साँझ - बेला

22 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (448 बार पढ़ा जा चुका है)


साँझ - बेला


विदा ले रहा दिनकर

पंछी सब लौटे घर,

तरूवर पर अब उनका

मेेला है !


दीप जले हैं घर - घर

तुलसी चौरे, मंदिर,

अंजुरि भर सुख का ये

खेला है !


रात की रानी खिली

कौन आया इस गली,

संध्या की कातर-सी

बेला है !


मिल रहे प्रकाश औ' तम

किंतु दूर क्योंकर हम,

भटकता है मन कहीं

अकेला है !


विरह - प्रणय का संगम

नयन हुए फिर से नम,

फिर वही बिछोह का दुःख

झेला है !


चिड़िया






साँझ - बेला

अगला लेख: दर्द का रिश्ता



रेणु
25 अक्तूबर 2019

बहुत प्यारी रचना प्रिय मीना बहन | सरस और सरल साथ में लयबद्धता सोने पे सुहागा | हार्दिक शुभकामनायें और बधाई | दीपावली आपने लिए शुभ और मंगलकारी हो |

अलोक सिन्हा
24 अक्तूबर 2019

अच्छी रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
प्यार भरे कुछ दीप जलाओदीपमालिका काप्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है... कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो हीजाएगा... यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारोंकी मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है... तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाशसे युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए
16 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
23 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
मि
13 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x