति में है,पर मेरा विश्वास निशिदिनप्रेम की प्रगति में है।संवेदना की बूँद बन मैं,हर नयन में रहूँगी !अपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँ
28 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x