कृष्ण लीला

21 मार्च 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (277 बार पढ़ा जा चुका है)

कृष्ण लीला

🐚🐚 कहानी कृष्ण की 🐚🐚
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
"कृष्ण जन्माष्टमी" हम हर्षित हो मनाते हैं।
"कृष्ण लीला" आज हम सबको सुनाते हैं।।
कारागृह में ''महासंभूति'' का अवतरण हुआ।
दुष्ट कंस का कहर, जन जन का दमन हुआ।।
जमुना पार बासु यशोधा के घर कृष्ण को पहुँचाये।
''पालक माँ'' को ब्रह्माण्ड मुख गुहा में प्रभु दरसाये।।
बाल लीला में नटखट माखन चोर की अद्भूत कहानी।
चितचोर" बने वे, सारे जग ने यह बात अंततः मानी।।
बरसाने की "रास" काव्यकारों को बहुत हीं भाई।
गोप - गोपियों से युक्त प्रिय सखा गो -पालक साईं।।
कंस भयावह-महापातकी, जीव कल्याण में था बाधक।
चरितार्थ पथ पर कृष्ण कृपा सें अग्रसारिता हों साधक।।
*उग्रसेन को राजा बना कंस वध किए, हटाई सारी बाधा।
अधर्मी कंस को मार धर्म के बने कल्पतरु सहारा।।
गोकुल - बृंदावन से मथुरा गये प्रियतम् पालनहारा।
बांसुरी बजाई तो झूम उठे समस्त बाल और बाला।।
कुरुक्षेत्र एवं महाभारत को कैसे हम भला अलगाएं।
*पार्थ सारथी का सत्य, कतिपय तथ्य हम जान पाएं।।
यह "पार्थ" शब्द आखिर किस (?) इतिहास से आया।
"पृथा" राज्य की कन्या "कुंतीपुत्र" अर्जुन कहलाया।।
आर्यों के पूर्व अस्ट्रिक-द्राविड़ इधर, जनगोष्टियां' उभरीं
मां श्रेष्ठ मातृगत् व्यवस्था- पांडवों को कौंतेय पुकारी।।
छल-अत्याचार, द्रौपदी-चिरहर- धर्म पर अतिभारी।
पार्थ-सारथी बन कृष्ण कुरुक्षेत्र में रथ दिशा संभाली।।
अंत: सुदर्शन-चक्र एवं खप्पड़-कुरुक्षेत्र था खाली।
इति! लीला अनंत- धर्म विजय सुनिश्चित- अवश्यंभावी।।
गीता उपदेश और विराट रूप सिद्ध हुआ बहुत प्रभावी।
अष्टमी की रात अमावस्या पर कृष्ण गौर- रात्रि काली।।
राधा त्याग, बांसुरी थमाए- भूले उसे भी जो थी पाली।।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁
🙏🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏🙏


अगला लेख: कोरोना की विदाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 मार्च 2020
होली का अर्थ हुआ बँधुओं, हम भगवान् के होलिएतन-मन-धन-समय-सांस-संकल्प भगवान् के लिएभगवान् की ही अहेतुकी कृपा के फलस्वरुप हम हुएविगत बातों को कहते हम सब- "होली" सो होलीशंकर के भक्त भ्रमित हो गटक रहे रे भंग की गोलीपवित्रता को फिरंगियों ने भी सहृदय कहा सदा होलीये तीनों अर्थ हम सब के लिए श
09 मार्च 2020
02 अप्रैल 2020
'कविता मौन ही होती है...’ मेरे द्वारा लिखित कविताओं का संग्रह है जो भिन्न-भिन्न समय और मानसिक अवस्था में लिखी गयीं हैं. कविता भावनाओं की अभिव्यक्ति होती है जिसमें व्यक्ति एक अलग ही तरह का मानसिक सुख पाता है. यह सुख व्यक्तिगत होता है लेकिन कई बार यह व्यक्तिगत से सार्वजनिक भाव भी रखता है.भावनाएं कभी स
02 अप्रैल 2020
20 मार्च 2020
को
🙏कोरोना की विदाई🙏"कोरोना" की कर रहाचीन विदाई!भारत क्योंकर करे उनकी भरपाई?ठप्प हुआ आयात, आगे नाम मत लेनामेरे भाई।कैलाश-मानसरोवर लौटाए, भला करेगा उनका साईं।डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 मार्च 2020
16 मार्च 2020
👿👹👿👹👿👹👿👹👿👹👿कोरोना! कोरोना!! कोरोना!!!उचर करत्राहिमाम् - त्राहिमाम् सब चिल्लाते हो!फैल रही चहुंदिश तामसिकता कोतौल नहीं तुम रे मानव पाते हो!!कार्निभोरस नहीं तन से पर-भक्षण कर विष उगल रहे हो!समय अभी भी है बाकि,चेत सात्विकता नहीं गह पाते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
16 मार्च 2020
24 मार्च 2020
🙏🙏 समय की पुकार🙏🙏निरीह पशु-पँछियों को अपनीक्षुधा का समान मत बनाओइनमें जीवन है, इनको अपनोंसे वंचित कर रे नहीं तड़पाओखाद्यान्न प्रचूर है, और उगाओ"अहिंसा" का सुमार्ग अपनाओ🌳🌲🌼🌺🌷🌺🌼🌲🌳सौन्दर्य वर्धन हो धरा काशुन्य पर मत सब जाओपशु-पादप-वृक्ष-ताल-तलैया के
24 मार्च 2020
24 मार्च 2020
🙏🙏 समय की पुकार🙏🙏निरीह पशु-पँछियों को अपनीक्षुधा का समान मत बनाओइनमें जीवन है, इनको अपनोंसे वंचित कर रे नहीं तड़पाओखाद्यान्न प्रचूर है, और उगाओ"अहिंसा" का सुमार्ग अपनाओ🌳🌲🌼🌺🌷🌺🌼🌲🌳सौन्दर्य वर्धन हो धरा काशुन्य पर मत सब जाओपशु-पादप-वृक्ष-ताल-तलैया के
24 मार्च 2020
31 मार्च 2020
कोरोना से कवि धायल!कोरोना का कहर देखलेखनी थमी हरजाई है!भूत को बिसरा- भयाक्रांत,आगे ज्यों खाई है!!अभूतपूर्व सौहार्दपूर्णता शुभ-चहुंदिश छाई है!'क्वारेन्टाइन' से कजाकोरना की बन आई है!!आर्थिक बिपदायें तोकई बार आ हमें रुलाई है!संकट पार हुए सारे,हर घर में खुशियां छाई है!!हौसला पुरजोर- बुलंद इरादे,थका नहीं
31 मार्च 2020
28 मार्च 2020
"कोरोना कुछ करो ना"कोरोना! कोरोना!! अब और कोई कुछ कहो ना।अलविदा कह मरे, ऐसा कुछ जतन करो ना।।चक्के थमे निजी वाहनों के, अब तो डरो ना।दान दिए एम पी-एम एल ए ने, ₹ गिनो ना।।शिरडी के साईं मंदिर ट्रस्ट ने दिए ५१ करोड़,बाकी भी आगे बढ़ें- खुल कर दान करो ना।हे महामहिम ट्रंप, चीन से बात आज करो ना।।रिक्त
28 मार्च 2020
19 मार्च 2020
मानव मन में जमा मैल निकल बह रहा है।तमसा का ताण्डव कोरोनाबन डोल रहा है।।माँस-मछली-प्याज-लहसनअब तो बँधु छोडों।कुकृत्य किए बहुत,भगवान् से नाता रे! जोड़ो।।दवा पुरानी पर जयपुर मेंकारगर सिद्ध हुई है।कोरोना ऐसों की जमातसीमा पर खड़ी है।।दिखते नहीं पर सारी पृथ्वीशत्रुओं से पटी हुई है।सात्विक बन योग वरो,समय बाक
19 मार्च 2020
11 मार्च 2020
आज का हालआमरण हड़ताल, मांगों की बौछारनिर्जला व्रतों का गगनचुंबी पहाड़वृद्धों का अनादर एवम् तिरस्कारउदारता से नहीं है तनिक सरोकारबंद कमरे से चलती रही आज की सरकारईर्श्या-द्वेष-ध्रिणा मात्र- नहीं तनिक रे प्याररिस्तों का झूठला कर, गैरों से पनपा प्यारपरिवार यत्र-तत्र टूट
11 मार्च 2020
18 मार्च 2020
उँचे सपने बिखर जाते हैं-बालू के टिब्बे की तरह!संतोष के गहने-चमक जाते हैं सोने की तरह!!DrKavi Kumar Nirmal
18 मार्च 2020
31 मार्च 2020
नी
पूछा राही ने वृक्ष से - "क्यों फलोंसे सजा है ? तू नीम है,तेरी कड़वाहट तो सजा है ।फिर क्यों बार-बार निबौली बनाते हो ? अपनी शक्ति को इसमें क्यों लगाते हो ?" नीम ने कहा - "जैसे गुलाब और कांटोंका किस्सा है,तुम्हारे लिये बेकार ये निबौली भी मेराहिस्सा है ।अनुशासित व्यवहार तो समय के स
31 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x