बेटा या बेटी!!!

28 दिसम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (760 बार पढ़ा जा चुका है)

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
बेटा बचाओ- बेटी बहु बन कहीं जा घर बसाएगी!
जो बहु बन आए वह क्या (?) ''बेटी'' बन पाएगी!!
सुसंस्कार वरण कर पिया का घर-संसार बसाएगी!
उच्च घर में जा कर वह निखरेगी वा सकुचाएगी!!
विदा करते तो शुभ कहते पुरोहित् अभिवावक हैं!
माँ-बाप का हुनर समेटे, वही बनती बड़भागिन है!!
बेटा पास बैठे न बैठे- सहभागिन की बात समझाओ!
न्यारा चौका हो मगर प्रताणित करना मत सिखलाओ!!
बेटी बने लक्ष्मी तो बेटे को भी देवसम बना सुख पाओ!
अंत भला हो वृद्धों का, संचय की गुणवत्ता समझाओ!!
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
डॉ. कवि कुमार निर्मल


https://hindi.pratilipi.com/story/elg4exf6csh4?utm_source=android&utm_campaign=content_share

अगला लेख: अवतार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जनवरी 2020
"इति" और "अंत"समाहृत जीवन पर्यंतमैं कोई हूँ नहीं- संतहै यही-"वाक्य आप्त"सद् गति करुँगा प्राप्तयह है मेरे ''मन की बात''चक्र 'नौ' है, नहीं हैं 'सात'दिन हो या फिर हो- रातकरना उसी एक बस बात"मानव" मेरी एक है जातसत्-संग यही, आज बाँटडॉ. कवि कुमार निर्मल
08 जनवरी 2020
09 जनवरी 2020
मेरी प्रकाशित लगभग सभी रचनायें आसु होती हैं, अतयेव पुनर्अवलोकन से संशोधन का विकल्प नहीं मिलता?
09 जनवरी 2020
18 दिसम्बर 2019
सृ
सृजन.....! ज़िंदगी है ,बनती- बिगड़ती हसरतें , जो पूरी न होने पर भी नए सृजन की ओर इशारा करती हैं। सुबह की ओस की वे बूँदें , जो चंचलता से पत्तों पर थिरकती मिट्टी में समां जाती हैं , तो कहीं सूखे पत्तों- सी चरमराती ज़िंदगी, नया बीज पाकर फ़िर सेखिलखिलाती है। बचपन के किस्से ,कहानियों से निकल ,ज़िंदगी जैसे
18 दिसम्बर 2019
04 जनवरी 2020
💐💐💐💐💐💐💐💐💐चित्तौड़ का राणा प्रताप कहाँ है? झाँसी की लक्ष्मी बाई कहाँ है??क्षत्रपति शिवाजी की तलवार कहाँ है? असली आजादी का जुनून गया कहाँ है?? शहिद दिवस पर श्रद्धांजलि मिल कर देते रहना! 'राजनीतिक आजादी' को झंडा फहराते रहना!!"सहोदर भाई" की प्रीत नहीं जब जानी! भूखे-नंगे की नम आँखें भी न पहचान
04 जनवरी 2020
09 जनवरी 2020
लद्द-फद्द हो,जग को देते हीं रहते हैं!क्या जग भीइनको भी उतना हीं देता है?जड़ से पत्तों तकऔषधीय गुण रहता है!हम मृदु वाणी त्याग कटु वचन का संबल लेते हैं!!फलों का स्वाद तुष्ट करता है!हम जीवन को ध्रिणा से भरते हैं!!लद्द-फद्द हो,जग को देते हीं रहते हैं!क्या जग भीइनको भी उतना हीं देता है?डॉ. कवि कुमार नि
09 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
26 दिसम्बर 2019
स्
19 दिसम्बर 2019
03 जनवरी 2020
26 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
10 जनवरी 2020
07 जनवरी 2020
27 दिसम्बर 2019
27 दिसम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x