जग

09 जनवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (4368 बार पढ़ा जा चुका है)

जग


लद्द-फद्द हो,

जग को देते हीं रहते हैं!

क्या जग भी

इनको भी उतना हीं देता है?

जड़ से पत्तों तक

औषधीय गुण रहता है!

हम मृदु वाणी त्याग

कटु वचन का संबल लेते हैं!!

फलों का स्वाद तुष्ट करता है!

हम जीवन को ध्रिणा से भरते हैं!!

लद्द-फद्द हो,

जग को देते हीं रहते हैं!

क्या जग भी

इनको भी उतना हीं देता है?


डॉ. कवि कुमार निर्मल


अगला लेख: येसु फिर आओ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
26 दिसम्बर 2019
घर संसार बनाने में जीवन सारा बीताआगे - आगे राम पीछे चल रहीं सीतामहाभारत युद्ध नहीं- है सास्वत गीता'सद्गुरु' बिन जीवन रह जाता रीतानव - चक्र जागृत कर हीं कोई जीताघर - संसार बनाने में जीवन सारा बीताआगे - आगे राम पीछे चल रहीं सीताडॉ. कवि कुमार निर्मलhttps://hindi.pratilipi.com/story/qnbzgcm2iwvw?utm
26 दिसम्बर 2019
18 जनवरी 2020
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚बाल रूप में तुम प्रभु,एक जैसे हीं लगते हो।गुरुकुल में तुम अलग-अलग से हीं दिखते हो।।कभी "बरसाने" में रास रचातेकभी लंका दहन करवाते हो।कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।शांत समाधि में कभी दिखते,कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।कभी दानव का वध तुम करते,कभी भस्मास
18 जनवरी 2020
18 जनवरी 2020
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚बाल रूप में तुम प्रभु,एक जैसे हीं लगते हो।गुरुकुल में तुम अलग-अलग से हीं दिखते हो।।कभी "बरसाने" में रास रचातेकभी लंका दहन करवाते हो।कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।शांत समाधि में कभी दिखते,कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।कभी दानव का वध तुम करते,कभी भस्मास
18 जनवरी 2020
19 जनवरी 2020
अमीरों के भगवान,महलों में पूूूूजे जाते है!भिक्षा-पात्र वाले साईं भक्त,झोपड़-पट्टी में धुनी रमाते हैं!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 जनवरी 2020
20 जनवरी 2020
राणा- शिवा- लक्ष्मीबाई को भूलजिन्ना नेहरु से मिल बँट रोते हो!तिरंगा फहराया नेता सुभाष नेसफेद टोपी पर जान झिड़कते हो!!बहुत घोटालों की जलेबी छानीसंकल्पों श्रिंखलाओं केमहाजाल में फँस सोते हो!जाग गई फिर सुभाष फौजविप्लव से भी तनिक नहीं डरते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
हा
हाय पैसे तूने क्या किया ? हाय पैसे तूने क्या किया,मनुष्य को मनुष्य न रहने दिया,सारे बंधन और रिश्ते तूने,यों ही तोड़ा,मर्यादा तूने क्यों तोड़ा,हाय पैसा तूने क्या किया।मानव जन को तूने,कौन-सी खायी में ढकेला,सारी संवेदना की पड़ताल कर,मनुष्य
14 जनवरी 2020
04 जनवरी 2020
💐💐💐💐💐💐💐💐💐चित्तौड़ का राणा प्रताप कहाँ है? झाँसी की लक्ष्मी बाई कहाँ है??क्षत्रपति शिवाजी की तलवार कहाँ है? असली आजादी का जुनून गया कहाँ है?? शहिद दिवस पर श्रद्धांजलि मिल कर देते रहना! 'राजनीतिक आजादी' को झंडा फहराते रहना!!"सहोदर भाई" की प्रीत नहीं जब जानी! भूखे-नंगे की नम आँखें भी न पहचान
04 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
❤❤💚💜💙💛💙❤❤💜💚❤प्रकृति पुरुष से है या फिर नारी से है!पिधला हिमखंड हीं बन जाता 'वारी' है!!पुरुष तैलिय दाहक तरल, नारी दाह्य कोमल बाती है! शक्ति संपात कर ज्योत प्रज्वलित वह करती है!! "अर्धनारीश्वर" की यही अमर गाथ, कहानी है! ऋषियों-देवों की यही सास्वत अमृत वाणी है!!💙💚💛 💜💗💜 💛💚💙ड
14 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
अवतारअवतार यहीं है।अवतार यहीं है।।मन की परतों को खोल,छुप बैठा वहीं कहीं है।एषणा बुरी नहीं है।बुरी नहीं है।।अनाधिकृत घनसंचय है अपराध,विवेकपूर्ण वितरणसही है।सत्य जहाँ अढिग है,धर्म वहीं है।।साधना सेवा त्याग कासुपथ सही है।।अवतार यहीं है।अवतार यहीं है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
10 जनवरी 2020
09 जनवरी 2020
मेरी प्रकाशित लगभग सभी रचनायें आसु होती हैं, अतयेव पुनर्अवलोकन से संशोधन का विकल्प नहीं मिलता?
09 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
भारत में जहां एक ओर महिलाओं को हर चीज में पीछा रखने की बात होती है तो वहीं दूसरी ओर सदियों से महिलाओं ने अपने हुनर से लोगों को हैरान किया है। इनमें कई वीरांगनाओं के साथ कई आधुनिक महिलाएं भी शामिल हैं और इन्होंने हर क्षेत्र में अपनी सोच-समझ से खास पहचान बनाई है। उनमें से एक थीं अमृता प्रीतम जो पंजाबी
23 जनवरी 2020
26 दिसम्बर 2019
येसु फिर आओ ★★मसीहा फिर आओ★★येसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओतुमने सदा प्यार बाँट शुभ संदेश दिया हैहमने बँट कर नफ़रतभरा अंजाम दिया हैचमत्कार फिर दिखला कर होश में लाओप्रायश्चित और प्रार्थना का मार्ग बताओयेसु! बार - बार आ कर आलोक फैलाओअँधेरा छाया- फिर से ज्योत बिखराओडॉ.
26 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
14 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
बे
28 दिसम्बर 2019
18 जनवरी 2020
26 दिसम्बर 2019
03 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
27 दिसम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x