जिंदगी का सफर

14 अप्रैल 2020   |  जानू नागर   (330 बार पढ़ा जा चुका है)

लॉक डाउन बढ़े नही ! कोरोना से कोई मरे नही।


हाथ कभी मिलाए नही, सामाजिक दूरी बनाए रहे।

नजर कभी झुके नहीं, रिस्ते कभी टूटे नही।

सैनिक तुम बढ़े चलो! डॉक्टर तुम बढ़े चलो!


सफाई कर्मचारियों से अनुरोध है,कोरोना से डरे नहीं

गली,मकान को सेनेटाइज करते रहो। मास्क ग्लब्स हटाना नही।

लॉकडाउन अब बढ़े नही , कोरोना से कोई मरे नही।


सुबह हो, रात हो, संग हो, एक मीटर की दूरी हो।

घर मे सभी लोग रहे, बेवजह घर से निकले नही।


एक प्रण करते हुए, भीड़ में न जाएंगे।

भारत में कोरोना के आंकड़े बढ़े नही।

ध्यान ये रहे गरीब का, राशन पानी घटे नही।


हो अगर बुजुर्ग घर मे , ध्यान हम उनका रखे।

प्रयत्न कर निकाल ले, सभी मदत के रास्ते।

लॉकडाउन बढ़े नही, कोरोना से कोई मरे नही।

अगला लेख: अब की धुन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x