कवि

12 फरवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (412 बार पढ़ा जा चुका है)

कवि


मनन-चिंतन, पठन-पाठन में अग्रसारिता गह,
बुद्धिजीवी कोई बन पाता है।
तुकबंदी, कॉपी-एडिट वा कुछेक लकिरें उकेर,
कवि कोई बन नहीं सकता है।।
जन्मजात संस्कारों की पोटली
गर्भ से हीं कवि साथ लाता है।
मानसिकत: परिपक्व हो मचल-
उछल कर अभिव्यक्ति करता है।
कवित्व स्वत: स्फुरित-स्फुटित हो,
'रचनाकार' निखर उभरता है।।
आलोचना नहीं विवेचना हीं
कवि का संबल होता है।
कवि गोष्ठियों में सृजन शक्ति का
परिमार्जन होता है।।
कल्पना जगत का पथिक,
अनवरत सृजन वह करता है।
"जाति-भाषा-सिमाओं" के
'चक्रव्यूह' से विलग रहता है।।
धन्य-धन्य हे कवि तू
विशुद्ध चक्र में विचरता है।
जन हित में हीं कवि
श्रेष्ठ सृजनकर्ता बनता है।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: वसंत ऋतु आगमन्



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जनवरी 2020
गु
गुरूर जिश्म ओ' हुनर का बेकार हो जाएगा।झुर्रियों से टपकता इश्क हीं---- रंग लाएगा।।निर्मल
25 जनवरी 2020
25 जनवरी 2020
गु
गुरूर जिश्म ओ' हुनर का बेकार हो जाएगा।झुर्रियों से टपकता इश्क हीं---- रंग लाएगा।।निर्मल
25 जनवरी 2020
05 फरवरी 2020
दुनिया का जादुगरविश्व लीला एवम् विश्व मेलातुम्हारी हीं अद्भुत रचना है।तुम्हारे दर पर इबादतखुद पर जादुगरीहर आदमी करता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
05 फरवरी 2020
03 फरवरी 2020
🍀🎄🍃🌿🌴🌴🌿🍃🎄वंसंत ऋतु के अद्भुत सौन्दर्य ने,मेरे हृदय में पुरजोर अगन है लगाई!🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🔥 🔥तुझे पाने की चाहत ने मेरे हिया में,अश्कों की नदियाँ कई बहवाई!!💦💦💦💦💦💦💦 💦 💦 प्रगाड़ नींद्रा से झकझोर मुझे तुमने जगाया!तन्द्रा को रक्तिम-तिव्र किरणों से दूर भगाया!!☀☀☀☀☀☀☀☀☀ ☀ ☀अहिर्निष तुम्ह
03 फरवरी 2020
03 फरवरी 2020
🍀🎄🍃🌿🌴🌴🌿🍃🎄वंसंत ऋतु के अद्भुत सौन्दर्य ने,मेरे हृदय में पुरजोर अगन है लगाई!🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🔥 🔥तुझे पाने की चाहत ने मेरे हिया में,अश्कों की नदियाँ कई बहवाई!!💦💦💦💦💦💦💦 💦 💦 प्रगाड़ नींद्रा से झकझोर मुझे तुमने जगाया!तन्द्रा को रक्तिम-तिव्र किरणों से दूर भगाया!!☀☀☀☀☀☀☀☀☀ ☀ ☀अहिर्निष तुम्ह
03 फरवरी 2020
31 जनवरी 2020
ओ' मेरे मेधावी- सात वर्षिय कलाविद्,हुनर के सागर-कला के प्रेमी,विज्ञान के शोधकर्ता,प्यार के मसिहा- निपुण सुक्ष्म विश्लेषक,मर्यादाओं की अनन्त सीमा,अपनी मन पसंद-दुनिया के मालिक,ब्रह्माण्ड के विश्व कोष,विज्ञानं, खगोल, इतिहास,और आप द्वारा प्रदत्त ज्ञान,तुम्हारा मनपसंद रंग
31 जनवरी 2020
28 जनवरी 2020
कृष्णमहाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादित मित्रों का,साथ, चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्यार चाहिए।दानवों का अट्टाहस नहीं
28 जनवरी 2020
02 फरवरी 2020
वसंत ऋतु का यह धराधाम भारत भूखण्ड स्वागत् करता हैशिव भार्या प्रीये गंगा जटा से बह निकली- सारा जग कहता हैझरनों की वक्र धारा बन इठला कर गंगा चलती हैंपठारों पर दुस्तर पथ गह लम्बी यात्रा करती हैगंगा-सागर से मिल कपिल मुनि आश्रम तक जाती हैउत्तरांचल से चल पश्चिम तक भूमि सिं
02 फरवरी 2020
26 जनवरी 2020
राजनीतिक आजादी का कोई मोल है।आर्थिक आजादी अब तक रे गोल है।।खाली खजाना भर चलवाया जिनने,उनकी हीं होती सुहावनी हर भोर है।फूटपाथ से चुन खाये- जिनने तिनके,उनकी चौलों की छतों में कई होल हैं।।'आइ. पी. सी.' रट उतार लिया बचके,"अथर्व वेद" की ऋचाएँ सारी गोल हैं।अमीरों की उठ रही नित अट्टालिकायें,साधु चले
26 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
कहानीदिवस और निशा कीहर भोर उषा की किरणों के साथशुरू होती है कोई एक नवीन कहानी…हर नवीन दिवस के गर्भ मेंछिपे होते हैं न जाने कितने अनोखे रहस्यजो अनावृत होने लगते हैं चढ़ने के साथ दिन के…दिवस आता है अपने पूर्ण उठान परतब होता है भान दिवस के अप्रतिम दिव्यसौन्दर्य का…सौन्दर्य ऐसा, जोकरता है नृत्य / रविकरों
30 जनवरी 2020
14 फरवरी 2020
★★★★★शिवरात्रि के शुभ अवसर पर★★★★★★शिव का रहस्यमयी एवम् गौरवमयी इतिहास★2020 ई. में 21 फरवरी को यह शुभ दिन आ रहा है।ऋग्वेद लगभग 15 (पंद्रह) हजार वर्ष पूर्व रचित होना प्रारम्भ हुआ था। अनुमानतः सात हजार वर्ष पूर्व प्रथम महासंभुति तारक ब्रह्म भगवान शिव इस धरा धाम पर मानव के रूप में अवतरित हुए थे।वह समय
14 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
फु
शायरी
28 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x