वर्दी कोट का झगड़ा

05 नवम्बर 2019   |  जानू नागर   (434 बार पढ़ा जा चुका है)

वर्दी कोट का झगड़ा

अदालत थाना आपस मे भिड़ जाने लगे।

जबकि न्याय सुरक्षा सिक्के के दो पहलू है।

इस से सामाजिक मानव प्राकृति संसार हैं।

जब यह दोनों आपस मे लड़ जाएंगे,

सामाजिक कुरीतियाँ और बढ़ जाएंगी।

चोर, आवारा जेबकतरों की मौज होगी।

जेलों मे होली अदालतों मे मखोली होगी।

शासन, सत्ता मौन होगी आकाओ की मौज़ होगी।

विदेशो मे मौज़ मनाएगे देश को कंगाल बनाएगे।

वर्दी कोट का झगड़ा होगा, देश को झटका तगड़ा होगा।

वर्दी कोट हमारी शान हैं भारत की अभी जो जान हैं।

लिखने को तो हम कुछ भी लिख सकते हैं।

इससे ज्यादा लिखना, अपना और अपनों का अपमान हैं।

अगला लेख: मुर्गा बांग क्यों देता है?



यथार्थ को दर्शाती हुई काव्य रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x