सबको प्यारी जिंदगी

24 दिसम्बर 2019   |  नीतू तितां   (364 बार पढ़ा जा चुका है)

सबको प्यारी जिंदगी

छोड़ देते हो खाना अगर आ जाए बाल


फिर क्यों खाते हो अंडा जिसमें पल रहा एक माँ का लाल


कुछ लोग मुझसे कहते है कि नॉन-वेज खाने से ताकत आती है ,सेहत बनती है


सही कहते है क्योंकि कुछ लोगो की सांसे ही दूसरों का खून पीकर चलती हैं




हां जानती हूँ वो बेजुबान बस बोल नहीं पाते हैं


बस इसी कारण तो लोग इनका भक्षण कर पाते है


बात केवल इंसान की क्यों


जीने का अधिकार इनको भी है


धर्म के नाम पर इनकी बलि


अपने स्वाद के लिए इनकी बलि



क्यों बस इसलिए की अपने अधिकारों के लिए ये बोल नहीं पाते है


सही में इसलिए तो यह इन इंसानों के हाथों मारे जाते है


इसलिए सतर्क रहे


एक दिन ऐसा भी आएगा


इंसान इंसान को खाएगा


लाख कोशिशों में बाद भी वो खुद को समझा नहीं पायेगा


आएगा वो दिन भी जब कबीर का लिखा दोहा सत्य हो जायेगा


माटी कहे कुम्हार से.....

इंसान कुछ कैसे नहीं एक नया इतिहास रचाएगा


जी हां ऊपर बैठा यह भगवान भी एक दिन इंसान से घबराएगा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x