दीपावली पर सौभाग्य कविता

27 अक्तूबर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (471 बार पढ़ा जा चुका है)



दीपावली पर सौभाग्य कविता

एक दीया तुम रखो
एक दीया मैं रखूं ।

एक फूल तुम रखो
एक फूल मैं रखूं
देवी के आगे।

देखो फिर क्या मज़ाल
अंधेरे की, जो आए मेरे
और तुम्हारे जीवन में।
चाहे वो अंधेरी सुरंग सा क्यों ना हो।

शिल्पा रोंघे

इमेज साभार- रश्मि गोहणे


अगला लेख: जानिए भाग्य बड़ा या कर्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अक्तूबर 2019
कु
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
30 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
भारतीय संस्कृति के अनुसार दिवाली साल का प्रमुख त्यौहार और बड़ा पर्व होता है। दिवाली का त्यौहार जीवन में ख़ुशी, उल्लास, नयी रौशनी लेकर आता है। इस बार दिवाली 27 अक्टूबर को आ रही है। यह त्यौहार क्यों खास है इसका पता बाज़ारो की रौनक से पता लगाया जा सकता है। चारो तरफ सजावट, बाजार
23 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
लक्ष्मीपूजन का मुहूर्तजैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावोंरूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान,आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका केप्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा,
24 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
कि
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
06 नवम्बर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
23 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
आओ बैठे आज फिर साथज़िंदगी की किताब के कुछ पन्ने फिर पलटेंकुछ अफ़साने तुम कहोकुछ क़िस्से हम सुनायेंकुछ लम्हे तुम जियो कुछ पल हम दोहराएँकुछ भूली हुई यादें,तुम ताज़ा करो कुछ स्मृतियाँ हम संजोयें कुछ क़समें तुम तोड़ो कुछ वादों से हम मुकरेंकुछ दूरियाँ तुम मिटाओकुछ फ़ासले हम तय करेंकुछ नज़दीक तुम आओ कुछ क
12 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <
02 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormattin
25 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
13 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
दिवाली का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली से कुछ ही दिन बचे है। इस बार दिवाली रविवार २७, अक्टूबर को है। दिवाली के ठीक २ दिन पहले धनतेरस को बड़े धूम से मनाया जाता है। इस दिन मान्यता है की भगवान् धनतेरस का जन्म हुआ था। अधिकतर लोग इसी दिन नए गहने, और अन्य समान की
21 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
कार्तिक मास का महत्त्वकार्तिक मास चल रहा है और कल से पञ्चपर्वों की श्रृंखला दीपावली कामहान पर्व आरम्भ हो जाएगा | वास्तव में हिन्दू मान्यता में कार्तिक मास का विशेषमहत्त्व माना गया है | इसे भगवान विष्णु का महीना कहा जाता है तथा विष्णु पूजा काइस माह में विशेष महत्त्व माना जाता है | साथ ही ऐसी भी मान्य
24 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
27 अक्तूबर 2019
दी
मन में जोद्वेष भरे हैं,दीपों की टीमटीम में सब जल जाएं। अगंध से जोदिल हैं हमारे,गेंदों की सुगंधसे महक जाएंभर जाएं । मुहब्बत जो अनकहेरह गए हैं,रंगोली के रंगोंसे खिल जाएंनिखर जाएं। इरादे जो डगमगसे हैं,गणपति सब पूरापक्का कर जाएं। जो मुश्किल है जीने में,लक्ष्मी अपने साथझोल
27 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
05 नवम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKer
05 नवम्बर 2019
03 नवम्बर 2019
चाहे बात हॉलीवुड की हो या बॉलीवुड की प्रेम कहानियांहमेशा से ही दर्शकों की प्रिय रही है। हमेशा ऐसा नहीं होता कि प्रेम कहानी नायकनायिका और खलनायक के इर्द गिर्द ही घुमती हो। कभी कभी इंसान नहीं वक्त ही खलनायकबन जाता है और आ जाता है प्रेम कहानी तीसरा कोण, जी हां आज के इस लेख म
03 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x