दिल की डायरी

12 फरवरी 2020   |  Ravi Sagar   (1793 बार पढ़ा जा चुका है)

दिल की डायरी

💐💐💐💐💐💐

एक ख्याल आया जो मन में,

डाल दिया तुमने उलझन में

मिले जो तुम ऐसे डगर में,

भूल गया सब पल भर में

💛💛💛💛💛💛


आसमान छूने की ललक थी उसमे,

संघर्ष की एक झलक थी उसमें

सबसे अलग एक कोहिनूर है वो,

अपने पिता का गुरूर है वो

💛💛💛💛💛💛


ऐसा लगा एक अनजान सी परी मिल गई,

मुझे मेरे दिल की डायरी मिल गई

सुना था ऐसा कुछ फिल्मों में,

आज हक़ीक़त में मुझे शायरी मिल गई

💛💛💛💛💛💛


जब तक थे वो साथ मेरे,

न थी कोई उम्मीद के फेरे

जब वो लगे बिछड़ने हमसे,

रोक न पाया खुद को खुद से

💛💛💛💛💛💛


तुम कौन हो ये किसे बताऊं,

खुद अनजान हूँ मैं क्या सुनाऊँ

कहो तो मै तुम्हे अपनी दुनिया बनाऊं

फिर मैं तुम पर हक़ जताऊँ .........

♥️♥️♥️♥️♥️♥️



रवि सागर ....... ✍️

अगला लेख: बचपन की कुछ यादें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 फरवरी 2020
🍀🎄🍃🌿🌴🌴🌿🍃🎄वंसंत ऋतु के अद्भुत सौन्दर्य ने,मेरे हृदय में पुरजोर अगन है लगाई!🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🔥 🔥तुझे पाने की चाहत ने मेरे हिया में,अश्कों की नदियाँ कई बहवाई!!💦💦💦💦💦💦💦 💦 💦 प्रगाड़ नींद्रा से झकझोर मुझे तुमने जगाया!तन्द्रा को रक्तिम-तिव्र किरणों से दूर भगाया!!☀☀☀☀☀☀☀☀☀ ☀ ☀अहिर्निष तुम्ह
03 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
सब्बा खैर से शाम तक की सफरआज निंदिया आवे ना आवे,सब्बा खैर का तो बनता है।सुबह के सपने सच हों,मालिक से यह बंदा,इल्तिज़ा किया करता है।।भोर का सपना टुटते के संगचाय का प्याला सजता है।हो, न हो फर्माइश उनकी,शाम को तोहफा बनता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
12 फरवरी 2020
05 फरवरी 2020
दुनिया का जादुगरविश्व लीला एवम् विश्व मेलातुम्हारी हीं अद्भुत रचना है।तुम्हारे दर पर इबादतखुद पर जादुगरीहर आदमी करता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
05 फरवरी 2020

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x