बाजार

27 अप्रैल 2020   |  अजय अमिताभ सुमन   (271 बार पढ़ा जा चुका है)



झूठ हीं फैलाना कि,सच हीं में यकीनन,

कैसी कैसी बारीकियाँ बाजार के साथ।

औकात पे नजर हैं जज्बात बेअसर हैं ,

शतरंजी चाल बाजियाँ करार के साथ।


दास्ताने क़ुसूर दिखा के क्या मिलेगा,

छिप जातें गुनाह हर अखबार के साथ।

नसीहत-ए-बाजार में आँसू बावक्त आज,

दाम हर दुआ की बीमार के साथ।


दाग जो हैं पैसे से होते बेदाग आज ,

आबरू बिकती दुकानदार के साथ।

सच्ची जुबाँ की है मोल क्या तोल क्या,

गिरवी न माँगे क्या क्या उधार के साथ।


आन में भी क्या है कि शान में भी क्या ,

ना जीत से है मतलब ना हार के साथ।

फायदा नुकसान की हीं बात जानता है,

यही कायदा कानून है बाजार के साथ।


सीख लो बारीकियाँ ,ये कायदा, ये फायदा,

हँसकर भी क्या मिलेगा लाचार के साथ।

बाज़ार में खड़े हो जमीर रख के आना,

चलते नहीं हैं सारे खरीददार के साथ।

अगला लेख: जीवन साथी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x