चाहतों की हरियाली

06 जुलाई 2020   |  मंजू गीत   (311 बार पढ़ा जा चुका है)

चाहतों की हरियाली है। घड़ी भर ठहर जाएं, इस पल में यहीं खुशहाली हों। कल कौन मिलता है किसी से? मिलता है वहीं जिसकी चाहत में, अपनेपन की खुशहाली हों। रैन और नैन कालें, दोनों ही कुदरत की खूबसूरत नेमतें, खूबसूरत हो जाता है, वो अहसास.. जब, इस अंधेरे में चांद और अपने की सूरत मतवाली हों। थकी शाम से उजली भोर, सब बदल जाता है, ढलते शाम से उगते सूरज की जब लाली हों। फूलों की खुशबू, पंछियों की टोली गुनगुनाती हों। मन और मौसम पल पल बदलें, पर बदलने के लिए भी बात निराली हों। दर्द और चैन सिर्फ हालात नहीं, बढ़ जाते हैं जब अपने की मेहरबानी हों। फर्क टूटी नाव से उतना नहीं पड़ता, जितना मांझी के टूटते विश्वास से पड़ता है। जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं, कुदरत का नियम ही परिवर्तन है, तो फिर बदलते लोगों से क्यों परेशानी हों? फिर क्यों आंखों में नमी और पानी हों। जिसे मिल जाए मन चाहा, उस पर ऊपर वाले की मेहरबानी हों।

अगला लेख: कोरोना की मार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2020
धी
कल्पना सपना से अबोध नहीं थी। कल्पना ने सपना को अपनी बातों की खनक से हमेशा धीर के सामने रखा। हालांकि वह दोनों के साथ नहीं होती थी लेकिन वह दोनों से कभी दूर भी नहीं थी। सपना धीरज का अर्धांग है और अर्धांग सांस, आस, विश्वास, से जुड़ा होता है। यह सच भी कभी झूठ नहीं हो सकता। लेकिन औरत भाषा और भाव में पु
28 जून 2020
18 जुलाई 2020
वक्त की पुरानी अलमीरा से एक याद.. वक्त आने जाने का नाम है लेकिन आप अपने काम से वक्त के हिस्से से कुछ यादें संभाल कर रखते हैं। यही यादें हैं जो आपको बदलाव का आइना दिखाती है। कमरें के कोने से लेकर छत की धूप तक ले जाता था यह काम। खैर काम तो सर्द दर्द है। यही काम ही तो नहीं हो पा रहा था। काम का रोना ही
18 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x