तुमने ऐसा क्यों किया ?

18 अक्तूबर 2019   |  अमित कुमार सोनी   (424 बार पढ़ा जा चुका है)

यह कविता मेरी दूसरी पुस्तक " क़यामत की रात " से है . इसमें प्रेम औ रदाम्पत्य जीवन के उतार-चढ़ाव पर जीवनसाथी द्वारा साथ छोड़ देने पर उत्पन्न हुए दुःख का वर्णन है .


तुमने ऐसा क्यों किया


जीवन की इस फुलवारी में, इस उम्र की चारदीवारी में।

आकर वसंत भी चले गये, पतझड़ भी आकर चले गये।

जब साथ ना सॉंसों ने छोड़ा, उम्मीद ने भी दम ना तोड़ा।

तुम हाथ छुड़ाकर चले गये, पर तुमने ऐसा क्यों किया?


जीवन बस मीठा शहद नहीं, जीवन विष का प्याला भी है।

कहीं फूल बिछे हैं राहों में, कहीं पत्थर और ज्वाला भी है।

सुख और दुःख आते-जाते हैं, ढंग जीवन का निराला भी है।

तुम साथ चले बस थोड़ी दूर, पर तुमने ऐसा क्यों किया?


तुमसे किस बात का अब शिकवा, हम तुमको समझ ना पाये थे।

कलियों संग भाग्य ने कॉंटे दिये, मैंने वो सब अपनाये थे।

जब अपनों ने मुझको छोड़ा, तुम अपने बनकर आये थे।

फिर करके पराया छोड़ गये, पर तुमने ऐसा क्यों किया?


यदि दुःख ही मुझको देना था, तो अपना बनकर ना देते।

इतने दुःख सहे हैं जीवन में, कि थोड़े और भी सह लेते।

अपने विश्वास के दीपक से, मैं लड़ता था अंधियारों से।

दीपक वो बुझाकर चले गये, पर तुमने ऐसा क्यों किया?


मैं पुतला नहीं हूँ माटी का, जो टूटकर बिखर जाऊॅंगा।

खुद को समेट लूँगा फिर से, दीपक जो बुझा जलाऊॅंगा।

छोड़ा जिस मोड़ पे तुमने मुझे, उससे आगे बढ़ जाऊॅंगा।

तब तुम अतीत रह जाओगे, पर तुमने ऐसा क्यों किया?


इस समय की अविरल धारा में, जीवन आगे ही चलता है।

हैं जीवन पथ में मोड़ बहुत, पर जीवन आगे बढ़ता है।

पर एक दिन ऐसा आता है, जीवन आईना दिखाता है।

वो आईना तुमसे पूछेगा, कि तुमने ऐसा क्यों किया?

~~~~~******~~~~~

Kayamat Ki Raat

अगला लेख: पत्थर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
लडकिया चिडिया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!-
09 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
A
चलो थोड़ी मनमर्ज़ियाँ करते हैं पंख लगा कही उड़ आते हैंयूँ तो ज़रूरतें रास्ता रोके रखेंगी हमेशापर उन ज़रूरतों को पीछे छोड़थोड़ा चादर के बाहर पैर फैलाते हैंपंख लगा कही उड़ आते हैंये जो शर्मों हया का बंधनबेड़ियाँ बन रोक लेता हैमेरी परवाज़ों कोचलो उसे सागर में कही डूबा आते हैंपंख लगा
12 अक्तूबर 2019
26 अक्तूबर 2019
जी
जीवन एक रास्ते जैसा लगता है मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभीहर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता कब तक और
26 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
लड़किया चिड़िया होती हैं, पर पंख नही होते लडकियों के। मायके भी होते हैं, ससुराल भी होते हैं; पर घर नहीं होते लडकियों के। माँ-बाप कहते हैं बेटियां तो पराई हैं, ससुराल वाले कहते है कि ये पराये घर से आई हैं। भगवान! अब तु ही बता- ये बेटियां किस घर के लिए तुने बनाई हैं। <!--/data/user/0/com.samsung.andr
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x