बहाने जिंदगी

27 जून 2020   |  मंजू गीत   (319 बार पढ़ा जा चुका है)

माना हम चिट्ठियों के दौर में नहीं मिलें, डाकिए की राह तकी नहीं हमने। हम मिले मुट्ठियों के दौर में। जिसमें रूमाल कम, फोन ज्यादा रहता था। माना हम किताब लेने देने के बहाने नहीं मिलें, जिसे पढ़ते, पलटते सीने पर रख, बहुत से ख्वाब लिए उसके साथ सो जाया करते। हम मिले मेसेज, मेसेंजर, वाट्स अप, एफ बी, इंस्टा के दौर में। जहां नजर एक टिक, दो टिक, नीले टिक पर अटक कर कभी खुशी, कभी झुंझलाहट पैदा करती। जब जरूरत या चाहत आवाज देती तो एक टिक जोड़ देता हमें। माना हम बाग बगीचों में नहीं मिलें, अमरूद, आम , फूल तोड़ने के बहाने। हम मिले बस, मेट्रो की भीड़ में, आगे टिकट बढ़ाने, सीट लेने देने के बहाने। माना हम नदियां किनारे नहीं मिलें, पानी भरने, नहाने के बहाने। हम मिले सड़क किनारे, बस स्टैंड पर, बस, रिक्शा, के इंतजार में। माना साथ रिश्ते, काम का मोहताज है। पर यादें तों मोहताज नहीं। माना हम एक दूजे के लिए कोई नहीं, फिर भी किस्मत है पूरब से पश्चिम मिलने की। माना जिंदगी है, मगर पराई है। पराई जिंदगी में छवि अपनी है।

अगला लेख: दूर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जून 2020
दू
दुनिया में आए अकेले हैं। दुनिया से जाना अकेले हैं। दर्द भी सहना पड़ता अकेले हैं। लोग मतलब निकलते ही छोड़ देते अकेला है। तो फिर काहे की दुनियादारी, लोगों से दूर रहने में ही ठीक है। दर्द जब हद से गुजरता है तो गा लेते हैं। जिंदगी इम्तिहान लेती है। कभी इस पग में कभी उस पग में घुंघरू की तरह बजते ही रहें
26 जून 2020
20 जून 2020
ज़
जिन्दगी सफल होती है ज़िंदादिली से, हरदिल अज़ीज़ होती है अपनेपन से।अपने ही तो बुनते है तानाबाना ज़िन्दगी का,अपनों से ही बनता है आशियाना जिंदगी का।कब से मै तलाशता फिर रहा अपनों को,कोशिश कर रहा रंगों से भरने की, इस वीरान जिंदगी को।आज मै बहुत खु
20 जून 2020
29 जून 2020
मु
कल्पना को फिर सपने की वह लाल साड़ी और कुर्ता याद आया। कल्पना ने धीर से काम की दुनिया से छुट्टी ली मंगलवार की। आज कल्पना ने अपनी मामी को फोन करके रोहतक आने के लिए कह दिया। वह अपने आस पास के तीन चार बाजार में गयी। कल्पना साड़ी, कुर्ता पजामा पसंद करना चाहती थी। यह चाह धीर और सपना के लिए थी। नवरात्
29 जून 2020
13 जून 2020
मं
अपनी अपनी सब कहें, दूजे की सुनें समझें ना। दूसरे को भी अपने से बढ़कर समझें, तो दुःख काहे का होए। अपने को दूसरों की नजरों में, अच्छा बनाने के सो जतन, पर खुद से वास्ता ना होए, औरों के लिए जीने से अच्छा, अपनों संग खुद का भी बेहतर जीवन होए। ना जोगी बन, ना संन्यासी बन.. गृहस्थ जीवन से बढ़कर, ना कर्म तप
13 जून 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x