Birds can't shop – Dr. Dinesh Sharma

03 जून 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (309 बार पढ़ा जा चुका है)

Birds can't shop – Dr. Dinesh Sharma

Birds can't shop – Dr. Dinesh Sharma

I wrote these lines seven years ago when I observed hundreds of parrots descending on my Litchi trees and destroying most of the fruits. This continues even today and I barely get a few fruits to taste and eat...

This parrot I have named Rampage
Steals my
Litchi with brazen courage
Then he lands on the top of teak tree
Holding the
Litchi in a joyous spree
With all the patience the fruit is peeled off
While I helplessly watch grumble n scoff
Holding the food in his right paw
Biting the pulp with curved lower jaw
He smiles teases and makes my fun
While I shuffle on ground holding fake gun
With his tummy full after juicy breakfast
He spreads his wings to fly in sky vast
But the story continues and is far from over
Soon with his gang he will return to hover
My mother consoles that birds can't shop
To be able to survive they need to invade such crop…

Dr. Dinesh Sharma

(Dr. Dinesh Sharma is a World famous and widely travelled Ayurvedic Physician, Vastu Consultant and Astrologer with hundreds of highly satisfied clients as well as an accomplished writer…)

अगला लेख: अनन्त के साथ मिलन की यात्रा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जून 2020
मैं तोहर पल / मस्ती में भर / बस गाए जा रही हूँ मीठे गान न पतामुझे किसी छन्द का / रच जाते हैं गीत बस यों हीन हीयाद कोई सरगम है / बन जाती है कोई धुन बस यों हीशायदयही है नियति मेरी / बन जाऊँ ऐसी धुन गुनगुनातीरहे जो सदियों तक / हर किसी की यादों में…(पूरी रचना सुनने के लिए क्लिक करें...)https://youtu.be/
11 जून 2020
21 मई 2020
“कम्मो...अरी क्या हुआ...? कुछ बोल तो सही... कम्मो... देख हमारेपिरान निकले जा रहे हैं... बोल कुछ... का कहत रहे साम...? महेसकब लौं आ जावेगा...? कुछ बता ना...” कम्मो का हाल देख घुटनोंके दर्द की मारी बूढ़ी सास ने पास में रखा चश्मा चढ़ाया, लट्ठीउठाई और चारपाई से उतरकर लट्ठी टेकती कम्मो तक पहुँच उसे झकझोरने
21 मई 2020
01 जून 2020
गंगा दशहराआज गंगा दशहरा और कल निर्जला एकादशी | गंगा दशहरावास्तव में दश दिवसीय पर्व है जो ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ होकर ज्येष्ठशुक्ल दशमी को सम्पन्न होता है | इस वर्ष तेईस मई को गंगादशहरा का पर्व आरम्भ हुआ था, आज पहली जून को इसका समापन हो रहा है | मान्यता है किमहाराज भगीरथ के अखण्ड तप से प्रसन
01 जून 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x