विरह की अगन

23 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (460 बार पढ़ा जा चुका है)

विरह की अगन

दो दिन गुजर गए-
मुई ये रात भी-
बीत हीं जाएगी।
चलो तुम्हारी
खुशबुओं से,
कल की सुबह-
दमक-गमक जाएगी।।
रौशन शाम;
महक------
सराबोर कर जाएगी।
ग़रीब की झोपड़ी
आशियाना बन,
मुहब्बत की,
मिशाल बन जाएगी।।

डॉ. कवि कुमार निर्मल


अगला लेख: ब्रह्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 अक्तूबर 2019
आवारा मन की आवाज़....!_______________________________मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ हैकालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ हैदिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारातपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजाराडूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डराजुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिर
15 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
"खोई यादें"अपनों का काफ़िला संग चुपचाप चल रहाअकेला पड़ गया गर्दिशों में जो, वो रो रहाहम अलविदा कह रुख्सत जब हो जाएंगेकिताबों के पन्नों में सिमट सब रह जाएंगेअफसोस कर कहेगा आने वाला जमानादीमक और सीलन से पन्ने बिखर- उड़ रहेयादों में न उलझ, नई डगर पे सब चल रहेडॉ. कवि कुमार निर्मल
28 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
प्यार भरे कुछ दीप जलाओदीपमालिका काप्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है... कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो हीजाएगा... यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारोंकी मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है... तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाशसे युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए
16 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
📱 📱📱📱📱 #मोबाइल_एरा 📱📱📱📱 📱मोबाइल ने घर - घर में धनधोर "संग्राम" छेड़ रखा है।नवजात शिशु उफ़! मोबाइल की ओर अरे! लपका है।।रिश्ते सिमट कर सारे एन्ड्राइड से चिपक गुम हुए हैं।आस - पास बैठे हैं मगर, "मिनी केक" सेंड किए हैं।।पति - पत्नी को गुड - नाइट कर शाम ढ़ले सुलाता है।हूर कि परियों से इस्टाग्रा
01 नवम्बर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृ
साहित्य श्रिंखलाअद्भुत हैअभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
आओ बैठे आज फिर साथज़िंदगी की किताब के कुछ पन्ने फिर पलटेंकुछ अफ़साने तुम कहोकुछ क़िस्से हम सुनायेंकुछ लम्हे तुम जियो कुछ पल हम दोहराएँकुछ भूली हुई यादें,तुम ताज़ा करो कुछ स्मृतियाँ हम संजोयें कुछ क़समें तुम तोड़ो कुछ वादों से हम मुकरेंकुछ दूरियाँ तुम मिटाओकुछ फ़ासले हम तय करेंकुछ नज़दीक तुम आओ कुछ क
12 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
ब्रह्म पूर्ण है!यह जगत् भी पूर्ण है,पूर्ण जगत् की उत्पत्तिपूर्ण ब्रह्म से हुई है!पूर्ण ब्रह्म सेपूर्ण जगत् कीउत्पत्ति होने पर भीब्रह्म की पूर्णता मेंकोई न्यूनता नहींआती!वह शेष रूप में भीपूर्ण ही रहता है,यही सनातन सत्य है!जो तत्व सदा, सर्वदा,निर्लेप, निरंजन,निर्विकार और सदैवस्वरूप में स्थित रहताहै उस
21 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
20 अक्तूबर 2019
69 वें "जन्म दिन" पर मेरा शुभकारी "फलादेशसूर्य में राहु का उपद्रव- 2020 के बाद सुधार💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐कहते सुना सबसे कि मैंने खोया हीं खोया।टघरते आँसुओं की धार- पीया हीं पीया।।दिल हुआ छलनी, वज़ूद ज़ार - ज़ार हुआ।सब खोया मगर, तेरा मैं तेरा "प्यार" हुआ।।शौहरत-दौलत की- कत्तई ख़्वाहिश न थी,आफ़ताब के आग
20 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
24 अक्तूबर 2019
मि
13 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x