तुम कौन हो?

18 जनवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (370 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम कौन हो?

🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚
बाल रूप में तुम प्रभु,
एक जैसे हीं लगते हो।
गुरुकुल में तुम अलग-
अलग से हीं दिखते हो।।
कभी "बरसाने" में रास रचाते
कभी लंका दहन करवाते हो।
कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,
कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।
शांत समाधि में कभी दिखते,
कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।
कभी दानव का वध तुम करते,
कभी भस्मासुर से डर जाते हो।।
महिमा तुम्हारी अपरम्पार प्रभु,
रहस्यमयी लीलाधर बनते हो।
भक्तों को तुम 'एकोहम् बहुस्यामि'
उचर कहीं जा कर छुप जाते हो।।
🙏डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏


अगला लेख: अवतार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जनवरी 2020
अमीरों के भगवान,महलों में पूूूूजे जाते है!भिक्षा-पात्र वाले साईं भक्त,झोपड़-पट्टी में धुनी रमाते हैं!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 जनवरी 2020
11 जनवरी 2020
अग्नि मे तपकर, सोने की पहिचान होती है।नन्नी सी जान, देश की शान होती है।यही ज्योति सबके घर की उजाला होती है।नन्नी सी गुड़िया दिल की तारा होती है।।यही सम्मान यही दिल की जान होती है।नन्नी सी जान देश की शान होती है।।1।।ये ना समझ नादान, इनक
11 जनवरी 2020
25 जनवरी 2020
अं
सफर का पयाम होगा,अंतिम वो विराम होगा।श्वांस भी होगी मद्धिम,जब महाप्रयाण होगा।वो दिन आखिरी होगा.....!!!लिखती कलम शब्द जो,वो पृष्ठ भी अंतिम होगा।भाव,कल्पना मर्म सब,सदृश्य जब प्रतीत होगा।वो दिन आखिरी होगा.....!!!देह थामेगी निष्क्रियता,होगी धड़कन निस्तारित।दृश्य सब होंगे गमगीन,द्रुतयान होगा संचालित।वो दि
25 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
"अंधेरा ना फटके! " ----------अन्धकार ना आये कुछ ऐसा जातां करो !सेना बन खड़े रहो ऐसी हूंकार भरो | *भारत का बच्चा -बच्चा जब तक पूर्णतया सच का लबादा लेकर ना उठकर जागेगा असत्य- हवा बहेगीहिल- हिल के कांपेगा ? * पाषाण पैच बनाकर सत्य लतियाता मिलेगाबहाने आसमान के वह धकियाता मिलेगाधरा पर आना
23 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
26 जनवरी 2020
राजनीतिक आजादी का कोई मोल है।आर्थिक आजादी अब तक रे गोल है।।खाली खजाना भर चलवाया जिनने,उनकी हीं होती सुहावनी हर भोर है।फूटपाथ से चुन खाये- जिनने तिनके,उनकी चौलों की छतों में कई होल हैं।।'आइ. पी. सी.' रट उतार लिया बचके,"अथर्व वेद" की ऋचाएँ सारी गोल हैं।अमीरों की उठ रही नित अट्टालिकायें,साधु चले
26 जनवरी 2020
20 जनवरी 2020
राणा- शिवा- लक्ष्मीबाई को भूलजिन्ना नेहरु से मिल बँट रोते हो!तिरंगा फहराया नेता सुभाष नेसफेद टोपी पर जान झिड़कते हो!!बहुत घोटालों की जलेबी छानीसंकल्पों श्रिंखलाओं केमहाजाल में फँस सोते हो!जाग गई फिर सुभाष फौजविप्लव से भी तनिक नहीं डरते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 जनवरी 2020
02 फरवरी 2020
वसंत ऋतु का यह धराधाम भारत भूखण्ड स्वागत् करता हैशिव भार्या प्रीये गंगा जटा से बह निकली- सारा जग कहता हैझरनों की वक्र धारा बन इठला कर गंगा चलती हैंपठारों पर दुस्तर पथ गह लम्बी यात्रा करती हैगंगा-सागर से मिल कपिल मुनि आश्रम तक जाती हैउत्तरांचल से चल पश्चिम तक भूमि सिं
02 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
फु
शायरी
28 जनवरी 2020
18 जनवरी 2020
"साहिल"साहिल बहुत है दूरकिश्ती डगमगा रही हैबालू का आशियाना,हवा धमका रही हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
18 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
हा
हाय पैसे तूने क्या किया ? हाय पैसे तूने क्या किया,मनुष्य को मनुष्य न रहने दिया,सारे बंधन और रिश्ते तूने,यों ही तोड़ा,मर्यादा तूने क्यों तोड़ा,हाय पैसा तूने क्या किया।मानव जन को तूने,कौन-सी खायी में ढकेला,सारी संवेदना की पड़ताल कर,मनुष्य
14 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
❤❤💚💜💙💛💙❤❤💜💚❤प्रकृति पुरुष से है या फिर नारी से है!पिधला हिमखंड हीं बन जाता 'वारी' है!!पुरुष तैलिय दाहक तरल, नारी दाह्य कोमल बाती है! शक्ति संपात कर ज्योत प्रज्वलित वह करती है!! "अर्धनारीश्वर" की यही अमर गाथ, कहानी है! ऋषियों-देवों की यही सास्वत अमृत वाणी है!!💙💚💛 💜💗💜 💛💚💙ड
14 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
04 जनवरी 2020
10 जनवरी 2020
14 जनवरी 2020
28 जनवरी 2020
09 जनवरी 2020
गु
25 जनवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x