मन

06 नवम्बर 2019   |  अमित कुमार सोनी   (2769 बार पढ़ा जा चुका है)

क्यों ये मन कभी शांत नहीं रहता ?

ये स्वयं भी भटकता है और मुझे भी भटकाता है।

कभी मंदिर, कभी गॉंव, कभी नगर, तो कभी वन

कभी नदी, कभी पर्वत, कभी महासागर, तो कभी मरुस्थल

कभी तीर्थ, कभी शमशान, कभी बाजार, तो कभी समारोह।

पर कहीं भी शांति नहीं मिलती इस मन को।

कुछ समय के लिये ध्यान हट जाता है बस समस्याओं से

उसके बाद फिर वही भागदौड़ और चिंताओं भरा जीवन जीवन।

कभी अपनों तो कभी अपरिचितों से मिलता हूँ

पर सबके बीच भी एकाकीपन लगता है।

कहीं भी इस मन को शांति नहीं मिलती।

पता नहीं कब तक ऐसे भटकता रहूँगा मैं ?

क्यों मैं सब में घुल-मिल नहीं पाता ?

बहुत भटकने के बाद जान पाया कि भटकना व्यर्थ है।

बाहर भटकने से कभी मन की शांति नहीं मिलती।

मन की सारी समस्याओं का समाधान अपने ही पास है।

अपने मन को ही जीतना होगा क्योंकि भटकना इसका स्वभाव है।

इसकी गति को नियंत्रित करके सही दिशा देनी होगी।

अपने विचारों को नियंत्रित करके अपनी सोच बदलनी होगी।

स्वयं समझना होगा कि हमें क्या चाहिये और क्या नहीं।

अपने ही प्रति सत्यनिष्ठ बनकर अपना साथ देना होगा।

विश्वास करना होगा स्वयं पर और अपनी विजय पर।

जब मन में शांति होगी तो सब कहीं अच्छा लगेगा।

कहीं और जाने की फिर कोई आवश्यकता नहीं होगी।

मन को जीतना ही जीवन जीने की सच्ची कला है।

Mann (Mind)

मन
क्योंयेमनकभीशांतनहींरहता ?
येस्वयंभीभटकताहैऔरमुझेभीभटकाताहै।
कभीमंदिर,कभीगॉंव,कभी नगर,तोकभी वन
कभीनदी,कभी पर्वत, कभीमहासागर,तोकभीमरुस्थल
कभीतीर्थ, कभीशमशान,कभीबाजार,तोकभीसमारोह।
परकहींभीशांतिनहींमिलतीइसमनको।
कुछ समय केलियेध्यानहटजाताहैबससमस्याओंसे
उसकेबादफिरवहीभागदौड़औरचिंताओंभराजीवनजीवन।
कभीअपनोंतोकभीअपरिचितोंसेमिलताहूँ
परसबकेबीचभीएकाकीपनलगताहै।
कहींभीइसमनकोशांतिनहींमिलती।
पतानहींकबतकऐसेभटकता रहूँगामैं ?
क्योंमैंसबमेंघुल-मिलनहींपाता ?
बहुतभटकनेकेबादजानपायाकिभटकनाव्यर्थहै।
बाहरभटकनेसेकभीमनकीशांतिनहींमिलती।
मनकीसारीसमस्याओंकासमाधानअपनेहीपासहै।
अपनेमनकोहीजीतनाहोगाक्योंकिभटकनाइसकास्वभावहै।
इसकीगतिकोनियंत्रितकरकेसहीदिशादेनीहोगी।
अपनेविचारोंकोनियंत्रितकरकेअपनीसोचबदलनीहोगी।
स्वयंसमझनाहोगाकिहमेंक्याचाहियेऔरक्यानहीं।
अपनेहीप्रतिसत्यनिष्ठबनकरअपनासाथदेनाहोगा।
विश्वासकरनाहोगास्वयंपरऔरअपनीविजयपर।
जबमनमेंशांतिहोगीतोसबकहींअच्छालगेगा।
कहींऔरजानेकीफिरकोईआवश्यकतानहींहोगी।
मनकोजीतनाहीजीवनजीनेकी सच्ची कलाहै।
Hindi Stories and Poems: Mann (Mind)

https://amitkumarsonitalks.blogspot.com/2019/11/mann-mind.html

अगला लेख: पत्थर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 नवम्बर 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !!मानव के जीवन में मन का निर्माण एक सतत प्रक्रिया है | मन को साधने की कला एक छोटे बच्चे से सीखना चाहिए जो एक ही बात को बार बार दोहराते हुए सतत सीखने का प्रयास करते हुए अन्तत: उसमें सफल भी हो जाता है | मन की चंचलता से प्राय: सभी परेशान हैं | सामान्य जीवन में मन की औसत स्थिति हो
04 नवम्बर 2019
26 अक्तूबर 2019
जी
जीवन एक रास्ते जैसा लगता है मैं चलता जाता हूँ राहगीर की तरह मंजिल कहाँ है कुछ पता नहीं रास्ते में भटक भी जाता हूँ कभी-कभीहर मोड़ पर डर लगता है कि आगे क्या होगा रास्ता बहुत पथरीला है और मैं बहुत नाजुक दुर्घटनाओं से खुद को बचाते हुए घिसट रहा हूँ जैसे पर रास्ता है कि ख़त्म होने का नाम नहीं लेता कब तक और
26 अक्तूबर 2019
19 नवम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ *मनुष्य माता - पिता के संयोग से इस पृथ्वी पर आता है | मानव जीवन में माता - पिता का बहुत बड़ा महत्त्व है बिना इनके इस संसार में यात्रा करने का सौभाग्य प्राप्त ही नहीं हो सकता | जन्म लेने के बाद मनुष्य पर
19 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x