मुक्तक

03 जुलाई 2020   |  महातम मिश्रा   (273 बार पढ़ा जा चुका है)

मुक्तक


जी करता है जी भर नाचूँ, जीवन में झनकार लिए।

सारे गुण की भरी गागरी, हर पन का फनकार लिए।

सभी वाद्य बजने को आतुर, आए कोई वादक तो-

शहनाई वीणा औ डमरू, सुरभित स्वर संसार लिए।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुर

अगला लेख: दोहा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जुलाई 2020
भो
"होली गीत" होरी खेलन हम जईबे हो मैया गाँव की गलियाँसरसों के खेतवा फुलईबे हो मैया गाँव की गलियाँ।।रंग लगईबें, गुलाल उड़ेईबें, सखियन संग चुनर लहरैबेंभौजी के चोलिया भिगेईबें हो मैया गाँव की गलियाँ.....होरी खेलन.....पूवा अरु पकवान बनेईबें, नईहर ढंग हुनर दिखलईबेंबाबुल के महिमा बढ़ेईबें हो मैया गाँव की गलिय
03 जुलाई 2020
30 जून 2020
दो
"दोहा गीतिका"मुट्ठी भर चावल सखी, कर दे जाकर दानगंगा घाट प्रयाग में, कर ले पावन स्नानसुमन भाव पुष्पित करो, माँ गंगा के तीरसंगम की डुबकी मिले, मिलते संत सुजान।।पंडित पंडा हर घड़ी, रहते हैं तैयारहरिकीर्तन हर पल श्रवण, हरि चर्चा चित ध्यान।।कष्ट अनेकों भूलकर, पहुँचें भक्त अपारबैसाखी की क्या कहें, बुढ़ऊ जस
30 जून 2020
03 जुलाई 2020
मु
"मुक्तक" बहुत दिनों के बाद मिला है बच्चों ऐसा मौका।होली में हुडदंग नहीं है नहीं सचिन का चौका।मोबाइल में मस्त हैं सारे राग फाग फगुहारे-ढोलक और मंजीरा तरसे तरसे पायल झुमका।।पिचकारी में रंग नहीं है नहीं अबीर गुलाला।मलो न मुख पर रोग करोना दूर करो विष प्याला।चीन हीन का नया खिलौना है मानव का वैरी-बंदकरो ज
03 जुलाई 2020
03 जुलाई 2020
कु
"कुंडलिया"बंसी मेरे बीच में, क्यों आती है बोलकान्हा की परछाइयाँ, घूम रही मैं गोलघूम रही मैं गोल, राधिका बरसाने कीमत कर री बेहाल, उमर है हरषाने कीकह गौतम कविराय, मधुर बन पनघट जैसीछोड़ अधर रसपान, कृष्ण की प्यारी बंसी।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
03 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x