रॉक गार्डन पर कविता

09 जनवरी 2020   |  शिल्पा रोंघे   (4467 बार पढ़ा जा चुका है)

रॉक गार्डन पर कविता

रॉक गार्डन पर कविता-



फ़र्क बस नज़रिये का था.


टूटी हुई चीज़ समझकर बेज़ान

मान लिया गया.


इक शख़्स ने जोड़ जोड़कर मुझे

खूबसूरत बागीचा बना लिया.


शिल्पा रोंघे


अगला लेख: खबरों से कहां गायब हो गया विकास ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 दिसम्बर 2019
नू
वहीं खड़े है वृक्ष सभी तनकर.वहीं खिल रहे है फूल सुंगध फैलाकर.सदियों से वहीं खड़े पर्वत विशाल.उसी समुद्र में जाकर मिल रही तरंगिणी.उसी डाल पर बैठा है पक्षी घरौंदा बनाके,उसी नभ में उड़ रहा है पंख फैलाकर.कुछ नहीं बदलता नवीन वर्ष के साथ हां बस संकल्प निश्चित ही हो जाते है दृढ़.बीते वर्ष में मिली सीखें मा
30 दिसम्बर 2019
06 जनवरी 2020
ग़
फना करके कई सपने मेरा किरदार ज़िंदा है।।कहानी में महज अब तो मेरा यह प्यार ज़िंदा है।। गिरेबाँ तक किसी के हाथ को आने नहीं दूंगा। तुझे किस बात का डर है तेरा ये यार ज़िंदा है।।किसी को दोष क्या दूं मै मुकद्दर है यही मेरा। कि अपना घर जला करके मेरा फनकार ज़िंदा है।।
06 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x