कागज की कहानी

13 मार्च 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (299 बार पढ़ा जा चुका है)

कागज की कहानी

🙏लधु कथा कागज की "काव्यात्मक"🙏

रद्दी बही और अखबारों को कूट -काट
बनी लुगदी से चमक- उभर मैं आता हूँ
चाहने वालों के रंग में सहज मैं रंग जाता हूँ
'उकेरी लकिरों' से कवियों का मन पढ़ पाता हूँ
शास्त्र कहें या किताब, पुस्तकालयों में सज जाता हूँ
'भोज पत्र' अब दुर्लभ, मैं हीं सबका मन बहलाता हूँ
नित नई लधु कथा बन- इतिहास के पन्नों से जुट जाता हूँ
रद्दी बही और अखबारों को कूट -काट
बनी लुगदी से चमक- उभर मैं आता हूँ

डॉ. कवि कुमार निर्मल


अगला लेख: कृष्ण लीला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 मार्च 2020
🐚🐚 कहानी कृष्ण की 🐚🐚 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️"कृष्ण जन्माष्टमी" हम हर्षित हो मनाते हैं।"कृष्ण लीला" आज हम सबको सुनाते हैं।।कारागृह में ''महासंभूति'' का अवतरण हुआ।दुष्ट कंस का कहर, जन जन का दमन हुआ।।जमुना पार बासु यशोधा के घर कृष्ण को पहुँचाये।''पालक माँ'' को ब्रह्माण्ड मुख गुहा में प्
21 मार्च 2020
24 मार्च 2020
🙏🙏 समय की पुकार🙏🙏निरीह पशु-पँछियों को अपनीक्षुधा का समान मत बनाओइनमें जीवन है, इनको अपनोंसे वंचित कर रे नहीं तड़पाओखाद्यान्न प्रचूर है, और उगाओ"अहिंसा" का सुमार्ग अपनाओ🌳🌲🌼🌺🌷🌺🌼🌲🌳सौन्दर्य वर्धन हो धरा काशुन्य पर मत सब जाओपशु-पादप-वृक्ष-ताल-तलैया के
24 मार्च 2020
28 फरवरी 2020
अब तो हँसने में भी कोई गम छलक जाता है देखते हैं यह दर्द कहाँ तलक जाता है।
28 फरवरी 2020
19 मार्च 2020
मानव मन में जमा मैल निकल बह रहा है।तमसा का ताण्डव कोरोनाबन डोल रहा है।।माँस-मछली-प्याज-लहसनअब तो बँधु छोडों।कुकृत्य किए बहुत,भगवान् से नाता रे! जोड़ो।।दवा पुरानी पर जयपुर मेंकारगर सिद्ध हुई है।कोरोना ऐसों की जमातसीमा पर खड़ी है।।दिखते नहीं पर सारी पृथ्वीशत्रुओं से पटी हुई है।सात्विक बन योग वरो,समय बाक
19 मार्च 2020
12 मार्च 2020
★★★★★उल्फ़त★★★★★क़ायनात के मालिक का वारिस,भिखारी बन छुप अश्क बहाता है।सर्वनिगलु एक अमीरजादा,खोटे सिक्के की बोरी पाता है।।🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵सुना है इश्क 'खास महिने' मेंशिकार कर सवँरता हैं !हुश्न पे एतवार कर,"मुकम्मल" फना होता है!!🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂उड़ता रहा ख्यालों में तेरेउम्मीदों से गुल खिले मेरे💮💮💮💮💮�
12 मार्च 2020
03 मार्च 2020
भू
फूलों की बाग में,सुरों की राग में।शिक्षा की किताब में,खुशबू की गुलाब में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!मूर्ति की मंदिर में,आस्था की प्रार्थना में।विश्वास की मन में,आत्मा की तन में।जो है भूमिका,वही तेरी मेरे जीवन में है!!सूरज की दिन में,चंदा की रैन में।तारों की गगन में,मेघों की बरसात में।जो
03 मार्च 2020
09 मार्च 2020
होली का अर्थ हुआ बँधुओं, हम भगवान् के होलिएतन-मन-धन-समय-सांस-संकल्प भगवान् के लिएभगवान् की ही अहेतुकी कृपा के फलस्वरुप हम हुएविगत बातों को कहते हम सब- "होली" सो होलीशंकर के भक्त भ्रमित हो गटक रहे रे भंग की गोलीपवित्रता को फिरंगियों ने भी सहृदय कहा सदा होलीये तीनों अर्थ हम सब के लिए श
09 मार्च 2020
20 मार्च 2020
को
🙏कोरोना की विदाई🙏"कोरोना" की कर रहाचीन विदाई!भारत क्योंकर करे उनकी भरपाई?ठप्प हुआ आयात, आगे नाम मत लेनामेरे भाई।कैलाश-मानसरोवर लौटाए, भला करेगा उनका साईं।डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 मार्च 2020
28 फरवरी 2020
मेरा न्यारा देश है ये भारतदीप जले घर-घर, हर आँगनरंग-बिरंगी सजी रंगोली द्वारों परप्रिये का श्रृंगार देख, इठलाये साजनविजय-ध्वजा फहरे हर चौबारेवीरों का ये देश राष्ट्र की सीमा संवारेपाई हर बच्चे ने आज महारथदेश-प्रेम से बड़ा न कोई स्वारथजग-मग करता मेरा प्यारा भारतस्वरचित ©®★★★★★★★★★★★★★★प्रेरणात्मक सृजन
28 फरवरी 2020
03 मार्च 2020
शायरीशायरी लिखूं क्या?शरहदें जब मजबूर हैं!फासला एक आता है मुझे-सबका मालिक एक है!!डॉ. कवि कुमार निर्मलके. के.
03 मार्च 2020
24 मार्च 2020
🙏🙏 समय की पुकार🙏🙏निरीह पशु-पँछियों को अपनीक्षुधा का समान मत बनाओइनमें जीवन है, इनको अपनोंसे वंचित कर रे नहीं तड़पाओखाद्यान्न प्रचूर है, और उगाओ"अहिंसा" का सुमार्ग अपनाओ🌳🌲🌼🌺🌷🌺🌼🌲🌳सौन्दर्य वर्धन हो धरा काशुन्य पर मत सब जाओपशु-पादप-वृक्ष-ताल-तलैया के
24 मार्च 2020
25 मार्च 2020
जमुना किनारे, कन्हैया पधारेजमुना किनारे, कन्हैया पधारे ।वृंदावन घाट पे बंसी पुकारे ॥ मनमोहिनी तान जब मधुबन में गूंजे;थिरकती पवन को दिशा भी न सूझे ।हर जीव के मन में मुरली रच जाये;मोहन के मोह से कैसे बचा जाये ? गाय बछ्ड़े गोपाल के पास आकर बैठ गये;मोर प्रेम वर्षा में सहज ही झ
25 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
21 मार्च 2020
18 मार्च 2020
पा
17 मार्च 2020
इं
25 मार्च 2020
10 मार्च 2020
स्
24 मार्च 2020
11 मार्च 2020
05 मार्च 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x