अपना राष्ट्र बचाना है ....!

25 मार्च 2020   |  परमजीत कौर   (286 बार पढ़ा जा चुका है)

धैर्य और अनुशासन से, अपना राष्ट्र बचाना है ....!

देखा नहीं था हमने कभी ,आज़ादी के परवानों को ,

जो कफ़न बाँध कर निकले थे …… शहीद हुए ,

पर, आने वाली नस्लों को वे आज़ाद हवा देकर वे गए ।

सोचो , हम सब में भी तो भगत सिंह , राजगुरु, सुखदेव है खड़ा ,

आज देश पर ही नहीं, मानवता पर संकट आया है ,

क्यों नहीं ,इस अंधकार से लड़ने का दृढ़ संकल्प हो ,जुनून जगाया है !

जिस ईश्वर को हम ढूँढ रहे थे मंदिर ,मस्जिद ,गुरुद्वारों में

वह तो हमारी रक्षा के लिए खड़ा ,हर अस्पताल और चोराहों पर ,

दुश्मन छिपा है! लेकिन ,

स्वयं सुरक्षित रहकर, दूसरों को भी सुरक्षित करना होगा ।

इस मिट्टी की रक्षा के लिए ,अब यज्ञ सभी को करना होगा ,

जिसे दुनिया हरा न सकी ,

उस संक्रमण की आहुति देकर ,अब जड़ से इसे भगाना होगा ,

धैर्य और अनुशासन से अपना फ़र्ज़ निभाना होगा ।

माना , यह वक़्त है ,बहुत मुश्किल ,

पर यह धरती है, उन वीरों की ,

जहाँ सवा लाख से एक लड़ा ,

आज फिर इतिहास दोहराना है

धैर्य और अनुशासन से अपना राष्ट्र बचाना है ।

परमजीत कौर

अगला लेख: सुबह जल्द ही मुस्कुराहट भरी होगी !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x