घर संसार

26 दिसम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (4149 बार पढ़ा जा चुका है)

घर संसार

घर संसार बनाने में जीवन सारा बीता

आगे - आगे राम पीछे चल रहीं सीता

महाभारत युद्ध नहीं- है सास्वत गीता

'सद्गुरु' बिन जीवन रह जाता रीता

नव - चक्र जागृत कर हीं कोई जीता

घर - संसार बनाने में जीवन सारा बीता

आगे - आगे राम पीछे चल रहीं सीता


डॉ. कवि कुमार निर्मल


https://hindi.pratilipi.com/story/qnbzgcm2iwvw?utm_source=android&utm_campaign=content_share

अगला लेख: येसु फिर आओ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जनवरी 2020
लद्द-फद्द हो,जग को देते हीं रहते हैं!क्या जग भीइनको भी उतना हीं देता है?जड़ से पत्तों तकऔषधीय गुण रहता है!हम मृदु वाणी त्याग कटु वचन का संबल लेते हैं!!फलों का स्वाद तुष्ट करता है!हम जीवन को ध्रिणा से भरते हैं!!लद्द-फद्द हो,जग को देते हीं रहते हैं!क्या जग भीइनको भी उतना हीं देता है?डॉ. कवि कुमार नि
09 जनवरी 2020
25 दिसम्बर 2019
★★मसीहा फिर आओ★★येसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओतुमने सदा प्यार बाँट शुभ संदेश दिया हैहमने बँट कर नफ़रतभरा अंजाम दिया हैचमत्कार फिर दिखला कर होश में लाओप्रायश्चित और प्रार्थना का मार्ग बताओयेसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओडॉ. कवि कुमार निर
25 दिसम्बर 2019
03 जनवरी 2020
शंखनाद्शुभदिन आज भी आह्लादित कर जाएगापरम अराध्य का सामिप्य मन पा जाएगाप्रचण्ठ तृष्णा- सानिध्य की एषणा गहराई,सद्गुरु कृपा से सांजुज्य पा यह भक्त तर जाएगामैली चादर मन की धुल, आभा से भर जाएगाडॉ. कवि कुमार निर्मल
03 जनवरी 2020
18 दिसम्बर 2019
जब वे न पास हों, तुम आते हो!जब वे पास हों, चले जाते हो!!शर्म इतनी कि शर्म भी शर्माए,अपने साये से भी शर्माते हो!!!पास नहीं- छटक दूर जाते हो तुम,इशारों-इशारों से मुझे भगाते हो!रक़ीब नहीं, पर मेहरबां हो कर,क्यों (?) बिना बात यूँ जलाते हो!!मैं जब मुख़ातिब तो चुप होते,मैं सो जाऊँ तब बात करते हो!!!डॉ. कवि
18 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
जो
आसान नहीं है ज़िंदगीजीने का तरीका सीखलाना.आसान नहीं किसी कोसही राह दिखाना.आसान नहीं है खुद को भी बदलना, कुछ ख़्वाहिशोंको छोड़ना, कुछ सुविधाओं को त्यागना.त्याग की अग्नी में तपना औरउम्मीद के दीपक जलाना.धूप, बारिश, और ठंडको सहना.होंठो पर शिकायत कम और समाधाननिकालना.हां सचम
13 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
स्
बंद पिंजड़े से निकल जब पँक्षिआजाद हो गगन पार जाता है।मन की समस्त 'कुण्ठाओं' कोपिंजड़े में छोड़ वह आह्लादितहो गुनगुनाते उड़ता जाता है।।बँधनों से मुक्त हो- घुटन से निकस वहमुक्त प्राणी बन अराध्य तक जाता है।।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 दिसम्बर 2019
01 जनवरी 2020
लो बिन कहे मैं चुपके से आ गया हूँख़्वाबों को सबके- सजाने आ गया हूँतिलस्म नहीं, "सच" बन आ गया हूँ"चार" का मेरा यह आकड़ा नायाब हूँशुन्य से निकसा हुआ स्वर्णिम प्रभात हूँहर दिल की तमन्ना बन छा गया हूँ२०२० सतयुग लिए मैं आ गया हूँविश्व के नैतिकवादियों को समेट लाया हूँजाती-शरहदों को मिटाने आ गया हूँलबों की म
01 जनवरी 2020
07 जनवरी 2020
सुबह हो या फिर शाम होलबों पे बस तेरा नाम होहर काम में हम साथ होसपनों के तुम राजदार होलोगबाग तुझे भले महाकौल कहें,तुम बस एक मेरे श्याम होडॉ. कवि कुमार निर्मल
07 जनवरी 2020
27 दिसम्बर 2019
"मेरी जिद्द"जिद्द है- मन बनाया है- तुझे पाउँगादिल के एक कोने में छुपा- बिठाउँगागुफ़्तगू में लम्बी रातें- मैं बिताउँगासिकवा-शिकायत रोज सुलझाउँगाखासमखास बन- मयपन मिटाउँगातुझसे आया- तुझमें समा जाउँगाजिद्द है- मन बनाया है- तुझे पाउँगादिल के एक कोने में छुपा- बिठाउँगाडॉ. कवि कुमार निर्मल
27 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
येसु फिर आओ ★★मसीहा फिर आओ★★येसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओतुमने सदा प्यार बाँट शुभ संदेश दिया हैहमने बँट कर नफ़रतभरा अंजाम दिया हैचमत्कार फिर दिखला कर होश में लाओप्रायश्चित और प्रार्थना का मार्ग बताओयेसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओडॉ.
26 दिसम्बर 2019
04 जनवरी 2020
💐💐💐💐💐💐💐💐💐चित्तौड़ का राणा प्रताप कहाँ है? झाँसी की लक्ष्मी बाई कहाँ है??क्षत्रपति शिवाजी की तलवार कहाँ है? असली आजादी का जुनून गया कहाँ है?? शहिद दिवस पर श्रद्धांजलि मिल कर देते रहना! 'राजनीतिक आजादी' को झंडा फहराते रहना!!"सहोदर भाई" की प्रीत नहीं जब जानी! भूखे-नंगे की नम आँखें भी न पहचान
04 जनवरी 2020
13 दिसम्बर 2019
यादों का उँचा पहाड़सिमट कर मन में छुपकर रह जाता है।मन अटके मगर मनचुपके से बोझिल होलुप्त हो जाता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
13 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
28 दिसम्बर 2019
स्
19 दिसम्बर 2019
08 जनवरी 2020
13 दिसम्बर 2019
09 जनवरी 2020
स्
20 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
25 दिसम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x