जब शरद आए

13 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (4716 बार पढ़ा जा चुका है)


ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनी

मुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी!

कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए,

सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!


गेंदा-गुलाब फूलें, चंपा-चमेली,

मस्त पवन वृक्षों संग,करती अठखेली!

वनदेवी रूप नए, क्षण-क्षण दिखलाए,

सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!



परदेसी पाखी आए, पाहुन बनकर,

वन-तड़ाग,बाग-बाग, पंछियों के घर!

मुखरित, गुंजित, मोहित,वृक्ष औ' लताएँ,

सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!


लौट गईं नीड़ों को, बक-पंक्ति शुभ्र,

छिटकी नभ में, धवल चाँदनी निरभ्र!

रजनी के वसन जड़ीं हीरक कणिकाएँ,

सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!


अगला लेख: दर्द का रिश्ता



रेणु
18 अक्तूबर 2019

परदेसी पाखी आए, पाहुन बनकर,
वन-तड़ाग,बाग-बाग, पंछियों के घर!
मुखरित, गुंजित, मोहित,वृक्ष औ' लताएँ,
सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!
प्रिय मीना बहन , अच्छे से शरद आई नहीं पर आपकी रचना में शरद ऋतू के दर्शन हो गये | छायावादी कवियों की याद दिलाती सुंदर रचना के लिए हार्दिक शुभकामनायें और आभार |

Shashi Gupta
16 अक्तूबर 2019

बहुत सुंदर रचना मीना दी

कामिनी सिन्हा
14 अक्तूबर 2019

पूर्णिमा का चाँद तो आपकी रचना में दिखने लगा ,बिलकुल वैसी ही शीतलता प्रदान करती रचना ,सादर नमन मीना जी

अलोक सिन्हा
14 अक्तूबर 2019

बहुत अच्छी पंक्तियाँ हैं विषय का निर्वहन करते हुए |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
शरद पूर्णिमारविवार तेरह अक्तूबरको आश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है का मोहकपर्व है | और इसके साथ ही पन्द्रह दिनों बाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल आरम्भहो जाएगी | आज अर्द्धरात्र्योत्तर 12:36 परपूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी और कल अर्द्धरात्र्योत्तर 2:38 तकरहेगी | देश के अलग
11 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
वै
https://duniaabhiabhi.com/a-sensitive-mind-is-needed-for-literature/
13 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लडकिया चिडिया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!-
09 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
जब बात मेरी तेरे कानों में कहता होगा चाँदइस दुनिया के कितने ताने, सहता होगा चाँद...कभी साथ में हमने-तुमने उसको जी भर देखा थाआज साथ में हमको, देखा करता होगा चाँद...यही सोचकर
17 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
https://duniaabhiabhi.com/2121-2-do-this-remedy-for-chandradosh-on-this-sharad-purnima/
11 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?ना संसारी, ना बैरागी, जल सम बहते जाना है,बादल जैसे
14 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
जी
*🌹श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम🌷* *जय श्रीमन्नारायण* *जय श्री राधे राधे* समस्त मित्रों को शरद पूर्णिमा की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं आज बड़ा ही पावन दिवस है भागवत जी के अनुसार आज के ही दिन भगवान श्री राधाबल्लभ सरकार ने रासलीला का आयोजन किया यह लीला आज के ही दिन हुई और कहते हैं इस दिन चंद्र देव ने
13 अक्तूबर 2019
28 सितम्बर 2019
भागीरथी की धार सी,कल्पांत तक मैं बहूँगीअपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँगी।वंचना विषपान करना हीमेरी नियति में है,पर मेरा विश्वास निशिदिनप्रेम की प्रगति में है।संवेदना की बूँद बन मैं,हर नयन में रहूँगी !अपराजिता ही थी सदाअपराजिता ही रहूँ
28 सितम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x