जी उठा पर्यावरण फिर से

26 अप्रैल 2020   |  PRATHAM BHALA   (331 बार पढ़ा जा चुका है)

सब प्राणियों को गुलाम बनाने वाले

अब घरों में कैद बैठे हैं

सबको आँख दिखाने वाले

न जाने क्यूँ सहमे से रहते है ।


बेख़ौफ़ घूम रहे हैं वो

जो कभी जंगलों में छिपे रहते थे,

और उनका शिकार करने वाले वह शिकारी

न जाने किसका शिकार बन बैठे हैं ।


पर्यावरण का मिज़ाज भी अब

कुछ बदला बदला लगता है

कुदरत का है ये कैसा करिश्मा

हर दिन सुनहरा लगता है।


बहता हुआ पवन का यह झोका

एक अलग सी ताज़गी जगा जाता है

नदियों में बहता हुआ साफ़ पानी

अब हम सब को नज़र आता है।


ख़ुशी में झूमता ये पर्यावरण

अब चैन की साँस ले रहा है

सदियों से इसे तड़पाने वाला

इंसान तड़पकर सह रहा है ।


बस इतना ही कहना चाहूँगा साहब

कुदरत का ये खेल बड़ा निराला है

जिसने भी उसे ग़ुलाम बनाना चाहा

वह सदा उसकी ताकत के सामने हारा है।


अगला लेख: पृथ्वी बचाओ



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
01 मई 2020
27 अप्रैल 2020
जी
10 मई 2020
12 अप्रैल 2020
10 मई 2020
29 अप्रैल 2020
10 मई 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x