वसंतोत्सव

02 फरवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (4499 बार पढ़ा जा चुका है)

वसंतोत्सव

वसंत ऋतु का यह धराधाम
भारत भूखण्ड स्वागत् करता है


शिव भार्या प्रीये गंगा
जटा से बह निकली- सारा जग कहता है


झरनों की वक्र धारा बन इठला कर गंगा चलती हैं


पठारों पर दुस्तर पथ गह लम्बी यात्रा करती है


गंगा-सागर से मिल कपिल मुनि आश्रम तक जाती है


उत्तरांचल से चल पश्चिम तक भूमि सिंचित करती है


मकर संक्राति झेल गंगा उष्णता रवि किरणों संग बरसती है


समित उर्वरक शक्ति पुनर्सृजित हो कृषकों को भाती है


'हरित क्रांति' त्वरण हर वर्ष- स्मृद्ध बनाता है


वसंत ऋतु से जन आह्ललादित-

राष्ट्र प्रगति करता है


डॉ. कवि कुमार निर्मल
एम. बी. बी. एस. (१९७८)
बेतिया (बिहार)
9708055684

अगला लेख: वसंत ऋतु आगमन्



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जनवरी 2020
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚बाल रूप में तुम प्रभु,एक जैसे हीं लगते हो।गुरुकुल में तुम अलग-अलग से हीं दिखते हो।।कभी "बरसाने" में रास रचातेकभी लंका दहन करवाते हो।कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।शांत समाधि में कभी दिखते,कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।कभी दानव का वध तुम करते,कभी भस्मास
18 जनवरी 2020
12 फरवरी 2020
कविमनन-चिंतन, पठन-पाठन में अग्रसारिता गह,बुद्धिजीवी कोई बन पाता है। तुकबंदी, कॉपी-एडिट वा कुछेक लकिरें उकेर,कवि कोई बन नहीं सकता है।। जन्मजात संस्कारों की पोटलीगर्भ से हीं कवि साथ लाता है। मानसिकत: परिपक्व हो मचल-उछल कर अभिव्यक्ति करता है।कवित्व स्वत: स्फुरित-स्फुटित हो,'रचनाकार' निखर उभरता है।। आलो
12 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
कृष्णमहाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादित मित्रों का,साथ, चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्यार चाहिए।दानवों का अट्टाहस नहीं
28 जनवरी 2020
18 जनवरी 2020
"साहिल"साहिल बहुत है दूरकिश्ती डगमगा रही हैबालू का आशियाना,हवा धमका रही हैडॉ. कवि कुमार निर्मल
18 जनवरी 2020
31 जनवरी 2020
ओ' मेरे मेधावी- सात वर्षिय कलाविद्,हुनर के सागर-कला के प्रेमी,विज्ञान के शोधकर्ता,प्यार के मसिहा- निपुण सुक्ष्म विश्लेषक,मर्यादाओं की अनन्त सीमा,अपनी मन पसंद-दुनिया के मालिक,ब्रह्माण्ड के विश्व कोष,विज्ञानं, खगोल, इतिहास,और आप द्वारा प्रदत्त ज्ञान,तुम्हारा मनपसंद रंग
31 जनवरी 2020
05 फरवरी 2020
दुनिया का जादुगरविश्व लीला एवम् विश्व मेलातुम्हारी हीं अद्भुत रचना है।तुम्हारे दर पर इबादतखुद पर जादुगरीहर आदमी करता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
05 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
फु
शायरी
28 जनवरी 2020
25 जनवरी 2020
गु
गुरूर जिश्म ओ' हुनर का बेकार हो जाएगा।झुर्रियों से टपकता इश्क हीं---- रंग लाएगा।।निर्मल
25 जनवरी 2020
07 फरवरी 2020
🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵कभी पतझड़ के थपेड़ों से,मुरझा, झुक तुम जाते हो!🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿कभी वसंत की हवाओं से,मिल-जुल के मुस्कुराते हो!!🍀🍀🍀🍀🍀🍀🍀🍀🌞🌝🌞🌝🌞🌝🌝🌞सूरज की तपिश सह कर भी,फल-फूल डाल के लहराते हो!🌸🌷🌹🌻🌺🌻🌹🌸सावन-भादो की बौछारों से,झूम-झूम तुम इतराते हो!!⛅⚡☁☔☁⚡⛅सर्दियों के दस्तक के पहले
07 फरवरी 2020
18 जनवरी 2020
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚बाल रूप में तुम प्रभु,एक जैसे हीं लगते हो।गुरुकुल में तुम अलग-अलग से हीं दिखते हो।।कभी "बरसाने" में रास रचातेकभी लंका दहन करवाते हो।कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।शांत समाधि में कभी दिखते,कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।कभी दानव का वध तुम करते,कभी भस्मास
18 जनवरी 2020
19 जनवरी 2020
अमीरों के भगवान,महलों में पूूूूजे जाते है!भिक्षा-पात्र वाले साईं भक्त,झोपड़-पट्टी में धुनी रमाते हैं!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
भारत में जहां एक ओर महिलाओं को हर चीज में पीछा रखने की बात होती है तो वहीं दूसरी ओर सदियों से महिलाओं ने अपने हुनर से लोगों को हैरान किया है। इनमें कई वीरांगनाओं के साथ कई आधुनिक महिलाएं भी शामिल हैं और इन्होंने हर क्षेत्र में अपनी सोच-समझ से खास पहचान बनाई है। उनमें से एक थीं अमृता प्रीतम जो पंजाबी
23 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
कहानीदिवस और निशा कीहर भोर उषा की किरणों के साथशुरू होती है कोई एक नवीन कहानी…हर नवीन दिवस के गर्भ मेंछिपे होते हैं न जाने कितने अनोखे रहस्यजो अनावृत होने लगते हैं चढ़ने के साथ दिन के…दिवस आता है अपने पूर्ण उठान परतब होता है भान दिवस के अप्रतिम दिव्यसौन्दर्य का…सौन्दर्य ऐसा, जोकरता है नृत्य / रविकरों
30 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
19 जनवरी 2020
26 जनवरी 2020
अं
25 जनवरी 2020
गु
25 जनवरी 2020
10 फरवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x