बेटी

27 फरवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (284 बार पढ़ा जा चुका है)

बेटी

बेटी


बेटे से बाप का बटवारा

युगों से होता चला आया है!
माँ को बाप से विलगा- श

पीड़ा तक भी बटवाया है!!
उसर कोख का ताना ले

कोर्ट का चक्कर मर्द लगता है!
कपाल क्रिया कर वह

आधे का हक सहज पा जाता है!!
बेटी सिंदूर लगवा

एक साड़ी में लिपट साथ हो लेती है!
माँ-बाप का दु:ख सुनते हीं

वह दौड़ी चली आती है!!
मरने पर वह साथ न हो,

आ आसूँ ले कर जाती है!!!
बेटा होने पर कुलबा सारा

खुश हो कर जश्न मनाता हैं!
बेटी हो तो सौ घड़ा सर पर

ज्यूँ पड़ा, अश्क बहाता हैं!!
हजार ₹ में अवैद्य जाँच

लिंग भेद जान, गर्भपात रे करवाते हैं!
मायें अनेक वेदना- अतिरक्तश्राव से

बेमौत रोज मर जाती हैं!!

बेटी का भ्रूण यह मर्म

भलिभाँति समझता है!
कलप-चींख कर जीवन की

भीख मांगता है!!
आधुनिकता का साया

आज विकराल हुआ है!
भ्रूण हत्या हुई सरयाम चाहत,

व्यापार बड़ा है!!
कानून तुम कितने भी बदल,

उलट-पलट डालो!
महापाप कर कचरे के

डब्बों में लोथड़ा डालो!!
काली-दुर्गा-रणचण्डी माँ

का खप्पर अब चलेगा!
"नभ्य मानवाद" का

चहुदिसी शंख गुँजित होगा!!
नहीं गर चेतोगे दुनिया वालों,

नारी पृथ्वी पर दुर्लभ होगी!
हर घर में होगी द्रौपदी,

चीर-हरण की पीड़ा दारुण होगी!!


डॉ• के• के• निर्मल

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मार्च 2020
भू
फूलों की बाग में,सुरों की राग में।शिक्षा की किताब में,खुशबू की गुलाब में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!मूर्ति की मंदिर में,आस्था की प्रार्थना में।विश्वास की मन में,आत्मा की तन में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!सूरज की दिन में,चंदा की रैन में।तारों की गगन में,मेघों की बरसात में।जो
03 मार्च 2020
10 मार्च 2020
ओ' मेरे रंगरेज़ बता कैसे- तेरे रंगों से मैं भर जाऊँ?विधा न आवे, राग नहीं; कैसे गीत गा तुझे रिझाऊँ??निर्मल
10 मार्च 2020
11 मार्च 2020
आज का हालआमरण हड़ताल, मांगों की बौछारनिर्जला व्रतों का गगनचुंबी पहाड़वृद्धों का अनादर एवम् तिरस्कारउदारता से नहीं है तनिक सरोकारबंद कमरे से चलती रही आज की सरकारईर्श्या-द्वेष-ध्रिणा मात्र- नहीं तनिक रे प्याररिस्तों का झूठला कर, गैरों से पनपा प्यारपरिवार यत्र-तत्र टूट
11 मार्च 2020
10 मार्च 2020
ओ' मेरे रंगरेज़ बता कैसे- तेरे रंगों से मैं भर जाऊँ?विधा न आवे, राग नहीं; कैसे गीत गा तुझे रिझाऊँ??निर्मल
10 मार्च 2020
05 मार्च 2020
सपनेसुहावने सपनों के बाद सुहानी भोर आएगीफिर वहीं शाम आ कर सपने नए सजाएगीकौन जानता है (?) कल दस्तख़ दे उठाएगीदिन में शौहरत पाँव चूम कर गले लगाएगीकर दिया है जब खुद को- हवाले मालिक कोबिधना अपनी जादुगरी क्याकर (?)दिखाएगीडॉ. कवि कुमार निर्मल
05 मार्च 2020
12 फरवरी 2020
कविमनन-चिंतन, पठन-पाठन में अग्रसारिता गह,बुद्धिजीवी कोई बन पाता है। तुकबंदी, कॉपी-एडिट वा कुछेक लकिरें उकेर,कवि कोई बन नहीं सकता है।। जन्मजात संस्कारों की पोटलीगर्भ से हीं कवि साथ लाता है। मानसिकत: परिपक्व हो मचल-उछल कर अभिव्यक्ति करता है।कवित्व स्वत: स्फुरित-स्फुटित हो,'रचनाकार' निखर उभरता है।। आलो
12 फरवरी 2020
08 मार्च 2020
ना
हम लाए नए जीवन को और कराए स्तनपानहम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समानहम किसी आदमी से अब डरना नहीं चाहतेहम अपनी मां के गर्भ में अब मरना नहीं चाहतेहम भी करना चाहेंगे अपने खर्चों का भुगतानहम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समानहम भी आगे बढ़ेंगे तो काम आगे बढ़ेगाहम आपके साथ मिल जाए तो देश का नाम आगे बढ़ेगा
08 मार्च 2020
22 फरवरी 2020
बांस की डाल चुन गुहा बनाईसात छिद्र कर होठों से लगाईसा-रे-ग-म-प-ध-नी★ सुर से हटी तन्हाईप्रिय बाँसुरिया तक राधा के हाथों में थमाईतंत्र साधना की जटिल गुत्थी सहज सुलझाईपर राधा थी कि बस कृष्ण नाम की रट लगाईनिर्मल★संगीत के सात शुद्धस्वर:---षड्ज (सा)ऋषभ (रे)गंधार (ग)मध्यम (म)पंचम (प)धैवत (ध)निषाद (नी)स्वर
22 फरवरी 2020
09 मार्च 2020
होली का अर्थ हुआ बँधुओं, हम भगवान् के होलिएतन-मन-धन-समय-सांस-संकल्प भगवान् के लिएभगवान् की ही अहेतुकी कृपा के फलस्वरुप हम हुएविगत बातों को कहते हम सब- "होली" सो होलीशंकर के भक्त भ्रमित हो गटक रहे रे भंग की गोलीपवित्रता को फिरंगियों ने भी सहृदय कहा सदा होलीये तीनों अर्थ हम सब के लिए श
09 मार्च 2020
12 मार्च 2020
★★★★★उल्फ़त★★★★★क़ायनात के मालिक का वारिस,भिखारी बन छुप अश्क बहाता है।सर्वनिगलु एक अमीरजादा,खोटे सिक्के की बोरी पाता है।।🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵सुना है इश्क 'खास महिने' मेंशिकार कर सवँरता हैं !हुश्न पे एतवार कर,"मुकम्मल" फना होता है!!🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂उड़ता रहा ख्यालों में तेरेउम्मीदों से गुल खिले मेरे💮💮💮💮💮�
12 मार्च 2020
05 मार्च 2020
सपनेसुहावने सपनों के बाद सुहानी भोर आएगीफिर वहीं शाम आ कर सपने नए सजाएगीकौन जानता है (?) कल दस्तख़ दे उठाएगीदिन में शौहरत पाँव चूम कर गले लगाएगीकर दिया है जब खुद को- हवाले मालिक कोबिधना अपनी जादुगरी क्याकर (?)दिखाएगीडॉ. कवि कुमार निर्मल
05 मार्च 2020
20 फरवरी 2020
वख़्त बचता नहींवख़्त बचता हीं नहीं उफ! खुद के लिये,हदों के पार जा- ख़ुद को कुछ सँवार लूँ!गुलशन में तुम्हारे मशगूल हुए इस कदर,कैसे (?) कुछ लम्हें तेरी तवज़्जो में,'गुफ़्तगू' कर ताजिंदगी गुजार दूँ!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
11 मार्च 2020
12 फरवरी 2020
29 फरवरी 2020
29 फरवरी 2020
26 फरवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x