कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?

29 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (460 बार पढ़ा जा चुका है)

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?

जिससे पहुँचे भाव हृदय तक,

मैं वह गीत कहाँ से लाऊँ ?


इस जग के ताने-बाने में

अपना नाता बुना ना जाए

ना जाने तुम कहाँ, कहाँ मैं

मार्ग अचीन्हा, चुना ना जाए !

बिन संबोधन, बिन बंधन

मैं स्नेहपाश बँध जाऊँ !

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?


नियति-नटी के अभिनय से

क्योंकर हम-तुम विस्मित हों,

कुछ पल तो संग चले,

बस यही सोच-सोच हर्षित हों !

कोई भी अनुबंध ना हो, पर

पल-पल कौल निभाऊँ !

कहो ना, कौन से सुर में गाऊँ ?


जाने 'उसने' कब, किसको,

क्यों, किससे, यहाँ मिलाया !

दुनिया जिसको प्रेम कहे,

वो नहीं मेरा सरमाया !

जाते-जाते अपनेपन की,

सौगातें दे जाऊँ !

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?


जिससे पहुँचे भाव हृदय तक,

मैं वह गीत कहाँ से लाऊँ ?


अगला लेख: गीत उगाए हैं



आलोक सिन्हा
01 नवम्बर 2019

अच्छी रचना है |

शिल्पा रोंघे
29 अक्तूबर 2019

सुंदर रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अक्तूबर 2019
सृजनात्मकतासाहित्य श्रिंखला अद्भुत हैअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
चिड़िया प्रेरणास्कूल का पहला दिन । नया सत्र,नए विद्यार्थी।कक्षा में प्रवेश करते ही लगभग पचास खिले फूलों से चेहरों ने उत्सुकता भरी आँखों और प
23 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
प्यार भरे कुछ दीप जलाओदीपमालिका काप्रकाशमय पर्व बस आने ही वाला है... कल करवाचौथ के साथ उसका आरम्भ तो हो हीजाएगा... यों तो श्रद्धापर्व का श्राद्ध पक्ष बीतते ही नवरात्रों के साथ त्यौहारोंकी मस्ती और भागमभाग शुरू हो जाती है... तो आइये हम सभी स्नेहपगी बाती के प्रकाशसे युक्त मन के दीप प्रज्वलित करते हुए
16 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृ
साहित्य श्रिंखलाअद्भुत हैअभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x