जब शरद आए

13 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (4647 बार पढ़ा जा चुका है)


ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनी

मुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी!

कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए,

सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!


गेंदा-गुलाब फूलें, चंपा-चमेली,

मस्त पवन वृक्षों संग,करती अठखेली!

वनदेवी रूप नए, क्षण-क्षण दिखलाए,

सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!



परदेसी पाखी आए, पाहुन बनकर,

वन-तड़ाग,बाग-बाग, पंछियों के घर!

मुखरित, गुंजित, मोहित,वृक्ष औ' लताएँ,

सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!


लौट गईं नीड़ों को, बक-पंक्ति शुभ्र,

छिटकी नभ में, धवल चाँदनी निरभ्र!

रजनी के वसन जड़ीं हीरक कणिकाएँ,

सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!


अगला लेख: दर्द का रिश्ता



रेणु
18 अक्तूबर 2019

परदेसी पाखी आए, पाहुन बनकर,
वन-तड़ाग,बाग-बाग, पंछियों के घर!
मुखरित, गुंजित, मोहित,वृक्ष औ' लताएँ,
सुमनों से सजे सृष्टि, जब शरद आए!!!
प्रिय मीना बहन , अच्छे से शरद आई नहीं पर आपकी रचना में शरद ऋतू के दर्शन हो गये | छायावादी कवियों की याद दिलाती सुंदर रचना के लिए हार्दिक शुभकामनायें और आभार |

Shashi Gupta
16 अक्तूबर 2019

बहुत सुंदर रचना मीना दी

कामिनी सिन्हा
14 अक्तूबर 2019

पूर्णिमा का चाँद तो आपकी रचना में दिखने लगा ,बिलकुल वैसी ही शीतलता प्रदान करती रचना ,सादर नमन मीना जी

अलोक सिन्हा
14 अक्तूबर 2019

बहुत अच्छी पंक्तियाँ हैं विषय का निर्वहन करते हुए |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
https://duniaabhiabhi.com/2121-2-do-this-remedy-for-chandradosh-on-this-sharad-purnima/
11 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
साँझ - बेलाविदा ले रहा दिनकरपंछी सब लौटे घर,तरूवर पर अब उनकामेेला है !दीप जले हैं घर - घरतुलसी चौरे, मंदिर,अंजुरि भर सुख का येखेला है !रात की रानी खिलीकौन आया इस गली,संध्या की कातर-सीबेला है !मिल रहे प्रकाश औ
22 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
आई दिवाली फिर से आई,शुरू हो गई साफ सफाई,आई दिवाली आई !साफ सफाई सीमित घर तक,रस्तों पर कचरे का जमघट,बाजारों की फीकी रौनक,मिली नहीं है अब तक बोनस,कैसे बने मिठाई !आई दिवाली आई !हुआ दिवाली महँगा सौदा,पनप रहा ईर्ष्या का पौधा,पहले सा ना वह अपनापन,हुआ दिखावे का अब प्रचलन,खत्म
13 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
https://duniaabhiabhi.com/2121-2-do-this-remedy-for-chandradosh-on-this-sharad-purnima/
11 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
वै
https://duniaabhiabhi.com/a-sensitive-mind-is-needed-for-literature/
13 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
इस बार अक्टूबर का पूरा महीना व्रत-त्यौहार के नाम है. हिन्दू पंचांग के अनुसार इस महीने में बड़े-बड़े त्यौहार और व्रत मनाये जायेगे. इस महीने में बड़े पर्व में नवरात्रि, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहार है. महीने के शुरुआती दिनों में ही माँ दुर्गा के नवरात्री उत्सव मना रहे है. नवरात
01 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लड़किया चिड़िया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!--/data/user/0/com.samsung.andr
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
17 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
28 सितम्बर 2019
09 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x