फलादेश

20 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (2536 बार पढ़ा जा चुका है)

फलादेश

69 वें "जन्म दिन" पर मेरा शुभकारी "फलादेश

सूर्य में राहु का उपद्रव- 2020 के बाद सुधार

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

कहते सुना सबसे कि मैंने खोया हीं खोया।

टघरते आँसुओं की धार- पीया हीं पीया।।

दिल हुआ छलनी, वज़ूद ज़ार - ज़ार हुआ।

सब खोया मगर, तेरा मैं तेरा "प्यार" हुआ।।

शौहरत-दौलत की- कत्तई ख़्वाहिश न थी,

आफ़ताब के आगोश में शीतल, तुष्ट हुआ।

कौन (?) कहता है भला, मैं रे! बरबाद हुआ।

बाबा का प्यार झोली में भर चलता हीं रहा।।

🙏🙏🙏डॉ. कवि कुमार निर्मल🙏🙏🙏

अगला लेख: कवि की शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 अक्तूबर 2019
★★★★★★★★★★★★★★आजूबाजू में हैं- मोबाइल खेलते हैं!चाँद है पास हमिमून तक भूलते हैं!!★★★★★★★★★★★★★★दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं- बहकते।।ठहर जाना हीं काबलियत है।खुशबुओं में बह जाना हीं ज़िंदगी है।।दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं बहकते।।★★डॉ. कवि कुमार निर्मल★★
06 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
ब्रह्म पूर्ण है!यह जगत् भी पूर्ण है,पूर्ण जगत् की उत्पत्तिपूर्ण ब्रह्म से हुई है!पूर्ण ब्रह्म सेपूर्ण जगत् कीउत्पत्ति होने पर भीब्रह्म की पूर्णता मेंकोई न्यूनता नहींआती!वह शेष रूप में भीपूर्ण ही रहता है,यही सनातन सत्य है!जो तत्व सदा, सर्वदा,निर्लेप, निरंजन,निर्विकार और सदैवस्वरूप में स्थित रहताहै उस
21 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
"खोई यादें"अपनों का काफ़िला संग चुपचाप चल रहाअकेला पड़ गया गर्दिशों में जो, वो रो रहाहम अलविदा कह रुख्सत जब हो जाएंगेकिताबों के पन्नों में सिमट सब रह जाएंगेअफसोस कर कहेगा आने वाला जमानादीमक और सीलन से पन्ने बिखर- उड़ रहेयादों में न उलझ, नई डगर पे सब चल रहेडॉ. कवि कुमार निर्मल
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x