कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?

29 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (425 बार पढ़ा जा चुका है)

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?

जिससे पहुँचे भाव हृदय तक,

मैं वह गीत कहाँ से लाऊँ ?


इस जग के ताने-बाने में

अपना नाता बुना ना जाए

ना जाने तुम कहाँ, कहाँ मैं

मार्ग अचीन्हा, चुना ना जाए !

बिन संबोधन, बिन बंधन

मैं स्नेहपाश बँध जाऊँ !

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?


नियति-नटी के अभिनय से

क्योंकर हम-तुम विस्मित हों,

कुछ पल तो संग चले,

बस यही सोच-सोच हर्षित हों !

कोई भी अनुबंध ना हो, पर

पल-पल कौल निभाऊँ !

कहो ना, कौन से सुर में गाऊँ ?


जाने 'उसने' कब, किसको,

क्यों, किससे, यहाँ मिलाया !

दुनिया जिसको प्रेम कहे,

वो नहीं मेरा सरमाया !

जाते-जाते अपनेपन की,

सौगातें दे जाऊँ !

कहो ना, कौनसे सुर में गाऊँ ?


जिससे पहुँचे भाव हृदय तक,

मैं वह गीत कहाँ से लाऊँ ?


अगला लेख: गीत उगाए हैं



अलोक सिन्हा
01 नवम्बर 2019

अच्छी रचना है |

शिल्पा रोंघे
29 अक्तूबर 2019

सुंदर रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अक्तूबर 2019
मेरा गांव शहर से क्या कम हैं।शुद्ध हवा और वातावरण है रेत के टीलों पर छा जाती हैंघनघोर घटाएंनज़ारे यह हिमाचल से क्या कम हैं।चलती है जब बरखा सावन की,धरती -अम्बर का मिलनास्वर्ग से क्या कम है।बादल ओढ़ा के जाता चुनरी हरियाली की बहना को,रिश्ता इनका रक्षाबंधन से क्या कम हैं।
22 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
15 अक्तूबर 2019
आवारा मन की आवाज़....!_______________________________मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ हैकालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ हैदिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारातपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजाराडूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डराजुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिर
15 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
एक दीप, मन के मंदिर में,कटुता द्वेष मिटाने को !एक दीप, घर के मंदिर मेंभक्ति सुधारस पाने को !वृंदा सी शुचिता पाने को,एक दीप, तुलसी चौरे पर !भटके राही घर लाने को,एक दीप, अंधियारे पथ पर !दीपक एक, स्नेह का जागेवंचित आत्माओं की खातिर !जागे दीपक, सजग सत्य काटूटी आस्थाओं की खातिर !एक दीप, घर की देहरी पर,खु
19 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
अर्थों को सार्थकता दे दें शब्दों के उदास होने पर अर्थ स्वयं पगला जातेहैं |आओ शब्दों को बहला दें, अर्थों को सार्थकता दे दें ||दिल का दीपक यदि जल जाए, जीवन भर प्रकाश फैलाए और दिये की जलती लौ में दर्द कहीं फिर नज़र न आए |स्नेह तनिक सा बढ़ जाए तो दर्द कहीं पर छिप जातेहैं आओ बाती को उकसा दें, प्रेममयी आभा
14 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
चिड़िया प्रेरणास्कूल का पहला दिन । नया सत्र,नए विद्यार्थी।कक्षा में प्रवेश करते ही लगभग पचास खिले फूलों से चेहरों ने उत्सुकता भरी आँखों और प
23 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
गी
12 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
गी
12 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
सृ
17 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x