मन रे !अपना कहाँ ठिकाना है!!!

14 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (4224 बार पढ़ा जा चुका है)


मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?

ना संसारी, ना बैरागी, जल सम बहते जाना है,

बादल जैसे संग पवन के,यहाँ वहाँ उड़ जाना है !

जोगी जैसे अलख जगाते, नई राह मुड़ जाना है !

नहीं घरौंदा, ना ही डेरा, धूनी नहीं रमाना है !

मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?


मोहित होकर रह निर्मोही, निद्रित होकर भी जागृत!

चुन असार से सार मना रे, विष को पीकर बन अमृत !

काहे सोचे, कौन हमारा,कच्चा ताना बाना है!

टूटा तार, बिखर गई वीणा,फिर भी तुझको गाना है!!!

मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?


सपनों की इस नगरी में, कब तक भटकेगा दर दर ?

स्वप्न को सत्य समझकर रह जाएगा यहीं उलझकर!

निकल जाल से, क्रूर काल से तुझको आँख मिलाना है!

नाटक खत्म हुआ तो भ्रम का परदा भी गिर जाना है!

मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?



अगला लेख: दर्द का रिश्ता



रेणु
18 अक्तूबर 2019

मोहित होकर रह निर्मोही, निद्रित होकर भी जागृत!

चुन असार से सार मना रे, विष को पीकर बन अमृत !
काहे सोचे, कौन हमारा,कच्चा ताना बाना है!
टूटा तार, बिखर गई वीणा,फिर भी तुझको गाना है!!!
मन रे,अपना कहाँ ठिकाना है?
वैराग्य भाव जागृत करती भावपूर्ण रचना

Shashi Gupta
17 अक्तूबर 2019

जीवन दर्शन

आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 17 अक्टूबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


अलोक सिन्हा
15 अक्तूबर 2019

यह एक और सरस व् सराहनीय रचना है आपकी | बस ऐसे ही लिखती रहिये | बहुत बहुत शुभ कामनाएं |

कुसुम कोठारी
15 अक्तूबर 2019

परिंदों सी है उडान
पाहुना है मन
इत उत डोलत फिरे
लाखों करो जतन
मन बावरे को कैसे .
बहुत सुंदर सृजन मीना जी
एक एक भाव सटीक और सार्थक।
सुंदर सरस काव्य।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
लडकिया चिडिया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!-
09 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
ये मन... ये मन बिन डोर की पतंग, ये मन... इस का कोई ओर न छोर, ले चले चहुंओर। ये मन... कभी खुद से, तो कभी खुदा से, करें गिले शिकवे.. ये मन... ख्वाबों, चाहतों के बाग करें हरे, तो कभी इन्हीं के घाव लिए फिरे। ये मन... कभी लगे मनका(मोती), तो कभी लगे मण का( बोझिल)। ये मन... अदा भी इसी से, तबहा भी इसी से। य
11 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
आई दिवाली फिर से आई,शुरू हो गई साफ सफाई,आई दिवाली आई !साफ सफाई सीमित घर तक,रस्तों पर कचरे का जमघट,बाजारों की फीकी रौनक,मिली नहीं है अब तक बोनस,कैसे बने मिठाई !आई दिवाली आई !हुआ दिवाली महँगा सौदा,पनप रहा ईर्ष्या का पौधा,पहले सा ना वह अपनापन,हुआ दिखावे का अब प्रचलन,खत्म
13 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackM
04 अक्तूबर 2019
03 अक्तूबर 2019
रात अभी बहुत कुछ बाकी हैरात होने को आई आधी हैलिखना बाकी अभी प्रभाती हैनक्षत्र "विशाखा" ऋतु- ''शरद" शुभकारी हैकल 'पंचमी', नक्षत्र अनुराधा, कन्या साथी हैस्वर्ण आभुषण प्रिये को देता पर प्लाटिनम-कार्ड खाली हैकवि उदास, कह लेता हूँ मृदु 'दो शब्द', कहना काफी हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
03 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
दिल लगाया भी किससे जिसके पास दिल ही नहीं, बात अपने मन की करते है पर वो भी दिल से नहीं. (आलिम)
14 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
मानव मन की बात ही क्या, पता नहीं कब कौन सी बात उसके मन को भा जाए और कब कौन की बात उसके दिल में घर कर जाए, कहां नहीं जा सकता। कब वह आकाश की ऊंचाइयों को छूने की कल्पना करने लगे और कब वह धड़ाम से जमीन पर आ गिरे। आज तक कोई भी मानव मन की थाह तो क्या, उसके एक अंश को भी नहीं जान पाया। आपका प्रिय आपकी कौन सी
04 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x