Archana Ki Rachna: Preview "किराये का मकान "

04 नवम्बर 2019   |  अर्चना वर्मा   (2554 बार पढ़ा जा चुका है)

बात उन दिनों की है

जब बचपन में घरोंदा बनाते थे

उसे खूब प्यार से सजाते थे

कही ढेर न हो जाये

आंधी और तूफानों में

उसके आगे पक्की दीवार

बनाते थे

वख्त गुज़रा पर खेल वही
अब भी ज़ारी है
बचपन में बनाया घरोंदा
आज भी ज़ेहन पे हावी है

घर से निकला हूँ
कुछ कमाने के लिए
थोड़ा जमा कर कुछ ईंटें
उस बचपन के घरोंदे
में सजाने के लिए

यूं बसर होती जा रही है ज़िन्दगी
अपने घरोंदे की फ़िराक में
के उम्र गुज़ार दी हमने
इस किराये के मकान में

अब तो ये अपना अपना
सा लगता है
पर लोग ये कहते हैं
चाहे जितना भी सजा लो
किराये के मकान को
वो पराया ही रहता है

ज़रा कोई बताये उनको
की पराया सही पर
मेरे हर गुज़रे वख्त का
साक्षी है वो
भुलाये से भी न भूले
ऐसी बहुत सी यादें
समेटें है जो

बहुत कुछ पाया और गवाया
मैंने इस किराये के मकान में
इसने ही दिया सहारा जब
मैं निकला था अपने घर की
फ़िराक में

मैं जानता हूँ के एक दिन
ऐसा भी आएगा
जब मेरा अपने घरोंदे
का सपना सच हो जायेगा
और मेरा ये किराये का
मकान फिर किसी और का
हो जायेगा

मैं जब कुछ भी नहीं था
तब भी तू मेरे साथ था
आज जब मैं कुछ हो गया
तो तेरा मुझसे रिश्ता न भुला
पाउँगा

तुझे सजाया था पूरे
शानो शौक़त से
तू किसी का भी रहे
पर तुझसे अपनापन
न मिटा पाउँगा

मैं देखने आया करूंगा तेरा
हाल फिर भी
गुज़रा करूंगा तेरी गलियों से
रखने को तेरा दिल भी

मैं एहसान फरामोश नहीं
जो तेरी पनाह भुला पाउँगा
अपने अच्छे बुरे दिन को याद
करते
हमेशा तुझे गुनगुनाऊँगा

उस बचपन के घरोंदे की हसरत
को साकार करने में
तेरी अहमियत सबको न
समझा पाउँगा

Archana Ki Rachna: Preview "किराये का मकान "

https://4800366898232342829_ff99ab5473125dccb5469d264493d7da532192d6.blogspot.com/b/post-preview?token=APq4FmBsE1gbf6Zhy2qMeFy4VC5XTw6nx2Uc1sWgsK6U3c3HlkSy7UFvz5fwkCHPy5bcjowOHpEf1qUuY4e3dLqnwssMHmWkgfxgbImGDc6qojvS7RG3WiRuCWsvrxXzDB4SUW830iLb&postId=3008833563022604297&type=POST

अगला लेख: Archana Ki Rachna: Preview " वो पुराना इश्क़ "



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 नवम्बर 2019
A
वो इश्क अब कहाँ मिलता है जो पहले हुआ करता था कोई मिले न मिलेउससे रूह का रिश्ताहुआ करता थाआज तो एक दँजाहीसी सी है,जब तक तू मेरी तब तक मैं तेराशर्तों पे चलने की रिवायतसी है ,मौसम भी करवट लेने से पहलेकुछ इशारा देता हैपर वो यूं बदला जैसे वो कभीहमारा न हुआ करता थामोहब्बत में
09 नवम्बर 2019
29 अक्तूबर 2019
A
श्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन मीरा ही कहलाई न राधा सी तुझको भायी श्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन रहती कोई कसकमन मेंजो मैं सोचती सिर्फअपनी भलाईश्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईसहने को और भीगम हैंपर कोई न लेना पीरपरायीश्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन कोई खबर न कोईठोर ठिकानाबहुत
29 अक्तूबर 2019
11 नवम्बर 2019
A
क्या ज़्यादा बोझिल है जब कोई पास न हो या कोई पास हो के भीपास न हो ?कोई दिल को समझा लेता है क्योंकि,उसका कोई अपनाहै ही नहींपर कोई ये भुलाये कैसेजब उसका कोई अपनासाथ हो के भी साथ न होजहाँ चारो ओर चेहरोंकी भीड़ हो अपनापन ओढ़ेअपनी ज़रूरत पर सब दिखेपर गौर करना, जब तुमने पुकारातो
11 नवम्बर 2019
11 नवम्बर 2019
A
क्या ज़्यादा बोझिल है जब कोई पास न हो या कोई पास हो के भीपास न हो ?कोई दिल को समझा लेता है क्योंकि,उसका कोई अपनाहै ही नहींपर कोई ये भुलाये कैसेजब उसका कोई अपनासाथ हो के भी साथ न होजहाँ चारो ओर चेहरोंकी भीड़ हो अपनापन ओढ़ेअपनी ज़रूरत पर सब दिखेपर गौर करना, जब तुमने पुकारातो
11 नवम्बर 2019
07 नवम्बर 2019
A
जाओ अब तुम्हारा इंतज़ार नहीं करूंगीके अब खुद को मायूस बार बार नहीं करूंगीबहुत घुमाया तुमने हमें अपनी मतलबपरस्ती मेंके अब ऐसे खुदगर्ज़ से कोई सरोकार नहीं रखूंगीरोज़ जीते रहे तुम्हारे झूठे वादों कोके अब मर के भी तुम्हारा ऐतबार नहीं करूंगीतरसते रहे तुझसे एक लफ्ज़ " मोहब्बत "
07 नवम्बर 2019
16 नवम्बर 2019
A
रात कितनी भी घनी हो सुबह हो ही जाती है चाहे कितने भी बादलघिरे होसूरज की किरणें बिखरही जाती हैंअंत कैसा भी होकभी घबराना नहींक्योंकि सूर्यास्त का मंज़रदेख कर भीलोगो के मुँह सेवाह निकल ही जाती हैरात कितनी भी घनी होसुबह हो ही जाती हैअगर नया अध्याय लिखना होतो थोड़ा कष्ट उठाना ह
16 नवम्बर 2019
13 नवम्बर 2019
A
चलो रस्मों रिवाज़ों को लांघ करकुछ दिल की सुनी जाये कुछ मन की करी जाये एक लिस्ट बनाते हैं अधूरी कुछ आशाओं कीउस लिस्ट की हर ख्वाहिश एक एक कर पूरी की जाये कुछ दिल की सुनी जाये कुछ मन की करी जाये कोई क्या सोचेगा कोई क्या कहेगा इन बंदिशों से परे हो के थोड़ी सांसें आज़ाद हवा मे
13 नवम्बर 2019
29 अक्तूबर 2019
A
श्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन मीरा ही कहलाई न राधा सी तुझको भायी श्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन रहती कोई कसकमन मेंजो मैं सोचती सिर्फअपनी भलाईश्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईसहने को और भीगम हैंपर कोई न लेना पीरपरायीश्याम तेरी बन केमैं बड़ा पछताईन कोई खबर न कोईठोर ठिकानाबहुत
29 अक्तूबर 2019
15 नवम्बर 2019
A
जब भी अपने भीतर झांकता हूँ खुद को पहचान नहीं पाता हूँ ये मुझ में नया नया सा क्या है ?जो मैं कल था , आज वो बिलकुल नहींमेरा वख्त बदल गया , या बदलाअपनों ने हीमेरा बीता कल मुझे अब पहचानता, क्या है ? मन में हैं ढेरो सवालशायद जिनके नहीं मिलेंगे अ
15 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
A
सपने हमें न जानेक्या क्या दिखा जाते हैं हमें नींदों में न जानेकैसे कैसे अनुभव करा जाते हैंकभी कोई सपना यादरह जाता है अक्सरकभी लगता है ये जोअभी हुआ वो देखा साहै कही परसिर्फ एक धुंधली तस्वीरसे नज़र आते हैंसपने हमें न जानेक्या क्या दिखा जाते हैंकुछ सपने सजीलेऔर विरले भी होते
19 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
जि
प्रतिमाओं का पूजन करने,हम मंदिर में जाते हैं।जिस घर मात-पिता खुश रहते,उस घर ईश्वर आते हैं।असर दुआ में इतना इनकी,बाधाएँ टल जाती है।कदमों में खुशियाँ दुनिया की सारी चलकर आती है।पालन करने स्वयं विधाता घर में ही बस जाते हैं।जिस घर मात-पिता खुश रहते,उस घर ईश्वर आते हैं।।इस जीवन में कर्ज कभी भी चुका नहीं
19 अक्तूबर 2019
16 नवम्बर 2019
A
रात कितनी भी घनी हो सुबह हो ही जाती है चाहे कितने भी बादलघिरे होसूरज की किरणें बिखरही जाती हैंअंत कैसा भी होकभी घबराना नहींक्योंकि सूर्यास्त का मंज़रदेख कर भीलोगो के मुँह सेवाह निकल ही जाती हैरात कितनी भी घनी होसुबह हो ही जाती हैअगर नया अध्याय लिखना होतो थोड़ा कष्ट उठाना ह
16 नवम्बर 2019
09 नवम्बर 2019
A
वो इश्क अब कहाँ मिलता है जो पहले हुआ करता था कोई मिले न मिलेउससे रूह का रिश्ताहुआ करता थाआज तो एक दँजाहीसी सी है,जब तक तू मेरी तब तक मैं तेराशर्तों पे चलने की रिवायतसी है ,मौसम भी करवट लेने से पहलेकुछ इशारा देता हैपर वो यूं बदला जैसे वो कभीहमारा न हुआ करता थामोहब्बत में
09 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
A
मैं स्त्री हूँ , और सबकासम्मान रखना जानती हूँ कहना तो नहीं चाहतीपर फिर भी कहना चाहती हूँ किसी को ठेस लगे इस कविता सेतो पहले ही माफ़ी चाहती हूँ सवाल पूछा है और आपसेजवाब चाहती हूँक्या कोई पुरुष, पुरुष होने का सहीअर्थ समझ पाया हैया वो शारीरिक क्षमता को हीअपनी पुरुषता समझ
10 नवम्बर 2019
10 नवम्बर 2019
A
मैं स्त्री हूँ , और सबकासम्मान रखना जानती हूँ कहना तो नहीं चाहतीपर फिर भी कहना चाहती हूँ किसी को ठेस लगे इस कविता सेतो पहले ही माफ़ी चाहती हूँ सवाल पूछा है और आपसेजवाब चाहती हूँक्या कोई पुरुष, पुरुष होने का सहीअर्थ समझ पाया हैया वो शारीरिक क्षमता को हीअपनी पुरुषता समझ
10 नवम्बर 2019
13 नवम्बर 2019
A
चलो रस्मों रिवाज़ों को लांघ करकुछ दिल की सुनी जाये कुछ मन की करी जाये एक लिस्ट बनाते हैं अधूरी कुछ आशाओं कीउस लिस्ट की हर ख्वाहिश एक एक कर पूरी की जाये कुछ दिल की सुनी जाये कुछ मन की करी जाये कोई क्या सोचेगा कोई क्या कहेगा इन बंदिशों से परे हो के थोड़ी सांसें आज़ाद हवा मे
13 नवम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x