नमन न्यायपालिका

11 नवम्बर 2019   |  रेणु   (2941 बार पढ़ा जा चुका है)

नमन  न्यायपालिका



नमन न्यायपालिका के -

सम्पूर्ण अधिकार की शक्ति को,

न्याय मिला , भले देर हुई ,

वन्दन इस द्वार शक्ति को !


समय बढ़ गया आगे,

लिख सौहार्द की नई परिभाषा;

प्यार जीता नफरत हारी ,

बो हर दिल में नयी आशा ;

हर कोई अपलक देख रहा -

इस प्यार की शक्ति को !


समभाव भरी ये पुण्यधरा .

गीता भी जहाँ , क़ुरान भी है

कुनबा ये वासुदेव का है,

यहाँ राम है ,तो रहमान भी है;

कभी ना आंकों कम,

इस परिवार की शक्ति को !


ज्ञान- बुद्धि श्रद्धा से हारे .

ना तर्क आस्था ने माने ;

राह दिखाते मानवता को ,

पगचिन्ह वो मानव ने पहचाने ;

शीश झुकाया मान सभी ने .

सच्चे करतार की शक्ति को !


राम आराध्य जन- जन के,

युगपुरुष चेतना के उत्तम;

जगहित दिया मर्यादित रामपथ ,

हुये सृष्टि के नायक सर्वोत्तम ;

रामराज्य के रूप में जग जाना .

राघव सरकार की शक्ति को !!!!!!


स्वरचित

चित्र गूगल से साभार

मेरे ब्लॉग पर भी पढ़ें --------

https://renuskshitij.blogspot.com/2019/11/blog-post_11.html

अगला लेख: पत्थर



इंजी. बैरवा
14 नवम्बर 2019

... समभाव भरी ये पुण्यधरा .
गीता भी जहाँ , क़ुरान भी है
कुनबा ये वासुदेव का है,
यहाँ राम है ,तो रहमान भी है;...


सर्व धर्म समभाव से परिपूर्ण, हमारी न्याय पालिका,
बहुत-बहुत आभार. ..

रेणु
14 नवम्बर 2019

हार्दिक आभार बैरवा जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x