राष्ट्र प्रेम

28 फरवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (277 बार पढ़ा जा चुका है)

राष्ट्र प्रेम

मेरा न्यारा देश है ये भारत
दीप जले घर-घर, हर आँगन
रंग-बिरंगी सजी रंगोली द्वारों पर
प्रिये का श्रृंगार देख, इठलाये साजन
विजय-ध्वजा फहरे हर चौबारे
वीरों का ये देश राष्ट्र की सीमा संवारे
पाई हर बच्चे ने आज महारथ
देश-प्रेम से बड़ा न कोई स्वारथ
जग-मग करता मेरा प्यारा भारत
स्वरचित ©®
★★★★★★★★★★★★★★

प्रेरणात्मक सृजन


नगर-नगर में खून-खराबा,
लूट-लपट हर गाँव में
ऐसे में आओ कुछ सोचें,
बैठ नीम की छाँव में
शवे दिन कंधों पर झण्डे थे
पोर-पोर पड़ते डण्डे थे
बूटों की ठोकरें, जेल, फाँसियाँ
दमन के हथकण्डे थे
क्रूर यातना शिविरों में हम
होते थे बेसुध औ‘ बेदम
झुके न पल भर को, हिमगिरी-सा
सदा तने रहते थे हरदम
जेल गये, फाँसी पर झूले
मेर-मिटे, पर ध्येय न भूले
चिन्ता थी बस एक कि घर-घर
बेला फूले, चम्पा फूले
और एक दिन चित्त हो गया,
दुश्मन हल्के दाँव में
टूट-टूट बिखरी हथकडि़याँ,
बेड़ी तड़की पाँव में
मना मुक्ति का पर्व सुहाना
रहा खुशी का नहीं ठिकाना
लगा रहा शासन की कुर्सी
पर अपनों का आना-जाना
किन्तु, आज सारी खुशियाँ
हो गयी तिरोहित, वज्र गिरा है
घोर अनैतिकता के विष से-
भरी देश की शिरा-शिरा है
स्वप्न भंग हो गया,
मुर्दागनी छायी,
घर-घर अंधकार है
राष्ट्र-प्रेम की उड़ी धज्ज्यिाँ
लूट मच रही धुआँधार है
लहरें छूती आसमान को,
छेद हो गया नाव में
लगता देश बिकेगा जल्दी,
एक टके के। भाव में
जब तक पद का मद महकेगा
लालच-लोभ-स्वार्थ बहकेगा
सत्ता की मदिरा पी-पीकर
मानव नर-पशु-सा बहकेगा
अनाचार का अन्त न होगा
पतझर छोड़ वसन्त ना होगा
घर-घर दानव पैदा होंगे
कोई सज्जन-संत न होगा
जल्दी ही कुछ करना होगा
बनना और सँवरना होगा
नयी राह ढूँढ़नी पड़ेगी
यदि न, लाश यह और सड़ेगी
कीड़े पड़ जायेंगे
‘रोगी प्रजातंत्र’ के घाव में
देशवासियों!
आग लगाकर ईष्र्या-द्वेष-दुराव में
आओ, कुछ सोचें, कुछ समझें,
बैठ नीम की छाँव में
अन्यरचित काव्य रचना:
कीर्तिशेष श्री विमल राजस्थानी जी
(अपने मेरे पिता🙏)

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 मार्च 2020
*इस संसार में मनुष्य जैसा कर्म करता उसको वैसा ही फल मिलता है | किसी के साथ मनुष्य के द्वारा जैसा व्यवहार किया जाता है उसको उस व्यक्ति के माध्यम से वैसा ही व्यवहार बदले में मिलता है , यदि किसी का सम्मान किया जाता है तो उसके द्वारा सम्मान प्राप्त होता है और किसी का अपमान करने पर उससे अपमान ही मिलेगा |
12 मार्च 2020
14 फरवरी 2020
प्
प्रेम सदियों से मानव जीवन का अभिन्न हिस्सा रहा है | हर इंसान अपने जीवन में प्रेम के अनुभव से गुजरता है | इसे प्रेम, प्यार , इश्क , स्नेह , नेह इत्यादि ना जाने कितने नामों से पुकारा गया और उतनी ही नई परिभाषाएं गढ़ी गयी |ये जब भगवान से हुआ - भक्ति कहलाया , प्रियतम से हुआ नेह कहलाया , अप्राप्य स
14 फरवरी 2020
05 मार्च 2020
सपनेसुहावने सपनों के बाद सुहानी भोर आएगीफिर वहीं शाम आ कर सपने नए सजाएगीकौन जानता है (?) कल दस्तख़ दे उठाएगीदिन में शौहरत पाँव चूम कर गले लगाएगीकर दिया है जब खुद को- हवाले मालिक कोबिधना अपनी जादुगरी क्याकर (?)दिखाएगीडॉ. कवि कुमार निर्मल
05 मार्च 2020
26 फरवरी 2020
💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓 कृष्ण 💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓महाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादितमित्रों का-साथ,चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत: युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्या
26 फरवरी 2020
22 फरवरी 2020
बांस की डाल चुन गुहा बनाईसात छिद्र कर होठों से लगाईसा-रे-ग-म-प-ध-नी★ सुर से हटी तन्हाईप्रिय बाँसुरिया तक राधा के हाथों में थमाईतंत्र साधना की जटिल गुत्थी सहज सुलझाईपर राधा थी कि बस कृष्ण नाम की रट लगाईनिर्मल★संगीत के सात शुद्धस्वर:---षड्ज (सा)ऋषभ (रे)गंधार (ग)मध्यम (म)पंचम (प)धैवत (ध)निषाद (नी)स्वर
22 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
27 फरवरी 2020
26 फरवरी 2020
10 मार्च 2020
13 मार्च 2020
29 फरवरी 2020
12 मार्च 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x