कहता होगा चाँद

17 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (3252 बार पढ़ा जा चुका है)


जब बात मेरी तेरे कानों में कहता होगा चाँद

इस दुनिया के कितने ताने, सहता होगा चाँद...


कभी साथ में हमने-तुमने उसको जी भर देखा था

आज साथ में हमको, देखा करता होगा चाँद...


यही सोचकर बड़ी देर झोली फैलाए खड़ी रही,

पीले पत्ते सा अब, नीचे गिरता होगा चाँद...


अँबवा की डाली के पीछे, बादल के उस टुकड़े में,

छुप्पा-छुप्पी क्यों बच्चों सी, करता होगा चाँद...


मेरे जैसा कोई पागल, बंद ना कर ले मुट्ठी में,

यही सोचकर दूर-दूर, यूँ रहता होगा चाँद...

=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=-=

अगला लेख: दर्द का रिश्ता



शिल्पा रोंघे
02 नवम्बर 2019

सुंदर कविता

अलोक सिन्हा
18 अक्तूबर 2019

बहुत अच्छी रचना है | हर तरह अपने में पूर्ण | बधाई भी , शुभ कामनाएं भी |

रेणु
18 अक्तूबर 2019

कभी साथ में हमने-तुमने उसको जी भर देखा था
आज साथ में हमको, देखा करता होगा चाँद...
वाह ! बहुत ही प्यारी सरस सरल सी रचना प्रिय मीना बहन | शब्द नगरी पर आपका जलवा देखकर बहुत खुश | मेरी शुभकामनायें आपके लिए |

Sudha Devrani
17 अक्तूबर 2019

वाह!!!!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अक्तूबर 2019
ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनीमुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी!कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए,सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!गेंदा-गुलाब फूलें, चंपा-चमेली,मस्त पवन वृक्षों संग,करती अठखेली!वनदेवी रूप नए, क्षण-क्षण दिखलाए,सुमनों से सजे सृष्
13 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
आओ बैठे आज फिर साथज़िंदगी की किताब के कुछ पन्ने फिर पलटेंकुछ अफ़साने तुम कहोकुछ क़िस्से हम सुनायेंकुछ लम्हे तुम जियो कुछ पल हम दोहराएँकुछ भूली हुई यादें,तुम ताज़ा करो कुछ स्मृतियाँ हम संजोयें कुछ क़समें तुम तोड़ो कुछ वादों से हम मुकरेंकुछ दूरियाँ तुम मिटाओकुछ फ़ासले हम तय करेंकुछ नज़दीक तुम आओ कुछ क
12 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लड़किया चिड़िया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!--/data/user/0/com.samsung.andr
09 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
मि
कोई तकदीर से मिलते हैं तो कोई दुआ से कोई चाहत से मिलते हैं तो कोई तकरार से कोई कोशिश से मिलते हैं तो कोई मजबूरी से ज़िन्दगी की राहों में मिलना तो तै हैं चाहे वो कैसे भी हो. ...
13 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
चिड़िया प्रेरणास्कूल का पहला दिन । नया सत्र,नए विद्यार्थी।कक्षा में प्रवेश करते ही लगभग पचास खिले फूलों से चेहरों ने उत्सुकता भरी आँखों और प
23 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x