कुंडलिया

07 जुलाई 2020   |  महातम मिश्रा   (283 बार पढ़ा जा चुका है)


"कुंडलिया"


मधुवन में हैं गोपियाँ, गोकुल वाले श्याम।

रास रचाने के लिए, है बरसाने ग्राम।।

है बरसाने ग्राम, नाम राधिका कुमारी।

डाल कदम की डाल, झूलती झूला प्यारी।।

कह गौतम कविराय, बजा दो वंशी उपवन।

गोवर्धन गिरिराज, आज फिर आओ मधुवन।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मुक्तक



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जून 2020
कु
"कुंडलिया"बदरी अब छँटने लगी, आसमान है साफधूप सुहाना लग रहा, राहत देती हाँफराहत देती हाँफ, काँख कुछ फुरसत पाईझुरमुट गाए गीत, रीत ने ली अंगड़ाईकह गौतम कविराय, उतारो तन से गुदरीकरो प्रयाग नहान, भूल जाओ प्रिय बदरी।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 जून 2020
30 जून 2020
दो
"दोहा गीतिका"मुट्ठी भर चावल सखी, कर दे जाकर दानगंगा घाट प्रयाग में, कर ले पावन स्नानसुमन भाव पुष्पित करो, माँ गंगा के तीरसंगम की डुबकी मिले, मिलते संत सुजान।।पंडित पंडा हर घड़ी, रहते हैं तैयारहरिकीर्तन हर पल श्रवण, हरि चर्चा चित ध्यान।।कष्ट अनेकों भूलकर, पहुँचें भक्त अपारबैसाखी की क्या कहें, बुढ़ऊ जस
30 जून 2020
30 जून 2020
मु
"मुक्त काव्य"पेड़ आम का शाहीन बाग में खड़ा हूँफलूँगा इसी उम्मीद में तो बढ़ा हूँजहाँ बौर आना चाहिएफल लटकना चाहिएवहाँ गिर रही हैं पत्तियाँबढ़ रही है विपत्तियांशायद पतझड़ आ गयाअचानक बसंत कुम्हिला गयाफिर से जलना होगा गर्मियों मेंऔर भीगना होगा बरसातियों मेंफलदार होकर भी जीवन से कुढ़ा हूँपेड़ आम का शाहीन बाग में
30 जून 2020
03 जुलाई 2020
भो
"होली गीत" होरी खेलन हम जईबे हो मैया गाँव की गलियाँसरसों के खेतवा फुलईबे हो मैया गाँव की गलियाँ।।रंग लगईबें, गुलाल उड़ेईबें, सखियन संग चुनर लहरैबेंभौजी के चोलिया भिगेईबें हो मैया गाँव की गलियाँ.....होरी खेलन.....पूवा अरु पकवान बनेईबें, नईहर ढंग हुनर दिखलईबेंबाबुल के महिमा बढ़ेईबें हो मैया गाँव की गलिय
03 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
दो
तेरे बहिष्कार का आगाज़ भारत की जनता व सरकार दोनों ने कर दिया है रे पापी चीन, अब तेरा क्या होगा कालिया.......धाँय धाँय धाँय......."दोहा" उतर गया तू नजर से, औने बौने चीन।फेंक दिया भारत तुझे, जैसे खाली टीन।।नजर नहीं तेरी सही, घटिया तेरा माल।सुन ले ड्रेगन कान से, बिगड़ी तेरी चाल।।सुन पाक बिलबिला रहा, अब
07 जुलाई 2020
07 जुलाई 2020
कु
"कुंडलिया"बचपन में पकड़े बहुत, सबने तोतारामकिये हवाले पिंजरे, बंद किए खग आमबंद किए खग आम, चपल मन खुशी मिली थी कैसी थी वह शाम, चाँदनी रात खिली थीकह गौतम कविराय, न कर नादानी पचपनहो जा घर में बंद, बहुरि कब आए बचपन।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
07 जुलाई 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
कु
07 जुलाई 2020
कु
03 जुलाई 2020
कु
03 जुलाई 2020
मु
03 जुलाई 2020
मु
03 जुलाई 2020
गी
07 जुलाई 2020
मु
07 जुलाई 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x