मैं तो हूँ शाश्वत सत्य सदा

30 मई 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (347 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं तो हूँ शाश्वत सत्य सदा

मैं आदिहीन, मैं अन्त हीन, मैं जन्म मरण से रहित सदा |
मुझमें ना बन्धन माया का, मैं तो हूँ शाश्वत सत्य सदा ||
जिस दिवस मृत्यु के घर में यह आत्मा थक कर सो जाएगी
तन लपटों का भोजन होगा, बन राख़ धरा पर बिखरेगा |
उस दिन तन के पिंजरे को तज स्वच्छन्द विचरने जाऊँगी
मेरी आत्मा मानव स्वरूप, फिर भी मैं शाश्वत सत्य सदा ||

(पूरी रचना सुनने के लिए क्लिक करें):
https://youtu.be/yvNZ0czaO1E

अगला लेख: Acupressure



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जून 2020
हरे भरे पेड़ों पर ही तो पंछी गाते गान सुरीला जी हाँ,मिल जुलकर यदि वृक्षारोपण करते रहे तो पर्यावरण प्रदूषण की समस्या कोई समस्या नहींरह जाएगी... आइये मिलकर संकल्प लें कि हर वर्ष कम से कम एक वृक्ष अवश्य आरोपितकरेंगे और अकारण ही वृक्षों की कटाई न स्वयं करेंगे न किसी को करने देंगे... पर्यावरणदिवस सभी को व
05 जून 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
17 मई 2020
सं
"संबंधों" की महिमा- न्यारीबात मगर लगेगी यह खारीमहाभारत में देखी पटिदारीभारत में भी छाई पटिदारीपटिदारी मानवता की परम शत्रु,उजड़ी बागीचे की हर सुन्दर क्यारीसीमाओं का यह व्यर्थ जाल बहुत दुखदाईमानवीय मुल्यों की अब कैसे होगी भरपाईयुग पुरुष का अवतरण हो तो पट पाए खाईमानो बँधु- सबका मालिक वही है एक साईं
17 मई 2020
14 जून 2020
हम क्या हैंप्रायः हम अपने मित्रों से ऐसे प्रश्न कर बैठते हैं कि हमें तो अभी तक यहीसमझ नहीं आ रहा है कि हम हैं क्या अथवा हमारे जीवन का उद्देश्य क्या है ? हम इसमाया मोह के चक्र से मुक्त होना चाहते हैं, किन्तु निरन्तर जाप करतेरहने के बाद भी हम इस चक्रव्यूह को भेद नहीं पा रहे हैं | समझ नहीं आता क्या करे
14 जून 2020
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
05 जून 2020
🌲🌳🌴🌾🌾🌴🌳🌲🌲विश्व पर्यावरणदिवस🌲🌲🌳🌴🌾🌾🌴🌳🌲हिमगिरि से झर-झर्र बह झरना नद-ताल-तिलैया का आप्लावन करता है।बसुंधरा पर सर्वत्र हरितिमा फैला महासागर में अन्ततः नीर मिल जाता है।।शितल जल छारीय बन कर भी भास्कर की असह्य उष्णता झेल जाता है।वाष्पित - धनीभूत हो काले बादल बन उमड़-धुमड़ कर छा जाते हैं।
05 जून 2020
03 जून 2020
सूर्योदयसमस्याएँजीवन का एक अभिन्न अंग जिनसेनहीं है कोई अछूता इस जगत में किन्तुसमस्याओं पर विजय प्राप्त करके जो बढ़ता है आगे नहींरोक सकती उसे फिर कोई बाधा हर सन्ध्याअस्त होता है सूर्य पुनःउदित होने को अगली भोर में जोदिलाता है विश्वास हमें किनहीं है जैसा मेरा उदय और अवसान स्थाई उसी प्रकारनहीं है कोई
03 जून 2020
28 मई 2020
लॉक डाउन के दौरान टाइम मैनेजमेंटहम आज बात कर रहे हैं टाइम मैनेजमेंट की | आज प्रायः लोगों को कहतेसुना जाता है कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, लेकिन क्याकरें – हमारे पास समय ही नहीं है | कार्य की सफलता और लक्ष्य प्राप्ति की यदि बातकरते हैं तो हमें आज की समस्याओं को भी समझना होगा | आज केसमय में जो लोग
28 मई 2020
22 मई 2020
वटवृक्ष की उपासना का पर्व वट सावित्रीअमावस्याआज वट सावित्री अमावस्या का व्रत सौभाग्यवती महिलाओं ने किया है |सर्वप्रथम सभी को वट सावित्री अमावस्या की हार्दिक शुभकामनाएँ...वट सावित्री अमावस्या का व्रत सौभाग्य को देने वालाऔर सन्तान की प्राप्ति में सहायता देने वाला व्रत माना गया है | भारतीय संस्कृतिमें
22 मई 2020
26 मई 2020
प्रस्तुत है एक रचना - अनन्त की यात्रा | योग और ध्यान के अभ्यास में हम बात करते हैं सात चक्रों की... कोषो की...उन्हीं सबसे प्रेरित होकर कुछ लिखा गया, जो प्रस्तुत है सुधीश्रोताओं और पाठकों के लिए...https://youtu.be/Am8VnQlAElM
26 मई 2020
11 जून 2020
🌷🌹🔥प्रगति गान🔥🌹🌷आज झूम - झूम प्रगति के गीत गाओअवतरण हुआ प्रभु का,कथा सुनाओप्रथम महासंभूति सदाशिव जब धराधाम पर थे आएमानव समाज में मानवपशुवत् थे छाएतंत्र साधना दे अध्यात्मिकता का परचम विश्व में लहरायाबुद्धिहीन मानव को ज्ञान दिया बुद्धिजीवी- अध्यात्मवादी बनायादानव समस्त धरातल पर छा अत्याचार तब थे
11 जून 2020
11 जून 2020
मैं तोहर पल / मस्ती में भर / बस गाए जा रही हूँ मीठे गान न पतामुझे किसी छन्द का / रच जाते हैं गीत बस यों हीन हीयाद कोई सरगम है / बन जाती है कोई धुन बस यों हीशायदयही है नियति मेरी / बन जाऊँ ऐसी धुन गुनगुनातीरहे जो सदियों तक / हर किसी की यादों में…(पूरी रचना सुनने के लिए क्लिक करें...)https://youtu.be/
11 जून 2020
27 मई 2020
प्रगति का सोपान सकारात्मकताव्यक्ति के लिए हर दिन - हर पल एक चुनौती का समय होता है | और आजकल केसमय में जब सब कुछ बड़ी तेज़ी से बदल रहा है - यहाँ तक कि प्रकृति के परिवर्तन भीबहुत तेज़ी से ही रहे हैं - इस सारे बदलाव और जीवन की भागम भाग के चलते मनुष्य केमन में बहुत सी शंकाएँ अपने वर्तमान और भविष्य को लेकर
27 मई 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x