नारी आदिशक्ति

08 मार्च 2020   |  सोहमकुमार चौहान   (3593 बार पढ़ा जा चुका है)

हम लाए नए जीवन को और कराए स्तनपान

हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान


हम किसी आदमी से अब डरना नहीं चाहते

हम अपनी मां के गर्भ में अब मरना नहीं चाहते

हम भी करना चाहेंगे अपने खर्चों का भुगतान

हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान


हम भी आगे बढ़ेंगे तो काम आगे बढ़ेगा

हम आपके साथ मिल जाए तो देश का नाम आगे बढ़ेगा

हम थाम सकते हैं और थामते हैं घर - बार की कमान

हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान


हम हैं अंदर से सख़्त, और बाहर से नरम

हमको कलेशकर्णी समझना है आपका सबसे बड़ा भरम

हम उड़ना चाहते हैं, हम चाहे आधा आसमान

हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान


सरस्वती लक्ष्मी न मानो, न मानो हमको काली

आपकी घर में रहकर न डरे, आपकी अपनी घरवाली

न हमको हीन समझो, न हमको समझो महान

हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान

अगला लेख: सफलता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
10 मार्च 2020
21 मार्च 2020
पा
17 मार्च 2020
29 फरवरी 2020
भू
03 मार्च 2020
18 मार्च 2020
11 मार्च 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x