Inspirational Hindi Poetry Satire - इमारतें ; अर्चना की रचना

20 दिसम्बर 2019   |  अर्चना वर्मा   (345 बार पढ़ा जा चुका है)

Inspirational Hindi Poetry Satire - इमारतें

इन बड़ी इमारतों में जो लोगे रहते हैं

बहुत कुछ देख कर भी खामोश रहते हैं

अगले घर में क्या हुआ क्या नहीं

उसकी फिक्र इनको सिर्फ

gossiping तक है

वरना ये अपने काम से काम रखते हैं

किसी ने पुकारा भी हो तो

सिर्फ बंद दरवाज़ों के झरोखे

से तमाशा देखते हैं

और खुद को महफूस समझ

उस आवाज़ को ignore करते हैं

न जाने कितनी आवाजें दब गई होगी

उनकी इस नज़र अंदाजी में

और कुछ अनसुनी कर दी होगी

इन इमारतों में रहने वालो ने

उन्होंने ये कभी सोचा ही नहीं

कि क्या होगा किसी रोज़ जब

उनकी आवाज़ न पड़े किसी

के कानो में

कोई अपना अनसुना कर दिया हो

इन इमारतों में रहने वालो ने

क्या तब भी तुम सिर्फ इन

बंद दरवाजों से झाकोगे

ये वो आवाज़ सुन उसकी

मदत को भागोगे

चलो आज से अपनी लाइफ स्टाइल

में सुधार लाते हैं

एक बेहतर इंसान बने इसका

जिम्मा उठाते हैं

ताकि सब कह सके

इन बड़ी इमारतों में वो लोग रहते हैं

जो अपने काम से काम रखते हैं

पर किसी आवाज़ को सुन उसकी

मदत को इन्ही बंद दरवाज़ों से

निकलते हैं ……

अर्चना की रचना “सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Inspirational Hindi Poetry Satire - इमारतें > अर्चना की रचना

https://archanakirachna.com/imaratein-inspirational-hindi-poetry-satire/

अगला लेख: Hindi Motivational Poetry On Life - समझौता ; अर्चना की रचना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x