जीवन

26 अक्तूबर 2019   |  अमित कुमार सोनी   (420 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन एक रास्ते जैसा लगता है

मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह

मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं

रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभी

हर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा

रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक

दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे

पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता

कब तक और कहाँ तक चलते जाना है

ना मुझे पता है और ना कोई बताता है

पर गिरते संभलते चला जा रहा हूँ

उम्मीद में कि उस मंजिल पर सुकून होगा

जिसका अभी तक कोई निशाँ भी नहीं मिला

पर मैं और कर भी क्या सकता हूँ

रास्तों पर रुका भी तो नहीं जा सकता

रुको तो बेचैनी और बढ़ जाती है

रास्ते जैसे धकेलने से लगते हैं मुझे

कभी शक होता है कि मैं चल रहा हूँ या रास्ते

इसी उधेड़बुन में उलझा हुआ खुद को समेटकर

मैं बस चला जाता हूँ चाहे जैसे भी हो

कि कभी तो ये सफ़र ख़त्म होगा मंजिल पर पहुँचकर

क्यों कि ये जीवन एक रास्ता बन चुका है मेरे लिए

जिस पर मैं बस चलता जा रहा हूँ।

~~~*****~~~

जीवन

जीवन एक रास्ते जैसा लगता है

मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह

मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं

रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभी

हर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा

रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक

दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे

पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता

कब तक और कहाँ तक चलते जाना है

ना मुझे पता है और ना कोई बताता है

पर गिरते संभलते चला जा रहा हूँ

उम्मीद में कि उस मंजिल पर सुकून होगा

जिसका अभी तक कोई निशाँ भी नहीं मिला

पर मैं और कर भी क्या सकता हूँ

रास्तों पर रुका भी तो नहीं जा सकता

रुको तो बेचैनी और बढ़ जाती है

रास्ते जैसे धकेलने से लगते हैं मुझे

कभी शक होता है कि मैं चल रहा हूँ या रास्ते

इसी उधेड़बुन में उलझा हुआ खुद को समेटकर

मैं बस चला जाता हूँ चाहे जैसे भी हो

कि कभी तो ये सफ़र ख़त्म होगा मंजिल पर पहुँचकर

क्यों कि ये जीवन एक रास्ता बन चुका है मेरे लिए

जिस पर मैं बस चलता जा रहा हूँ।

Hindi Stories and Poems: Life

https://amitkumarsonitalks.blogspot.com/2018/12/life.html

अगला लेख: मन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 नवम्बर 2019
क्यों ये मन कभी शांत नहीं रहता ?ये स्वयं भी भटकता है और मुझे भी भटकाता है।कभी मंदिर, कभी गॉंव, कभी नगर, तो कभी वन।कभी नदी, कभी पर्वत, कभी महासागर, तो कभी मरुस्थल।कभी तीर्थ, कभी शमशान, कभी बाजार, तो कभी समारोह।पर कहीं भी शांति नहीं मिलती इस मन को।कुछ समय के लिये ध्यान हट जाता है बस समस्याओं से।उसके
06 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
तु
यह कविता मेरी दूसरी पुस्तक " क़यामत की रात " से है . इसमें प्रेम औ रदाम्पत्य जीवन के उतार-चढ़ाव पर जीवनसाथी द्वारा साथ छोड़ देने पर उत्पन्न हुए दुःख का वर्णन है .तुमने ऐसा क्यों किया जीवन की इस फुलवारी में, इस उम्र की चारदीवारी में।आकर वसंत भी चले गये, पतझड़ भी आकर चले गय
18 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKe
18 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
क्
🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚 *श्री राधे कृपा ही सर्वस्वम*🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 *जय श्रीमन्नारायण जय जय श्री सीताराम* 🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵 *सुखी जीवन के लिए क्षमा करना सीखें* सामाजिक जीवन में राग के कारण लोग एवं काम की तथा द्वेष के कारण क्रोध एवं पैर की वृत्तियों का संचार होता है क्रोध के लिए संघर्ष कल
22 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x