जनसंख्या विस्फोट

16 दिसम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (7310 बार पढ़ा जा चुका है)


बढ़ती जनसंख्या पर


स्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.


महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.


ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.


महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.


पेड़ और पौधे हुए कम.


पीने का पानी हुआ कम.


सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.


बढ़ रही गरीबी और महंगाई.


किसी ने धर्म को तो किसी ने जाति

को देश की बदहाली का जिम्मेदार ठहराया.


लेकिन असली वजह बढ़ती जनसंख्या पर क्या सचमुच कोई रोक लगा पाया ?


भ्रष्टाचार के बाद जनसंख्या ने ही तो देश की

अर्थव्यवस्था को है कमजोर बनाया.


शिल्पा रोंघे

अगला लेख: जोगी बनना कहां आसान है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 दिसम्बर 2019
यादों का उँचा पहाड़सिमट कर मन में छुपकर रह जाता है।मन अटके मगर मनचुपके से बोझिल होलुप्त हो जाता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
13 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
कहते है जो ये कि वक्त के पंजों से बचालेंगे तुम्हेंवहीं सबसे बड़ेशिकारी होते हैं.शिल्पा रोंघे
19 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
कहते है जो ये कि वक्त के पंजों से बचालेंगे तुम्हेंवहीं सबसे बड़ेशिकारी होते हैं.शिल्पा रोंघे
19 दिसम्बर 2019
03 दिसम्बर 2019
चा
ना कोई फ़ीस लगती है ना कोईसिफारिश लगती है.चाटुकारिता की शिक्षा बिल्कुल मुफ़्त में मिलती है.शिल्पा रोंघे
03 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
भारतीय रेलवे एक के बाद एक योजनाएं अपने यात्रियों के लिए निकालती जा रही है, कुछ दिन पहले ही जनरल डिब्बों पर भी आरक्षित सीटों की खबरों से आम जनता खुश हो गई थी। अब नॉर्थ में रहने वालों को आसानी से साउथ में घूमने को भी मिल जाएगा। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी ट्रेन चलाई है जो कटरा से चलकर कई राज्यों को पार करत
04 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
नौ
बिना मिठास के फल ही क्या ?बिना रस के काव्य की रचना ही कैसे हो भला.चलो रस भरते है जीवन में, काव्य रचते है रंग बिरंगे से हम.प्रेम रस के रूप अनेकश्रृंगार, वात्सल्य, भक्ति का का होता संचार.कभी मिलन है तो कभी विरह है, श्रृंगार रस.कभी कृष्ण तो कभी राधा है इसका दूसरा नाम.कभी ममत
05 दिसम्बर 2019
04 दिसम्बर 2019
हैदराबाद के गैंगरेप से पूरा देश हिल गया है और हर कोई आरोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहा है। हर किसी की अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है और सभी का एक ही नारा है कि आरोपियों को सख्त सजा दी जाए वो भी बहुत जल्दी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने भी आदेश दिया है कि इस केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सॉल्व करन
04 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
18 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
सा
साथी उसे बनाओं जो सुख दुख में साथ दे.ना कि उसे जो सिर्फ तस्वीरों में आपकी शोभा बढ़ाएं.शिल्पा रोंघे
21 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
पानीपत के लिए कृति सेनन ने मराठी स्टाईल अपनायाहै, इस फिल्म में वो दुल्हन के रुप में भी नज़र आई है।इस फिल्म सेपहले बाजीराव मस्तानी में प्रियंका चोपड़ा और मनीकर्णिका में कंगना ने झांसी की रानी में रॉयल ब्राईड लुकअपनाया था। जिसकी काफी तारीफ हुई थी। अब कृति की खूबसूरती में चा
14 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
सो
खुश है कुछ लोगइंस्टाग्राम, फ़ेसबुक, और ट्विटरपर अपनी फ़ैन फॉलोइंग को गिनकर.अपनी निज़ी जिंदगी को सार्वजनिककर.मगर भूल जाते है इस वर्चुअल दुनियामें खोकर उस पड़ोस को जो सबसेपहले पूछते है उनका हाल चाल.वो स्कूल कॉलेज और दफ़्तर केदोस्त जो बिना बताएं ही जान लेते हैदिल की बात.उंगल
02 दिसम्बर 2019
05 दिसम्बर 2019
देश में चल रहे राजनीतिक विवादों के बीच अब ऐसे इंसान ने बोला है जिन्हें बोलते शायद ही आपने सुना होगा। हम यहां बात पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की करने जा रहे हैं जिन्होंंने कांग्रेस को लेकर एक खुलासा किया है और इसमें उन्होंने साल 1984 में हुए सिख दंगे का जिक्र भी किया है। आमतौर पर मममोहन सिंह को ज्
05 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
02 दिसम्बर 2019
सो
खुश है कुछ लोगइंस्टाग्राम, फ़ेसबुक, और ट्विटरपर अपनी फ़ैन फॉलोइंग को गिनकर.अपनी निज़ी जिंदगी को सार्वजनिककर.मगर भूल जाते है इस वर्चुअल दुनियामें खोकर उस पड़ोस को जो सबसेपहले पूछते है उनका हाल चाल.वो स्कूल कॉलेज और दफ़्तर केदोस्त जो बिना बताएं ही जान लेते हैदिल की बात.उंगल
02 दिसम्बर 2019
07 दिसम्बर 2019
हां दर्द सहना भी एक कला है। गम बर्दाश्त कर लेना भी एक कला है। खुद नाखुशी के दौर में रहकरदूसरों से ना जलना भी एक कला है। छिपकर रोना भी एक कला है । अंधेरे में भी जुगनू बनकर जीनाएक कला है। कहती है अगर खुदगर्ज़ दुनिया तोकहने तो कहने दो। क
07 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
झड़ने दो पुराने पत्तों को.🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂गिरने दो फूलों को जमीं पर.🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼कि नए पत्ते फिर आएंगे शाखों पर.🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿कि नए फूल फिर उगेंगे डाली पर.🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹ताकेंगे आसमान की ओर.🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴गिरने से मत डरो, झड़ने से ना डरो.बीज भी जमीन में गिरकर ही पौधे
28 दिसम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x