मोबाइल

01 नवम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (461 बार पढ़ा जा चुका है)

मोबाइल

📱 📱📱📱📱 #मोबाइल_एरा 📱📱📱📱 📱

मोबाइल ने घर - घर में धनधोर "संग्राम" छेड़ रखा है।

नवजात शिशु उफ़! मोबाइल की ओर अरे! लपका है।।

रिश्ते सिमट कर सारे एन्ड्राइड से चिपक गुम हुए हैं।

आस - पास बैठे हैं मगर, "मिनी केक" सेंड किए हैं।।

पति - पत्नी को गुड - नाइट कर शाम ढ़ले सुलाता है।

हूर कि परियों से इस्टाग्राम पर फिर चैटिंग फरमाता है।।

पत्नि भी बॉक्स में ताका - ताकी कर नहीं रे थकती है।

वेभ सेण्ड कर टाटा - बाय, उपर से पोक करती है।।

छुटभइये भी अब गेम नहीं लाइक्स - कौमेंट्स करते हैं।

बेटे बाप से मैसेज में नित 'रोकड़ा' डिमान्ड करते हैं।।

टी.भी. तो कनखियों से तकते आधी रात पार करते हैं।

घर में जंग छिड़े तो ग्रुप डिलिट कर इंस्टांटली ब्लॉक करते हैं।।

मोबाइल ने घर - घर में धनधोर "संग्राम" छेड़ रखा है।

नवजात शिशु उफ़! मोबाइल की ओर अरे! लपका है।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: ब्रह्म



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
12 नवम्बर 2019
चराग़ जलता रहा रात भर।मदहोश परवाना न मंडराया मगर।।बाति उजाला देख बुझने को थी।बातें बहुत मगर ख़्वाबों की थी।।तेल में दम था बहुत मगर।एक फूंक से अँधेरे में डुबा शहर।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
12 नवम्बर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृजनात्मकतासाहित्य श्रिंखला अद्भुत हैअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृ
साहित्य श्रिंखलाअद्भुत हैअभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
मेरा गांव शहर से क्या कम हैं।शुद्ध हवा और वातावरण है रेत के टीलों पर छा जाती हैंघनघोर घटाएंनज़ारे यह हिमाचल से क्या कम हैं।चलती है जब बरखा सावन की,धरती -अम्बर का मिलनास्वर्ग से क्या कम है।बादल ओढ़ा के जाता चुनरी हरियाली की बहना को,रिश्ता इनका रक्षाबंधन से क्या कम हैं।
22 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
दो दिन गुजर गए-मुई ये रात भी-बीत हीं जाएगी।चलो तुम्हारीखुशबुओं से,कल की सुबह-दमक-गमक जाएगी।।रौशन शाम;महक------सराबोर कर जाएगी।ग़रीब की झोपड़ीआशियाना बन,मुहब्बत की,मिशाल बन जाएगी।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
23 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
😭😭😭😭😭😭अश्कों से परेशान न होसमझ जैसे मेहमान होगम गतल करना हो तोखुदा संग जरा बात हो🤓🤓🤓🤓🤓🤓डॉ. कवि कुमार निर्मल
01 नवम्बर 2019
27 अक्तूबर 2019
दीपवाली में 'मन' माना दूर,मंदीर अलग-अलग चमकते हैं!चंचल लक्ष्मी ठम- खड़ी दूर,हृदयहीन के घर-आँगन सजते हैं!!निर्मल
27 अक्तूबर 2019
10 नवम्बर 2019
https://hindi.pratilipi.comशब्बे-ए-बाराततेरी इबादत मेंहर लम्हा गुजर जाएरहमत तेरीइस बंदे पर नज़र आएगुस्ताख़ियां है कबूल,सजा मुकर्रर कर दोऔलाद हूँ तेरी,इल्तिज़ा पूरी कर दोडॉ. कवि कुमार निर्मल
10 नवम्बर 2019
26 अक्तूबर 2019
जी
जीवन एक रास्ते जैसा लगता है मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभीहर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता कब तक और
26 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
20 अक्तूबर 2019
69 वें "जन्म दिन" पर मेरा शुभकारी "फलादेशसूर्य में राहु का उपद्रव- 2020 के बाद सुधार💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐कहते सुना सबसे कि मैंने खोया हीं खोया।टघरते आँसुओं की धार- पीया हीं पीया।।दिल हुआ छलनी, वज़ूद ज़ार - ज़ार हुआ।सब खोया मगर, तेरा मैं तेरा "प्यार" हुआ।।शौहरत-दौलत की- कत्तई ख़्वाहिश न थी,आफ़ताब के आग
20 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
28 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृ
17 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x