Hindi Motivational Poetry On Life - समझौता ; अर्चना की रचना

23 दिसम्बर 2019   |  अर्चना वर्मा   (5040 बार पढ़ा जा चुका है)

Hindi Motivational Poetry On Life - समझौता ; अर्चना की रचना


ज़िन्दगी जीने का एक ही मंत्र है

जो मिला उसे गले लगाओ

जो नहीं मिला उसे भूल जाओ

यही ज़िन्दगी है

जिये जाओ जिये जाओ

चिंता ,आशा और निराशा की स्मृतियाँ

अपने दिलो से मिटाओ

चैन से सोना है तो

समझौते का तकिया

सरहाने लगाओ

यही ज़िन्दगी है

जिये जाओ जिये जाओ

ये ज़िन्दगी एक समझौता एक्सप्रेस

ही तो है

जिससे बर्दाश्त हो बढे जाओ

जिससे न हो वो उतर जाओ

यही जिंदगी है

जिये जाओ जिये जाओ

मैं तो कायर हूँ

एक बार में मरने से डरता हूँ

इसलिए रोज़ समझौता

करता हूँ

और थोडा थोडा मरता हूँ

हो बहादुर तुम तो इसे

जी कर अपनी बहादुरी

का प्रमाण दिखाओ

यही ज़िन्दगी है

हर हाल में मुस्कुराओ

हर हाल में जिये जाओ

हर हाल में जिये जाओ ….

अर्चना की रचना “सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Hindi Motivational Poetry On Life - समझौता > अर्चना की रचना

https://archanakirachna.com/samjhauta-a-motivational-poetry-in-hindi/

अगला लेख: Hindi Inspirational Poetry on New Year - नया साल ; अर्चना की रचना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2019
इन बड़ी इमारतों में जो लोगे रहते हैं बहुत कुछ देख कर भी खामोश रहते हैं अगले घर में क्या हुआ क्या नहीं उसकी फिक्र इनको सिर्फgossiping तक है वरना ये अपने काम से काम रखते हैं किसी ने पुकारा भी हो तो सिर्फ बंद दरवाज़ों के झरोखे से तमाशा देखते हैं और खुद को महफूस समझउस आवाज़ को i
20 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
सर्दी की धूप प्रेम पर आधारित हिंदी कविताइश्क तेरा सर्दी की गुनगुनी धूप जैसा जो बमुश्किल निकलती है पर जब जब मुझ पर पड़ती है मुझे थोडा और तेरा कर देती है मैं बाहें पसारे इसकी गर्माहट को खुद में समा लेती हूँ इसकी रंगत न दिख जाये चेहरे में कही इसलिए खुद को तेरे सीने में छुपा
24 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
सर्दी की धूप प्रेम पर आधारित हिंदी कविताइश्क तेरा सर्दी की गुनगुनी धूप जैसा जो बमुश्किल निकलती है पर जब जब मुझ पर पड़ती है मुझे थोडा और तेरा कर देती है मैं बाहें पसारे इसकी गर्माहट को खुद में समा लेती हूँ इसकी रंगत न दिख जाये चेहरे में कही इसलिए खुद को तेरे सीने में छुपा
24 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
इन बड़ी इमारतों में जो लोगे रहते हैं बहुत कुछ देख कर भी खामोश रहते हैं अगले घर में क्या हुआ क्या नहीं उसकी फिक्र इनको सिर्फgossiping तक है वरना ये अपने काम से काम रखते हैं किसी ने पुकारा भी हो तो सिर्फ बंद दरवाज़ों के झरोखे से तमाशा देखते हैं और खुद को महफूस समझउस आवाज़ को i
20 दिसम्बर 2019
06 जनवरी 2020
प्रेम पर आधारित हिंदी कविता ये ज़मीन ये ज़मीन जो बंजर सी कहलाती है बूँद जो गिरी उस अम्बर से, रूखे मन पर तो उस ज़मीन की दरारें भर सी जाती हैजहाँ तक देखती है , ये अम्बर ही उसने पाया है पर न जाने, उस अम्बर के मन में क्या समाया है कभी तो बादलों सा उमड़ आया है और कभी एक बूँद को भी
06 जनवरी 2020
24 दिसम्बर 2019
सर्दी की धूप प्रेम पर आधारित हिंदी कविताइश्क तेरा सर्दी की गुनगुनी धूप जैसा जो बमुश्किल निकलती है पर जब जब मुझ पर पड़ती है मुझे थोडा और तेरा कर देती है मैं बाहें पसारे इसकी गर्माहट को खुद में समा लेती हूँ इसकी रंगत न दिख जाये चेहरे में कही इसलिए खुद को तेरे सीने में छुपा
24 दिसम्बर 2019
06 जनवरी 2020
प्रेम पर आधारित हिंदी कविता ये ज़मीन ये ज़मीन जो बंजर सी कहलाती है बूँद जो गिरी उस अम्बर से, रूखे मन पर तो उस ज़मीन की दरारें भर सी जाती हैजहाँ तक देखती है , ये अम्बर ही उसने पाया है पर न जाने, उस अम्बर के मन में क्या समाया है कभी तो बादलों सा उमड़ आया है और कभी एक बूँद को भी
06 जनवरी 2020
06 जनवरी 2020
प्रेम पर आधारित हिंदी कविता ये ज़मीन ये ज़मीन जो बंजर सी कहलाती है बूँद जो गिरी उस अम्बर से, रूखे मन पर तो उस ज़मीन की दरारें भर सी जाती हैजहाँ तक देखती है , ये अम्बर ही उसने पाया है पर न जाने, उस अम्बर के मन में क्या समाया है कभी तो बादलों सा उमड़ आया है और कभी एक बूँद को भी
06 जनवरी 2020
24 दिसम्बर 2019
सर्दी की धूप प्रेम पर आधारित हिंदी कविताइश्क तेरा सर्दी की गुनगुनी धूप जैसा जो बमुश्किल निकलती है पर जब जब मुझ पर पड़ती है मुझे थोडा और तेरा कर देती है मैं बाहें पसारे इसकी गर्माहट को खुद में समा लेती हूँ इसकी रंगत न दिख जाये चेहरे में कही इसलिए खुद को तेरे सीने में छुपा
24 दिसम्बर 2019
06 जनवरी 2020
प्रेम पर आधारित हिंदी कविता ये ज़मीन ये ज़मीन जो बंजर सी कहलाती है बूँद जो गिरी उस अम्बर से, रूखे मन पर तो उस ज़मीन की दरारें भर सी जाती हैजहाँ तक देखती है , ये अम्बर ही उसने पाया है पर न जाने, उस अम्बर के मन में क्या समाया है कभी तो बादलों सा उमड़ आया है और कभी एक बूँद को भी
06 जनवरी 2020
06 जनवरी 2020
देखो फिर एक नया साल जुड़ गयाहर बात वही घात वहीफिर से उसे ठीक करने कानया ज़ज्बा जुड़ गयादेखो फिर एक नया साल जुड़ गयाबहुत कुछ देखा और सीखा बीते साल मेंबहुत कुछ मिला भी मुफलिसी के हाल मेंउस ऊपर वाले के करम से मैंमैं हर वार सह गयादेखो फिर एक नया साल जुड़ गयाकुछ मेरे अपने थे जो दूर
06 जनवरी 2020
20 दिसम्बर 2019
इन बड़ी इमारतों में जो लोगे रहते हैं बहुत कुछ देख कर भी खामोश रहते हैं अगले घर में क्या हुआ क्या नहीं उसकी फिक्र इनको सिर्फgossiping तक है वरना ये अपने काम से काम रखते हैं किसी ने पुकारा भी हो तो सिर्फ बंद दरवाज़ों के झरोखे से तमाशा देखते हैं और खुद को महफूस समझउस आवाज़ को i
20 दिसम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x