चाँद और सूरज

31 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (431 बार पढ़ा जा चुका है)

चाँद और सूरज

'चाँद' को लख- मन को बहुत हीं सुकून मिलता है।

'सूरज' को लख कर पत्थर भी पिधल बह जाता है।।

डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: ब्रह्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
मैं जमाने को हंसाने के काम आता हूँ .किसी का दर्द मिटाने के काम आता हूँ .मुझको अखबार पुराना समझ के फेंको न यूँ .वक़्त पड़ने पे बिछाने के काम आता हूँ .
25 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
"खोई यादें"अपनों का काफ़िला संग चुपचाप चल रहाअकेला पड़ गया गर्दिशों में जो, वो रो रहाहम अलविदा कह रुख्सत जब हो जाएंगेकिताबों के पन्नों में सिमट सब रह जाएंगेअफसोस कर कहेगा आने वाला जमानादीमक और सीलन से पन्ने बिखर- उड़ रहेयादों में न उलझ, नई डगर पे सब चल रहेडॉ. कवि कुमार निर्मल
28 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
चराग़ जलता रहा रात भर।मदहोश परवाना न मंडराया मगर।।बाति उजाला देख बुझने को थी।बातें बहुत मगर ख़्वाबों की थी।।तेल में दम था बहुत मगर।एक फूंक से अँधेरे में डुबा शहर।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
12 नवम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
17 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
सृ
17 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
20 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x