हर युग में आते है भगवान

03 अप्रैल 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (275 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता

हर युग मेंं आते हैं भगवान

विजय कुमार तिवारी


द्रष्टा ऋषियों ने संवारा,सजाया है यह भू-खण्ड,

संजोये हैं वेद की ऋचाओं में जीवन-सूत्र,

उपनिषदों ने खोलें हैं परब्रह्म तक पहुँचने के द्वार,

कण-कण में चेतन है वह विराट् सत्ता।

सनातन खो नहीं सकता अपना ध्येय,

तिरोहित नहीं होगें हमारे पुरुषोत्तम के आदर्श,

महाभारत से बड़ी नहीं हो सकती कोई लड़ाई,

शदियों तक गूँजता रहेगा वेदान्त का उद्घोष।

पहले भी धरती पर विचरण करते थे निशाचर,

पहले भी मचाते थे उधम आततायी,

पहले भी होता था नर-संहार राक्षसों द्वारा

पहले भी होती थी लहू-लुहान हमारी धरती।

हर युग में जागती है चेतना,

हर युग में खड़ी होती है मानवता,

हर युग में होता है पुनर्निर्माण,

हर युग में आते है भगवान।

निकलने दो उन्हें अपनी बिलों से,

पहचानो उनके तौर-तरीके,उनके षडयन्त्र,

पूरी दुनिया में चिन्हित हो रहे हैं ठिकाने,उनके तन्त्र,

सभ्यता-संस्कृति से बड़ी नहीं हुई कभी उनकी दुनिया।

खेल तो अब शुरु हुआ है उस नियन्ता का,

शुरु हुआ है महाकाल का तांडव-नृत्य,

निकल पड़ी है रणचण्डिका हजार-हजार भुजाओं में खप्पर,तलवार लिये,

शुरु हो गया है उनके विनाश और सफाई का खेल।


अगला लेख: हमउम्र बूढ़ों का परिवार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अप्रैल 2020
कविताहमउम्र बूढ़ोंं का परिवारविजय कुमार तिवारीमैंने सजा लिया है सारे हमउम्र बूढ़ों को अपने फ्रेम में,बना लिया है मित्रों का बड़ा सा समूह। रोज देखता रहता हूँ उनके आज के चेहरे,चमक उठती है पुतलियाँजीवन्त हो उठते हैं उनसे जुडे नाना प्रसंग। मुरझाये गालों और मद्धिम रोशनी लिये आँखें,आज भी कौंंध जाता है उनक
08 अप्रैल 2020
24 मार्च 2020
🙏🙏 समय की पुकार🙏🙏निरीह पशु-पँछियों को अपनीक्षुधा का समान मत बनाओइनमें जीवन है, इनको अपनोंसे वंचित कर रे नहीं तड़पाओखाद्यान्न प्रचूर है, और उगाओ"अहिंसा" का सुमार्ग अपनाओ🌳🌲🌼🌺🌷🌺🌼🌲🌳सौन्दर्य वर्धन हो धरा काशुन्य पर मत सब जाओपशु-पादप-वृक्ष-ताल-तलैया के
24 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
वि
विपत्ति में हीविजय कुमार तिवारीप्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित ह
07 अप्रैल 2020
15 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-6विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू दोनो महिलाओं और मोहन चन्द्र जी की भाव-भंगिमा देख दंग रह गये।सुबह दूध वाले की बातें सत्य होती प्रतीत होने लगी।उन्होंने मौन रहना ही उचित समझा।अन्दर से पत्नी भी आ गयी।मोहन चन्द्र बाबू उन दोनो महिलाओं से कुछ पूछते-बतियाते रहे।थोड़ी देर में पत्नी
15 अप्रैल 2020
13 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-3विजय कुमार तिवारी"मैं किसी से नहीं डरता,"मोहन चन्द्र पूरी बेहयायी पर उतर आये।प्रमोद बाबू ने अपने आपको रोका।सुबह की ताजी हवा में भी गर्माहट की अनुभूति हुई और दुख हुआ।हिम्मत करके उन्होंने कहा,"मोहन चन्द्र जी,दूसरों की जिन्दगी में टांग अड़ाना ठीक नहीं है।आपकी बात सही हो तब
13 अप्रैल 2020
25 मार्च 2020
इं
इंद्रधनुषचिड़िया ने जब वर्षा के बाद सर उठाया, सामने चमचमाता हुआ इंद्रधनुषी दृष्य पाया ।घोंसले से देखा उसने दूर वादियों में,विशाल रंगबिरंगी काया दो पर्वतों के बीच में ।उस तक पहुंचने की चाह में बेसुध उड़ चलाइच्छा तीव्र हो तो भूख-प्यास क्या भला ?रास्ते में सर्द हवा, चील
25 मार्च 2020
12 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-2विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू भी इस माहौल से अछूते नहीं रहे।उनका मिलना-जुलना शुरु हो गया।कार्यालय में बहुत लोगों के काम होते जिसे बड़े ही सहृदय भाव से निबटाते और कोशिश करते कि किसी को कोई शिकायत ना हो।स्थानीय लोगों से उनकी अच्छी जान-पहचान हो गयी है।सुरक्षा बल के लोगों के
12 अप्रैल 2020
24 मार्च 2020
स्
अँधेरे में तो परछाई भी साथ छोड़ देती है जनाब हम तो फिर भी इंसान है औरों की किसी को फिकर नहीं बस खुद पर सब कुर्बान है ।
24 मार्च 2020
31 मार्च 2020
नी
पूछा राही ने वृक्ष से - "क्यों फलोंसे सजा है ? तू नीम है,तेरी कड़वाहट तो सजा है ।फिर क्यों बार-बार निबौली बनाते हो ? अपनी शक्ति को इसमें क्यों लगाते हो ?" नीम ने कहा - "जैसे गुलाब और कांटोंका किस्सा है,तुम्हारे लिये बेकार ये निबौली भी मेराहिस्सा है ।अनुशासित व्यवहार तो समय के स
31 मार्च 2020
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
01 अप्रैल 2020
कविताशहर प्रयोगशाला हो गया हैविजय कुमार तिवारीछद्मवेष में सभी बाहर निकल आये हैंं,लिख रहे हैं इतिहास में दर्ज होनेवाली कवितायें,सुननी पड़ेगी उनकी बातेंं,देखना पड़ेगा बार-बार भोला सा चेहरा।तुमने ही उसे सिंहासन दिया है,और अपने उपर राज करने का अधिकार।दिन में वह ओढ़ता-बिछाता है तुम्हारी सभ्यता-संस्कृति,उ
01 अप्रैल 2020
25 मार्च 2020
को
करोना और स्त्रीविजय कुमार तिवारीकल प्रधानमन्त्री ने देश मेंं कोरोना के चलते ईक्कीस दिनों के"लाॅकडाउन"की घोषणा की है।सभी को अपने-अपने घरों में रहना है।बाहर जाने का सवाल ही नहीं उठता।घर मेंं चौबिसों घण्टे पत्नी के साथ रह पाना,सोचकर ही मन भारी हो जाता है।किसी साधु-सन्त के पास इससे बचाव का उपाय नहीं है।
25 मार्च 2020
05 अप्रैल 2020
5
5 अप्रैल 2020,रात 9 बजे,9 मिनट का प्रकाश-पर्वविजय कुमार तिवारीविश्वास करें,यह कोई सामान्य घटना घटित होने नहीं जा रही है और ना ही आज का प्रकाश-पर्व एक सामान्य प्रकाश-पर्व है।ब्रह्माण्ड की ब्रह्म-शक्ति का आह्वान हम सम्पूर्ण देशवासी प्रकाश-पर्व मनाकर करने जा रहे हैं।हमारे भीतर स्थित वह दिव्य-चेतना जागृ
05 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x