गुनगुनाह ट

21 दिसम्बर 2019   |  SURENDRA ARORA   (378 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता


गुनगुनाहट


क्या तुम्हारी रगों में अपने भारत की मिट्टी से सुगंधित रक्त नहीं बहता ,

क्या यहां के खेतों में उगा सोना तुम्हारे सौंदर्य में व्रद्धि नहीं करता ,

क्या यहां की नदियां , झरने और दूर - दूर तक फैले हरे - भरे मैदान तुम्हारे अन्दर के संगीत का कारण नहीं बनते ,

क्या उंचे - उंचे पेड़ों से सज्जित हिमालय के गगनचुम्बी पहाड़ तुम्हें आकर्षित नहीं करते ,

क्या हिन्द के सागर की गगन छूती हिलोरें तुममें उंचीं उड़ानों की हसरतें नहीं बनातीं ,

क्या हर दिन की एक नई त्योहारी रंगत तुम्हारी दिनचर्या में एक नया इन्द्रधनुष नहीं रचती ,

क्या इस देश की गलियां , मोहल्ले और दूर तक फैले छोटे - बड़े रास्ते तुम्हारी जिन्दगी की हर मंजिल को छूने का साधन नहीं बनते ,

क्या अम्मा - बाबा और उनसे जुड़े - अनजुड़े सारे रिश्ते तुम्हें जीने का मकसद नहीं देते ,

हाँ ! ये सब कुछ मिलता तो है मुझे इस माटी की भीनी - भीनी सुगंध में !

तो फिर तुम इसे जलाने की बात क्यों करते हो ?

क्यों बनते हो मोहरा उन नकाबपोश हैवानों का ,

जो करते हैं रश्क तुम्हारी मेहनतकश खुशनसीबी से ,

जो जोंक की तरह तुम्हारे हकों को अपनी सहूलियतों की जागिरों में सिमटाते आएं हैं ,

बोलो ! क्या न पूछूं मैं ये सारे सवाल तुम्हारी मासूमियत से ?

मत पूछो ! मत करो और अधिक शर्मिंदा मुझे ,

मैं खुद ही निपट लूँगा उन खुदगर्ज सफेद्पोश मक्कार रक्तखोरों की जिस्मफरोश हैवनीयत से ,

जिन्हें खून की खेती खूब रास आयी है ।

जिन्होनें मेरे सारे हक़ निचोड़ लिये हैं मेरे पसीने से ,

मुझे अजीज है मेरी इस नर्म मिट्टी की महकती महक ,

इसे ऐसे ही महकाने से महकता है मेरा वजूद ,

महकना और महकाना ,

यौवन सा सजना , वसंत सा गुनगुनाना ,

मुझे है बनाना जिन्दगी का आशियाना ।


सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा

डी - 184 , श्याम पार्क एक्सटेंशन , साहिबाबाद ।

पिन : 201005 (ऊ.प्र.)

अगला लेख: साफ्ट कॉर्नर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x