सपने

05 मार्च 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (284 बार पढ़ा जा चुका है)

सपने

सपने


सुहावने सपनों के बाद सुहानी भोर आएगी


फिर वहीं शाम आ कर सपने नए सजाएगी


कौन जानता है (?) कल दस्तख़ दे उठाएगी


दिन में शौहरत पाँव चूम कर गले लगाएगी


कर दिया है जब खुद को- हवाले मालिक को


बिधना अपनी जादुगरी क्याकर (?)दिखाएगी


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मार्च 2020
भू
फूलों की बाग में,सुरों की राग में।शिक्षा की किताब में,खुशबू की गुलाब में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!मूर्ति की मंदिर में,आस्था की प्रार्थना में।विश्वास की मन में,आत्मा की तन में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!सूरज की दिन में,चंदा की रैन में।तारों की गगन में,मेघों की बरसात में।जो
03 मार्च 2020
29 फरवरी 2020
कभी मत रहो आश्रित किस्मत पर केवलकरो तुम मेहनत, तभी होंगे तुम सफलपहले तुम्हारे काम अटकते हुए दिखेंगेपहले तुम्हारे मार्ग भटकते हुए दिखेंगेकुछ समझ में न आए तभी जब तुम्हेंमन से ताकत खिसकते हुए दिखेंगेधीरे - धीरे बाद में तुम जाओगे संभलकरो तुम मेहनत, तभी होंगे तुम सफलछांव धूप से तुम्हे डराती हुई आयेगीसुस्
29 फरवरी 2020
10 मार्च 2020
ओ' मेरे रंगरेज़ बता कैसे- तेरे रंगों से मैं भर जाऊँ?विधा न आवे, राग नहीं; कैसे गीत गा तुझे रिझाऊँ??निर्मल
10 मार्च 2020
12 मार्च 2020
★★★★★उल्फ़त★★★★★क़ायनात के मालिक का वारिस,भिखारी बन छुप अश्क बहाता है।सर्वनिगलु एक अमीरजादा,खोटे सिक्के की बोरी पाता है।।🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵सुना है इश्क 'खास महिने' मेंशिकार कर सवँरता हैं !हुश्न पे एतवार कर,"मुकम्मल" फना होता है!!🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂उड़ता रहा ख्यालों में तेरेउम्मीदों से गुल खिले मेरे💮💮💮💮💮�
12 मार्च 2020
10 मार्च 2020
ओ' मेरे रंगरेज़ बता कैसे- तेरे रंगों से मैं भर जाऊँ?विधा न आवे, राग नहीं; कैसे गीत गा तुझे रिझाऊँ??निर्मल
10 मार्च 2020
20 मार्च 2020
को
🙏कोरोना की विदाई🙏"कोरोना" की कर रहाचीन विदाई!भारत क्योंकर करे उनकी भरपाई?ठप्प हुआ आयात, आगे नाम मत लेनामेरे भाई।कैलाश-मानसरोवर लौटाए, भला करेगा उनका साईं।डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 मार्च 2020
16 मार्च 2020
👿👹👿👹👿👹👿👹👿👹👿कोरोना! कोरोना!! कोरोना!!!उचर करत्राहिमाम् - त्राहिमाम् सब चिल्लाते हो!फैल रही चहुंदिश तामसिकता कोतौल नहीं तुम रे मानव पाते हो!!कार्निभोरस नहीं तन से पर-भक्षण कर विष उगल रहे हो!समय अभी भी है बाकि,चेत सात्विकता नहीं गह पाते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
16 मार्च 2020
22 फरवरी 2020
बांस की डाल चुन गुहा बनाईसात छिद्र कर होठों से लगाईसा-रे-ग-म-प-ध-नी★ सुर से हटी तन्हाईप्रिय बाँसुरिया तक राधा के हाथों में थमाईतंत्र साधना की जटिल गुत्थी सहज सुलझाईपर राधा थी कि बस कृष्ण नाम की रट लगाईनिर्मल★संगीत के सात शुद्धस्वर:---षड्ज (सा)ऋषभ (रे)गंधार (ग)मध्यम (म)पंचम (प)धैवत (ध)निषाद (नी)स्वर
22 फरवरी 2020
08 मार्च 2020
ना
हम लाए नए जीवन को और कराए स्तनपानहम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समानहम किसी आदमी से अब डरना नहीं चाहतेहम अपनी मां के गर्भ में अब मरना नहीं चाहतेहम भी करना चाहेंगे अपने खर्चों का भुगतानहम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समानहम भी आगे बढ़ेंगे तो काम आगे बढ़ेगाहम आपके साथ मिल जाए तो देश का नाम आगे बढ़ेगा
08 मार्च 2020
03 मार्च 2020
शायरीशायरी लिखूं क्या?शरहदें जब मजबूर हैं!फासला एक आता है मुझे-सबका मालिक एक है!!डॉ. कवि कुमार निर्मलके. के.
03 मार्च 2020
26 फरवरी 2020
💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓 कृष्ण 💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓💓महाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादितमित्रों का-साथ,चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत: युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्या
26 फरवरी 2020
11 मार्च 2020
आज का हालआमरण हड़ताल, मांगों की बौछारनिर्जला व्रतों का गगनचुंबी पहाड़वृद्धों का अनादर एवम् तिरस्कारउदारता से नहीं है तनिक सरोकारबंद कमरे से चलती रही आज की सरकारईर्श्या-द्वेष-ध्रिणा मात्र- नहीं तनिक रे प्याररिस्तों का झूठला कर, गैरों से पनपा प्यारपरिवार यत्र-तत्र टूट
11 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 फरवरी 2020
11 मार्च 2020
पा
17 मार्च 2020
29 फरवरी 2020
27 फरवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x