अध्यात्म

22 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (3690 बार पढ़ा जा चुका है)

अध्यात्म

स्वप्न की गहराई में देखा कि
तुम मेरे बारे में सोच रहे हो!
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
ओ’ मेरे परम प्रिय,
ओ’ परम पुरुष!
तुम्हारी कृपा से
मैंने अपनी प्रगाढ़ निद्रा की
गहराई में देखा कि
तुम मेरे बारे में सोच रहे हो!
हे मेरे परम अराध्य!
तुम सचमुच कितने कृपालु हो!!
अब तक मैं तुम्हारी
प्राप्ति हेतु तरस रहा था!
अपने आप को तुमने,
मुझसे दूर किये हुए हो,
ये मैं सोच रहा था!!
अनेक युग आये और गये
और
पूरे समय मैं अपने दुःखों के
सागर में डूबा रहा!
तुम मेरे बारे में
जानते ही नहीं हो,
ये मैं सोचता रहा!!
उस निराशाजनक अवस्था में
मुझे कैसा हीं लग रहा था!
मेरे उस दुख के स्तर को
कोई नहीं समझ सकता था!!

मेरे प्रभु!
दिन लगातार आ-जा रहे थे!
मैं अपने आँसुओं में
डूबा हुआ सोचता रहता था!!
मेरी चिंता करने वाला
कोई नहीं है!
परंतु ओह!
आज देखा कि
कोई मेरे बारे में सोच रहा है!!
यह देख कर
मेरा संपूर्ण अस्तित्व
आह्लाद से भर गया!
तुम कितने कृपालु हो,
मैं धन्य हो गया!!

हे दिव्य परम पुरुष!
तुम्हारी कृपा से मैं
आज सत्य मेरी
समझ में आ गया है !
तुम मेरे हो और
तुम्हारा हृदय मेरे लिये
असीम श्नेह से भरा हुआ है,
यह भली भांति अब
समझ गया हूँ!!
किसलिये तुम मेरे बारे में
सोचते हो,
यह मैं जान गया हूँ!!!
मैं अपनी साधना,
ध्यान, सेवा और
कीर्तन की सहायता से
तुम्हारे निकट और
अधिक निकट आता जाऊंगा!
तुम्हारी ओर चलता जाऊंगा
क्योंकि मैं जानता हूँ कि
आंतरिक रूप से तुम मेरे हो,
तुम्हें मैं शीध्र हीं पा जाउँगा!!
तुम हृदय से मेरी चिंता
अहिर्निश करते हो!
तुमने प्यार से
अपने हृदय में
एक विशेष स्थान
मेरे लिये रिक्त छोड़े हुए हो!!
तुम्हारी अहेतुकी कृपा से
मैं यह जान चुका हूँ,
“हमारा बहुत निकटता का, अन्तरंग संबंध है!”

तुम प्रेमस्वरूप हो!
करुणामय हो और
दिन रात मेरी चिंता करते हो!!
तुम मेरे हृदय के
सर्वाधिक प्रिय,
अन्तरंग हो!!!
【अपने अनवरत उपस्थिति
का परम सुख यूँ हीं हम
भक्तों को तुम देते रहना】

प्र• सं• २३६
अनुवाद एवं प्रस्तुति:
🙏डॉ. कवि कुमार निर्मल🙏


अगला लेख: भक्ति



डाक्टर निर्मल,
यह कविता बंगाली में क्या गुरुदेव की है?
शैली तो बिलकुल उन्ही की लग रही है.
धन्यवाद.
वीरेंद्र

मीना शर्मा
24 अक्तूबर 2019

बहुत सुंदर

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2019
दो दिन गुजर गए-मुई ये रात भी-बीत हीं जाएगी।चलो तुम्हारीखुशबुओं से,कल की सुबह-दमक-गमक जाएगी।।रौशन शाम;महक------सराबोर कर जाएगी।ग़रीब की झोपड़ीआशियाना बन,मुहब्बत की,मिशाल बन जाएगी।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
23 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺मनुष्य के अंदर सब कुछ जाननेवाला जो बैठा है वही है भगवान्।ओत-प्रोत योग से वे हर क्षण हमारे साथ हैं।याने, हम अकेले कदापि नहीं।जब अनंत शक्तिशाली हमारे साथ हैंतो हम असहाय कैसे हो सकते हैं?डर की भावना कभी नहीं रहनी चाहिए--जैसे एक परमाणु है जिसमें एकनाभि है तथा एलेक्ट्रोन्स अपनीधूरि पर
09 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
ब्रह्म पूर्ण है!यह जगत् भी पूर्ण है,पूर्ण जगत् की उत्पत्तिपूर्ण ब्रह्म से हुई है!पूर्ण ब्रह्म सेपूर्ण जगत् कीउत्पत्ति होने पर भीब्रह्म की पूर्णता मेंकोई न्यूनता नहींआती!वह शेष रूप में भीपूर्ण ही रहता है,यही सनातन सत्य है!जो तत्व सदा, सर्वदा,निर्लेप, निरंजन,निर्विकार और सदैवस्वरूप में स्थित रहताहै उस
21 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनवंतरी आयुर्वेदाचार्य मृत्युंजीवि औषधि आजीवन बाँटे।आज हम भौतिकता मे लिपट24 कैरेट का खालिस सोना चाटें।।मृत्युदेव तन की हर कोषिका-उतक में शांत छुपा सोया है।मन जीर्ण तन से ऊब कर देखोनूतन भ्रूण खोज रहा है।।लक्ष्मी अँधेरी रात्रि देख आदीपकों की माला सजवाती है।गरीब के झोपड़ में चुल्हे मेंलकड़ी भी नहीं जल प
25 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृजनात्मकतासाहित्य श्रिंखला अद्भुत हैअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
"खोई यादें"अपनों का काफ़िला संग चुपचाप चल रहाअकेला पड़ गया गर्दिशों में जो, वो रो रहाहम अलविदा कह रुख्सत जब हो जाएंगेकिताबों के पन्नों में सिमट सब रह जाएंगेअफसोस कर कहेगा आने वाला जमानादीमक और सीलन से पन्ने बिखर- उड़ रहेयादों में न उलझ, नई डगर पे सब चल रहेडॉ. कवि कुमार निर्मल
28 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
स्
संपादन का विकल्प नहीं मिल रहा, हठात लिखी रचना वा डाली छवि में संशोधनार्थ?
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x