जीवन

26 अक्तूबर 2019   |  अमित कुमार सोनी   (400 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन एक रास्ते जैसा लगता है

मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह

मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं

रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभी

हर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा

रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक

दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे

पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता

कब तक और कहाँ तक चलते जाना है

ना मुझे पता है और ना कोई बताता है

पर गिरते संभलते चला जा रहा हूँ

उम्मीद में कि उस मंजिल पर सुकून होगा

जिसका अभी तक कोई निशाँ भी नहीं मिला

पर मैं और कर भी क्या सकता हूँ

रास्तों पर रुका भी तो नहीं जा सकता

रुको तो बेचैनी और बढ़ जाती है

रास्ते जैसे धकेलने से लगते हैं मुझे

कभी शक होता है कि मैं चल रहा हूँ या रास्ते

इसी उधेड़बुन में उलझा हुआ खुद को समेटकर

मैं बस चला जाता हूँ चाहे जैसे भी हो

कि कभी तो ये सफ़र ख़त्म होगा मंजिल पर पहुँचकर

क्यों कि ये जीवन एक रास्ता बन चुका है मेरे लिए

जिस पर मैं बस चलता जा रहा हूँ।

~~~*****~~~

जीवन

जीवन एक रास्ते जैसा लगता है

मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह

मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं

रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभी

हर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा

रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक

दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे

पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता

कब तक और कहाँ तक चलते जाना है

ना मुझे पता है और ना कोई बताता है

पर गिरते संभलते चला जा रहा हूँ

उम्मीद में कि उस मंजिल पर सुकून होगा

जिसका अभी तक कोई निशाँ भी नहीं मिला

पर मैं और कर भी क्या सकता हूँ

रास्तों पर रुका भी तो नहीं जा सकता

रुको तो बेचैनी और बढ़ जाती है

रास्ते जैसे धकेलने से लगते हैं मुझे

कभी शक होता है कि मैं चल रहा हूँ या रास्ते

इसी उधेड़बुन में उलझा हुआ खुद को समेटकर

मैं बस चला जाता हूँ चाहे जैसे भी हो

कि कभी तो ये सफ़र ख़त्म होगा मंजिल पर पहुँचकर

क्यों कि ये जीवन एक रास्ता बन चुका है मेरे लिए

जिस पर मैं बस चलता जा रहा हूँ।

Hindi Stories and Poems: Life

https://amitkumarsonitalks.blogspot.com/2018/12/life.html

अगला लेख: मन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
मि
कोई तकदीर से मिलते हैं तो कोई दुआ से कोई चाहत से मिलते हैं तो कोई तकरार से कोई कोशिश से मिलते हैं तो कोई मजबूरी से ज़िन्दगी की राहों में मिलना तो तै हैं चाहे वो कैसे भी हो. ...
13 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
क्यों ये मन कभी शांत नहीं रहता ?ये स्वयं भी भटकता है और मुझे भी भटकाता है।कभी मंदिर, कभी गॉंव, कभी नगर, तो कभी वन।कभी नदी, कभी पर्वत, कभी महासागर, तो कभी मरुस्थल।कभी तीर्थ, कभी शमशान, कभी बाजार, तो कभी समारोह।पर कहीं भी शांति नहीं मिलती इस मन को।कुछ समय के लिये ध्यान हट जाता है बस समस्याओं से।उसके
06 नवम्बर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x